Doubtnut Promotions Sticky

हमारी सामाजिक व्यवस्था में एक ऐसी अच्छाई थी जिसे यदि निभाया जाए तो बहुत अच्छा होगा। मुहल्ले, टोले, गाँव, कस्बे आदि में दूसरों को सहारा देने, दुश्मन को भी पारिवारिक कष्ट में जानकर उसे मदद करने की स्वस्थ परम्परा थी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। कुछ तो शहरी संस्कृति और कुछ निहित स्वार्थों की मुठभेड़ इन्हें खत्म कर रही है। इसके बावजूद भी इक्का-दुक्का ऐसी खबरें दिखाई दे जाती हैं तो मन को शांति मिलती है कि हमारे देश के छोटे- छोटे गाँव कस्बों के नितांत साधारण लोग इंसानियत के तौर पर हमदर्दी, प्यार, आपसी समझदारी और सहारे से राष्ट्र-निर्माण के उस पुनीत कार्य में लगे हुए हैं जो धुआँधार भाषणों से ज्यादा ठोस और महत्वपूर्ण है। इस देश के असली निर्माता वे ही लोग हैं जो प्रचार से दूर अपने कार्य में जुटे हुए हैं। झूठ और द्वेषयुक्त प्रचार के कोलाहल में मन की सच्चाई, ईमानदारी, नेकी और मानवीयता के बीज ऐसे ही लोग बो रहे हैं। यदि देश के एक भी बच्चे के मन में उन्होंने यह गुण जगाया तो यह वोट एकत्र करने से अधिक सराहनीय कार्य होगा।
इंसानियत के तौर पर इनमें से क्या नहीं करना चाहिए

A

हमदर्दी

B

प्यार

C

आपसी समझदारी

D

द्वेषयुक्त प्रचार

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D

Doubtnut Promotions Banner
|