Doubtnut Promotions Sticky

छात्र विद्यालय में रहकर जो कुछ सीखता है उसकी जाँच हेतु जो परीक्षाएँ आयोजित की जाती हैं वे कहलाती हैं

A

उपलब्धि परीक्षण

B

निष्पत्ति परीक्षण

C

निदानात्मक मूल्यांकन

D

(a) व (b)

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D

|
Answer

Step by step video, text & image solution for छात्र विद्यालय में रहकर जो कुछ सीखता है उसकी जाँच हेतु जो परीक्षाएँ आयोजित की जाती हैं वे कहलाती हैं by Hindi experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 14 exams.

Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    सही विकल्प द्वारा वाक्य पूरा करोः भाषा संकेतात्मक है इसमे जो ध्वनियाँ उच्चारित होती हैं वे---

    Aध्वनियॉ संकेतात्मक या प्रतीतात्मक होती हैं
    Bध्वनियॉ संकेतात्मक या प्रतीकात्मक होती हैं
    Cध्वनियॉ संकेतात्मक या प्रगीतात्मक होती हैं
    Dध्वनियॉ संकेतात्मक या अप्रतीतात्मक होती हैं
  • Question 1 - Select One

    सही विकल्प बताओ:
    भाषा संकेतात्मक है इसमें जो ध्वनियाँ उच्चरित होती हैं वे:

    Aध्वनियाँ संकेतात्मक या अप्रतीकात्मक होती हैं।
    Bध्वनियाँ संकेतात्मक या प्रतीतात्मक होती हैं।
    Cध्वनियाँ संकेतात्मक या प्रतीकात्मक होती हैं।
    Dध्वनियाँ संकेतात्मक या प्रगीकात्मक होती हैं।
  • Question 1 - Select One

    दिए गए पद्यांश को ध्यान से पढ़िए और उसके आधार पर पूछे गए प्रश्न का यथोचित उत्तर दीजिए।
    पद्यांश 2
    मृदु मिट्टी के हैं बने हुए,
    मधु-घट फूटा ही करते हैं।
    लघु जीवन लेकर आए हैं।
    प्याले टूटा ही करते हैं।
    फिर भी मदिरालय के अन्दर
    मधु के घट हैं, मधु प्याले हैं,
    जो मादकता के मारे हैं,
    वे मधु लूटा ही करते हैं,
    वह कच्चा पीने वाला है,
    जिसकी ममता घट प्यालों पर,
    जो सच्चे मधु से जला हुआ
    कब रोता है, चिल्लाता है
    जो बीत गई सो बात गई।
    मधु कौन लूटा करते हैं?

    Aकच्चा पीने वाले
    Bमधु से जलने वाले
    Cमदिरालय वाले
    Dजो मादकता के मारे हैं
  • Question 1 - Select One

    दिए गए पद्यांश को ध्यान से पढ़िए और उसके आधार पर पूछे गए प्रश्न का यथोचित उत्तर दीजिए।
    पद्यांश 2
    मृदु मिट्टी के हैं बने हुए,
    मधु-घट फूटा ही करते हैं।
    लघु जीवन लेकर आए हैं।
    प्याले टूटा ही करते हैं।
    फिर भी मदिरालय के अन्दर
    मधु के घट हैं, मधु प्याले हैं,
    जो मादकता के मारे हैं,
    वे मधु लूटा ही करते हैं,
    वह कच्चा पीने वाला है,
    जिसकी ममता घट प्यालों पर,
    जो सच्चे मधु से जला हुआ
    कब रोता है, चिल्लाता है
    जो बीत गई सो बात गई।
    कवि पाठक से क्या आग्रह करता है?

    Aप्याले तोड़ने के लिए
    Bबीती हुई बातों को भुलाने के लिए
    Cमदिरालय जाने के लिए
    Dमधु लूटने के लिए
  • Question 1 - Select One

    निर्देश: निम्नलिखित गद्यान्श के आधार पर प्रश्न तक के उत्तर दीजिए:
    ?"मानव के पास समस्त जगत को देखने-परखने के दो नजरिए हैं एक आशावादी, दूसरा निराशावादी। इसे सकारात्मक और नकारात्मक दृष्टि भी कहते हैं। जो आशावादी या सकारात्मक मार्ग पर चलते हैं, वे सदैव आनन्दकी अनुभूति प्राप्त करते हैं तथा निराशावादी या नकारात्मक दृष्टि वाले दुःख के सागर में डूबे रहते हैं और सदा अपने आपको प्रस्थापित करने के लिए तर्क किया करते हैं। वे भूल जाते हैं कि तर्क और कुर्तक से ज्ञान का नाश होता है एवं जीवन में विकृति उत्पन्न होती है। आशावादी तर्क नहीं करता, फलस्वरूप वह आंतरिक आनन्द की प्रतीति करता है। वह मानता है कि आत्मिक आनंद कभी प्रहार या काटने की प्रक्रिया में नहीं है। इसीलिए जगत में सदा आशावाद ही पनपा है, उसने ही महान व्यक्तियों का सृजन किया है। निराशावाद या नकारात्मकता की नींव पर कभी किसी जीवन प्रासाद का निर्माण नहीं हुआ।
    'वे' सर्वनाम है

