Doubtnut Promotions Sticky

हमारे भोजन के घटक है

A

कार्बोहाइड्रेट

B

विटामिन

C

वसा

D

सभी

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D

|
Answer

Step by step video, text & image solution for हमारे भोजन के घटक है by Biology experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 6 exams.

Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    सेठ जी ने भोजन के लिए बैठने पर किसको बैठा देखा?

    Aबकरी को
    Bगाय को
    Cबच्चे को
    Dकुत्ते को
  • Question 1 - Select One

    कुंदनपुर की धर्मशाला के चबूतरे पर भूखेपेट जैसे-तैसे रात बिताकर पौ फटे वहाँ से चलकर, अगले दिन शाम को सेठ अपने घर आ पहुँचे।
    लेखक-यशपाल
    सेठ जी भोजन के लिए कहाँ बैठे?

    Aसेठ जी भोजन के लिए नदी के किनारे बैठे
    Bसेठ जी भोजन के लिए सड़क किनारे बैठ गए
    Cसेठ जी भोजन के लिए एक भोजनालय में जाकर बैठ गए
    Dवृक्षों के कुंज और कुएँ के पास सेठ जी भोजन के लिए बैठे।
  • Question 1 - Select One

    हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
    सामाजिकता कहाँ नहीं दिखाई देती है

    Aमुहल्ले के लोगों में
    Bशहरी संस्कृति में
    Cगाँव के लोगों में
    Dकस्बों में
  • Question 1 - Select One

    हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
    हमारी सामाजिक व्यवस्था की यह अच्छाई अब लगभग समाप्त होती जा रही है

    Aकिसी को कष्ट में जानकर मुँह मोड़ लेना
    Bस्वार्थ में लिप्त रहना
    Cदूसरों को सहारा देना
    Dकिसी की भी मदद न करना
  • Question 1 - Select One

    हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
    देश के असली निर्माता बीज बो रहे हैं

    Aसच्चाई के
    Bईमानदारी के
    Cनेकी और मानवीयता के
    Dइन सभी के
  • Question 1 - Select One

    हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
    इंसानियत के तौर पर इनमें से क्या नहीं करना चाहिए

    Aहमदर्दी
    Bप्यार
    Cआपसी समझदारी
    Dद्वेषयुक्त प्रचार
  • Question 1 - Select One

    हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
    सामाजिक सहकारिता समाप्त होने के क्या कारण हैं

    Aशहरी संस्कृति और स्वार्थ
    Bसामाजिक व्यवस्था
    Cझूठ और द्वेषयुक्त प्रचार
    Dधुआँधार भाषण
  • Question 1 - Select One

    हमारा देश शान्ति प्रिय देश है। प्राचीन काल से ही हमारी इस प्रकार की सांस्कृतिक परम्परा है। हमने अपने शत्रुओं को भी उनके पद के अनुसार सम्मान दिया है। उनकी वीरता का सम्मान किया है। वीरता का श्रेय उनके माता-पिता को दिया है। वीरता का सम्मान करते हुए हमें तब विचार करना पड़ता है। जब उनकी वीरता दिशा हीन हो जाती है और वे मानवता को शर्मसार कर देते हैं। हमारे यहाँ का नेतृत्व जब इस प्रकार की घटनाओं का अवलोकन करता है तो सम्पूर्ण विश्व को एकजुट होने को कहता है, किन्तु जब अन्य राष्ट्र इस प्रकार का सहयोग था आवास स्वीकार न ही करते हैं तो हमारा नेतृत्व मानवता की सहायता करता हुआ नटस्थ हो जाता है। यह विश्वविदित है कि हमारे प्रथम प्रधानमंत्री शान्तिप्रिय थे। उनके पंचशील सिद्धान्त एवं पंचवर्षीय विकास योजनाएँ आज भी जनमानस के परल पर अंकित हैं।
    हमारा देश सारे संसार को क्या कहता है?

    Aसहयोग करने को
    Bएकजुट होने को
    Cएकजुट होने को
    Dजनरक्षा करने को
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन-सा, कनाडा, चिली तथा जर्मनी के समान है?

    Aओटावा
    Bशिकागो
    Cपेरिस
    Dसिंगापुर
  • Question 1 - Select One

    हमारे आँखों में वर्ण की सूचनाये कौन देता है -

    Aशंकु
    Bशलाका
    Cअंध बिंदु
    Dआइरिस