Doubtnut Promotions Sticky

प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्य-पुस्तकों में किस तरह की रचनाओं को स्थान दिया जाना चाहिए?

A

केवल कहानियाँ अथवा कविताएँ।

B

विदेशी साहित्य की रचनाएँ।

C

ऐसी रचनाएँ जो बच्चों के परिवेश से जुड़ी हों और जिनमें भाषा की अलग-अलग छटाएँ हों।

D

जो प्रत्यक्ष रूप मूल्यों पर आधारित हों।

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:C

|
Answer

Step by step video, text & image solution for प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्य-पुस्तकों में किस तरह की रचनाओं को स्थान दिया जाना चाहिए? by Hindi experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 14 exams.

Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    भाषा की पाठ्य-पुस्तकों में दिए गए अभ्यास

    Aबच्चों की चीजों को परखने, गहरा सेजाने और व्यापक अनुभव स्तर से तादाम्य का अवसर देते हैं
    Bबच्चों की भाषायी और सांस्कृतिक विविधता को सीमित करते?
    Cचल्चों को विस्तृत अभ्यास करने और शिक्षको को बच्चों की भाषा में सुधार करने के तरीके बताते हैं
    Dबच्चों का सही-सही आकलन करने में सदैव मदद करते हैं कि वे क्या नहीं जानते?
  • Question 1 - Select One

    उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा की पाठ्य-पुस्तकों में अन्यय विषयों के पाठों को स्थान देने का एक महत्त्वपूर्ण उद्देश्य है

    Aदूसरे विषयों का ज्ञान देना।
    Bविषय की शब्दावली का विकास।
    Cअन्य विषयों का कार्यभार कम करना।
    Dहिन्दी की पाठ्य-पुस्तक को समावेशी बनाना।
  • Question 1 - Select One

    उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्य-पुस्तक में विविध प्रकार की साहित्यिक रचनाओं के समावेश का मुख्य उद्देश्य यह है

    Aबच्चों को सभी प्रकार की साहित्यिक विधाओं में पारंगत करना। न
    Bविभिन्न प्रकार की साहित्यिक विधाओं की भाषायी संरचनाओं से परिचित होने का अवसर देना।
    Cविभिन्न साहित्यिक विधाओं के प्रसिद्ध रचनाकारों से परिचित करानी
    Dपाठ्य-पुस्तक निर्माण की परंपरा का निर्वाह करना।
  • Question 1 - Select One

    भाषा की पाठ्य-पुस्तक में ऐसे पाठ चुने जाएँ जो

    Aसंक्षिप्त हों
    Bप्रसिद्ध लेखकों के हों।
    Cबच्चों के संवेदना- लोक के साथी बन सकें।
    Dअनिवार्यतः मूल्यों से ओत-प्रोत हो।
  • Question 1 - Select One

    'उच्च प्राथमिक स्तर की हिंदी भाषा की पाठ्य-पुस्तकों में हिंदीतर भाषा को भी जगह मिलनी चाहिए।' - इस कथन का औचित्य नहीं है।

    Aहिंदीतर भाषाओं के माध्यम से संवेदनाओं को विस्तार देना।
    Bहिंदीतर भाषियों के आक्रोश को शांत करना।
    Cहिंदीतर भाषा के साहित्य से परिचित कराना।
    Dहिंदीतर भाषाओं की रचना-शैलियों से परिचित कराना।
  • Question 1 - Select One

    भाषा की पाठ्य-पुस्तक में लोकगीतों को स्थान देना

    Aभारत की सांस्कृतिक विशेषताओं से परिचित होने में मदद करता है।
    Bबच्चों को संगीत सिखाने से जुड़ा है
    Cगायन को महत्त्व देना है
    Dपरम्परा का निर्वाह करना है।
  • Question 1 - Select One

    उच्च प्राथमिक स्तर पर पाठ्य-पुस्तकों को न केवल विषय-वस्तुओं के लिए स्थान उपलब्ध करवाना चाहिए बल्कि

    Aमानक हिंदी के लिए स्थान उपलब्ध करवाना चाहिए
    Bविविध भाषाओं के लिए भी स्थान उपलब्ध करवाना चाहिए
    Cव्याकरण पर भी अत्यंत बल देना चाहिए
    Dमानक भाषा के प्रयोग पर अत्यंत बल देना चाहिए
  • Question 1 - Select One

    भाषा की पाठ्य पुस्तक में ऐसे पाठ चुने जाएँ, जो

    Aसंक्षिप्त हो
    Bप्रसिद्ध लेखकों के हों
    Cबच्चों के संवेदना-लोक के साथी बन सके
    Dअनिवार्यतः मूल्यों से ओत-प्रोत हो
  • Question 1 - Select One

    भाषा की पाठ्य-पुस्तक में सबसे महत्त्वपूर्ण पक्ष है-

    Aकागज की गुणवत्ता और छपाई
    Bवस्तुनिष्ठ अभ्यास
    Cव्याकरणिक नियमों की सैद्धान्तिक व्याख्या
    Dपाठों का उद्देश्यपूर्ण चयन
  • Question 1 - Select One

    स्त्री को सौंदर्य का प्रतिमान बना दिया जाना ही उसका बंधन बन जाता है।' - इस विषय पर कक्षा में चर्चा कीजिए। भाषा की पाठ्य-पुस्तक में इस प्रश्न को स्थान देने का क्या औचित्य है ?

    Aभाषा को स्त्री विमर्श से जोड़ना।
    Bसौंदर्य-प्रतिमान बनाना।
    Cस्त्री-बंधन की चर्चा करना।
    Dसौंदर्य प्रसाधनों का विरोध करना।