Doubtnut Promotions Sticky

298 K पर शुद्ध द्रवों, A और B के वाष्प दाब क्रमश: 400 और 600 mm Hg हैं। इन दो द्रों को मिश्रित करने पर, उनके प्रारंभिक आयतनों का योगफल अंतिम मिश्रण के आयतन के बराबर होता है। मिश्रण में द्रव B का मोल प्रभाज 0.5 है। अंतिम विलयन का वाष्प दाब और वाष्प प्रावस्था में A और B घटों के मोल प्रभाज क्रमशः हैं

A

500 mm Hg, 0.5, 0.5

B

450 mm Hg, 0.4, 0.6

C

450 mm Hg, 0.5, 0.5

D

500 mm Hg. 0.4, 0.6

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D


माना कि मिश्रण में XA XB द्रव A और B के मोल प्रभाज है। दिया गया है,
PA=400mmHg,PB=600mmHg
P=XA.PA+XB.PB=0.5×400+0.5×600=500mmHg
अब, वाष्प में A का मोल प्रभाज,
YA=PAP=0.5×400500=0.4
इसलिए, [PA=XAPA]
और वाष्प में B का मोल प्रभाज, YB=10.4=0.6

Was this answer helpful?32
Doubtnut Promotions Banner
Updated on:21/07/2023

Similar Questions