    Aअन्यपुरुष-पुरुषवाचक
    Bउत्तमपुरुष-पुरुषवाचक
    Cनिजवाचक
    Dसम्बंधवाचक
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सबसे उपयुक्त उत्तर वाले उचित विकल्प चुनिए:
    समस्याओं का हल ढूँढने की क्षमता पर एक अध्ययन किया गया। इसमें का भारत में तीन तरह के बच्चों की बीच तुलना की गई-एक तरफ वे बच्चे जो दुकानदारी करते हैं और स्कूल नहीं जाते, ऐसे बच्चे जो दुकान संभालते य हैं और स्कूल भी जाते हैं और तीसरा समूह उन बच्चों का था जो स्कूल जाते हैं पर दुकान पर कोई मदद नहीं करते। उनसे गणना के तथा इबारती सवाल पूछे गए। दोनों ही तरह के सवालों में उन स्कूली बच्चों ने जो दुकानदार नहीं हैं, मौखिक गणना या मनगणित का प्रयोग बहुत कम किया, बनिस्बत उनके जो दुकानदार थे। स्कूली बच्चों ने ऐसी गलतियाँ भी की, जिनका कारण नहीं समझा जा सका। इससे यह साबित होता है कि दुकामदारी से जुड़े हर बच्चे हिसाब लगाने में गलती नहीं कर सकते क्योंकि इसका सीधा असर उनके काम पर पड़ता है, जबकि स्कूलों के बच्चे वही हिसाब लगाने में अक्सर भयंकर गलतियाँ कर देते हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि जिन बच्चों के रोजमर्ग की जिंदगी में इस तरह के सवालों से जूझना पड़ता है, वे अपने लिए जरूरी गणितीय क्षमता हासिल कर लेते हैं। लेकिन साथ ही इस बात पर भी गौर करना महत्त्वपूर्ण है कि इस तरह की दक्षताएँ एक स्तर तक और एक कार्य-क्षेत्र तक सीमित होकर रह जाती हैं। इसलिए वे सामाजिक व सांस्कृतिक परिवेश जो की ज्ञान को बनाने व बढ़ाने में मदद करते हैं, वही उस ज्ञान को संकुचित और सीमित भी कर सकते हैं।
    जो दक्षताएँ हमारे दैनिक जीवन में काम नहीं आती उनमें हमारा प्रदर्शन अक्सर

    Aसंतोषजनक होता है
    Bखराब-अच्छा होता रहता है
    Cखराब होता है
    Dअच्छा होता है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के सबसे उपयुक्त उत्तर वाले उचित विकल्प चुनिए:
    समस्याओं का हल ढूँढने की क्षमता पर एक अध्ययन किया गया। इसमें का भारत में तीन तरह के बच्चों की बीच तुलना की गई-एक तरफ वे बच्चे जो दुकानदारी करते हैं और स्कूल नहीं जाते, ऐसे बच्चे जो दुकान संभालते य हैं और स्कूल भी जाते हैं और तीसरा समूह उन बच्चों का था जो स्कूल जाते हैं पर दुकान पर कोई मदद नहीं करते। उनसे गणना के तथा इबारती सवाल पूछे गए। दोनों ही तरह के सवालों में उन स्कूली बच्चों ने जो दुकानदार नहीं हैं, मौखिक गणना या मनगणित का प्रयोग बहुत कम किया, बनिस्बत उनके जो दुकानदार थे। स्कूली बच्चों ने ऐसी गलतियाँ भी की, जिनका कारण नहीं समझा जा सका। इससे यह साबित होता है कि दुकामदारी से जुड़े हर बच्चे हिसाब लगाने में गलती नहीं कर सकते क्योंकि इसका सीधा असर उनके काम पर पड़ता है, जबकि स्कूलों के बच्चे वही हिसाब लगाने में अक्सर भयंकर गलतियाँ कर देते हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि जिन बच्चों के रोजमर्ग की जिंदगी में इस तरह के सवालों से जूझना पड़ता है, वे अपने लिए जरूरी गणितीय क्षमता हासिल कर लेते हैं। लेकिन साथ ही इस बात पर भी गौर करना महत्त्वपूर्ण है कि इस तरह की दक्षताएँ एक स्तर तक और एक कार्य-क्षेत्र तक सीमित होकर रह जाती हैं। इसलिए वे सामाजिक व सांस्कृतिक परिवेश जो की ज्ञान को बनाने व बढ़ाने में मदद करते हैं, वही उस ज्ञान को संकुचित और सीमित भी कर सकते हैं।
    अनुच्छेद के आधार पर कहा जा सकता है कि

    Aबच्चे रोजमर्रा के जीवन में काम आने वाली दक्षताओं को स्वतः ही हासिल कर लेते हैं
    Bसिर्फ दुकानदार बच्चे ही गणित सीख सकते हैं
    Cबच्चों को गणित सीखने के लिए दुकानदारी करनी चाहिए
    Dबच्चों को गणित सीखना चाहिए

Similar Questions