Doubtnut Promotions Sticky

एक बंध को तोड़ने के लिए आवश्यक ऊर्जा की मात्रा उसी बंध के बनने में मुक्त ऊर्जा की मात्रा के समान होती है। गैसीय अवस्था में, एक बंध के समांश विदलन के लिए आवश्यक ऊर्जा बंध वियोजन ऊर्जा (BDE) या बंध सामर्थ्य कहलाती है। BDE बंध के इ-लक्षण तथा प्राप्त मूलक के स्थायित्व द्वारा प्रभावित होती है। छोटे बंध प्रारूपिक रूप से प्रबल बंध होते हैं। कुछ बंधों की BDE नीचे दी गयी है।
एक बंध को तोड़ने के लिए आवश्यक ऊर्जा की मात्रा उसी बंध के बनने में मुक्त ऊर्जा की मात्रा के समान होती है। गैसीय अवस्था में, एक बंध के समांश विदलन के लिए आवश्यक ऊर्जा बंध वियोजन ऊर्जा (BDE) या बंध सामर्थ्य कहलाती है। BDE बंध के इ-लक्षण तथा प्राप्त मूलक के स्थायित्व द्वारा प्रभावित होती है। छोटे बंध प्रारूपिक रूप से प्रबल बंध होते हैं। कुछ बंधों की BDE नीचे दी गयी है।        CI- CI^(∙)(g) +Cl^(∙)(g) + Cl^(∙)(g) DeltaH^@ = 58
CICI(g)+Cl(g)+Cl(g)ΔH=58kcal mol1
H3CCI(g)H3C(g)+Cl(g)ΔH=85kcal mor1
HCl(g)H(g)+ClΔH=103kcal mol1
कॉलम J में दिए गए C-H बंधों (गहरे दर्शाए गए) का कॉलम K में इनकी BDE के साथ सही मिलान है
ocr_image

A

Piii,Qiv,Rii,si

B

Pi,Qii,Riii,siv

C

Piii,Qii,Ri,siv

D

Pii,Qi,Riv,siii

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


HCH(CH3)2HCCH3CH3
HCH2PhCH2Phि
HCH=CH2CH=CH2
HCCHC=CH
मुक्त मूलक के स्थायित्व का क्रम
Q>P>R>S
मुक्त मूलक का स्थायित्व 1
बंध ऊर्जा का क्रम:
S>R>P>Q

|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions