Doubtnut Promotions Sticky

रेल द्वारा बुक कराकर भेजा गया घरेलू सामान आपके निवास के निकटस्थ स्टेशन तक नहीं पहुंचा है, इसकी शिकायत करते हुए रेल प्रबंधक को एक पत्र लिखिए।

Text Solution
Verified by Experts

अ.ब.स.
94, साबरमती गार्डन
अहमदाबाद।
सेवा में,
रेल प्रबंधक
वाराणसी कैन्ट रेलवे स्टेशन
वाराणसी
दिनांक : 25 मार्च, 20XX
विषय-सामान न पहुंचने का शिकायती पत्र।
महोदय,
मैं एक सरकारी कर्मचारी हूँ और अहमदाबाद से तबादले के बाद वाराणसी आया हूँ। मैंने अपना ज्यादातर घरेलू सामान लकड़ियों और स्टील के बक्सों में अहमदाबाद रेलवे स्टेशन पर वाराणसी कैन्ट स्टेशन के लिए बुक किया था। रेलवे की बुकिंग रसीद संख्या XXXX दिनांक 25 फरवरी, 20XX है। क्योंकि घरेलू सामान अभी तक यहाँ वाराणसी नहीं पहुँचा है, मैंने पार्सल घर और स्टेशन मास्टर से सम्पर्क किया, परन्तु वे कोई सन्तोषजनक उत्तर नहीं दे पा रहे हैं। रेलवे की पार्सल ट्रैकिंग की इन्टरनेट सेवा भी काम नहीं कर रही है। क्योंकि सामान घरेलू है इसलिए हमें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आपसे अनुरोध है कि हमारा घरेलू सामान जल्द से जल्द वाराणसी स्टेशन पर मँगवाया जाए और हमें हमारा सामान दिया जाए।
अग्रिम धन्यवाद
भवदीय
अ.ब.स.
9568XXXXXX

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    एक बार रोम का राजा एक भीषण रोग से पीड़ित हो गया। उस समय के देश-विदेश के प्रख्यात एवं निष्णात चिकित्सक राजा के उपचार के लिये बुलाये गये, किन्तु अच्छी-से-अच्छी औषधियों के प्रयोग से भी वे राजा के रोग का निदान न कर सके। राजा का रोग पहले की अपेक्षा और अधिक बढ़ता चला गया। असाध्य रोग के कारण राजा के हृदय में विकलता और राज्य में उदासी छा गई। एक दिन एक वृद्ध पुरुष राजा के प्रासाद में आया और उसने रोगग्रस्त राजा ने कहा-"राजन्! एक विशेष औषधि के सेवन से आपका रोग ठीक हो सकता है। यह विशेष औषधि किसी अन्य व्यक्ति के पित्ताशय (पित्त की थैली) GALL BLADDER' से तैयार की जाती है। यह औषधि आपके रोग को मूल से उखाड़ने की क्षमता ही नहीं रखती अपितु आपको चिरंजीवी भी बना सकती है।"
    वृद्ध के वचनों को सुनकर राजा के निराश मन में आशा का संचार हो गया। उसने वृद्ध के प्रति मन ही मन कृतज्ञता अभिव्यक्त करते हुए राज्य के चिकित्सकों को एक ऐसे व्यक्ति को तलाश करने का आदेश दिया जिसके पित्त की थैली से वह औषधि बनाई जा सके। अन्ततः चिकित्सकों को एक ऐसा परिवार मिल गया जिसे हाथ की तंगी के कारण भरपेट भोजन भी उपलब्ध नहीं होता था। इस परिवार में केवल तीन सदस्य थे-एक लड़का और माता-पिता। चिकित्सकों ने लड़के के माता-पिता को प्रभूत धन का प्रलोभन देकर उनके एकमात्र पुत्र को खरीदने का प्रस्ताव रखा। धन की लालसा ने माता-पिता की आँखों पर पर्दा डाल दिया। उनकी दृष्टि में धन-मोह के सम्मुख पुत्र-मोह फीका पड़ गया और उन्होंने अपने घर के दीपक को चिकित्सकों के हाथों बेच दिया।
    चिकित्सक लड़के को राजा के सामने लेकर आये। राजा ने लड़के की पित्त की थैली को लेने के विषय में राज्य-पुरोहित से विचार-विमर्श किया| पुरोहित ने कहा-“राजन्! यद्यपि देश सर्वोपरि होता है, किन्तु उसका शासक उससे भी बड़ा होता है, क्योंकि वह देश की रक्षा करता है तथा अहर्निश उसकी समृद्धि के लिये प्रयास करता है। ऐसे शासक के लिये किसी भी व्यक्ति के जीवन की बलि देना कोई अपराध नहीं है।"
    पुरोहित के वचनों को सुनकर लड़के को राजा के सम्मुख खड़ा कर दिया गया। जल्लाद भी तलवार लेकर वहाँ आ पहुँचा। चिकित्सक औषधि तैयार करने वाले उपकरणों को लेकर वहाँ खड़े हो गये। अब राजा के आदेश की प्रतीक्षा थी। उसी क्षण लड़का आकाश की ओर देखकर जोर-जोर से हँसने लगा। उसे हँसते देखकर, सम्राट ने लड़के से हँसने का कारण पूछा। लड़के ने कहा, "जिस देश में माँ-बाप धन के लिये सन्तान को बेचें, पुरोहित निरपराध मनुष्य की हत्या को उचित ठहराये, देश और प्रजा की रक्षा करने वाला शासक निर्दोष प्राणी की जान लेकर अपनी जान बचाये, वहाँ तो ऊपर वाले के न्याय पर ही भरोसा करना पड़ेगा।"
    लड़के की बातों को सुनकर सम्राट की आँखें खुल गई उस अपनी भूल पर पश्चात्ताप होने लगा। उसका मन ग्लानि से भर गया। उसके अन्तस्तल में मानवता के अंकुर फूट पड़े। उसने जल्लाद को वापस कर दिया।
    राजा के प्रासाद में कौन आया?

    Aचिकित्सक
    Bएक वृद्ध पुरुष
    Cएक बालक
    Dएक युवा पुरुष
  • Question 1 - Select One

    एक बार रोम का राजा एक भीषण रोग से पीड़ित हो गया। उस समय के देश-विदेश के प्रख्यात एवं निष्णात चिकित्सक राजा के उपचार के लिये बुलाये गये, किन्तु अच्छी-से-अच्छी औषधियों के प्रयोग से भी वे राजा के रोग का निदान न कर सके। राजा का रोग पहले की अपेक्षा और अधिक बढ़ता चला गया। असाध्य रोग के कारण राजा के हृदय में विकलता और राज्य में उदासी छा गई। एक दिन एक वृद्ध पुरुष राजा के प्रासाद में आया और उसने रोगग्रस्त राजा ने कहा-"राजन्! एक विशेष औषधि के सेवन से आपका रोग ठीक हो सकता है। यह विशेष औषधि किसी अन्य व्यक्ति के पित्ताशय (पित्त की थैली) GALL BLADDER' से तैयार की जाती है। यह औषधि आपके रोग को मूल से उखाड़ने की क्षमता ही नहीं रखती अपितु आपको चिरंजीवी भी बना सकती है।"
    वृद्ध के वचनों को सुनकर राजा के निराश मन में आशा का संचार हो गया। उसने वृद्ध के प्रति मन ही मन कृतज्ञता अभिव्यक्त करते हुए राज्य के चिकित्सकों को एक ऐसे व्यक्ति को तलाश करने का आदेश दिया जिसके पित्त की थैली से वह औषधि बनाई जा सके। अन्ततः चिकित्सकों को एक ऐसा परिवार मिल गया जिसे हाथ की तंगी के कारण भरपेट भोजन भी उपलब्ध नहीं होता था। इस परिवार में केवल तीन सदस्य थे-एक लड़का और माता-पिता। चिकित्सकों ने लड़के के माता-पिता को प्रभूत धन का प्रलोभन देकर उनके एकमात्र पुत्र को खरीदने का प्रस्ताव रखा। धन की लालसा ने माता-पिता की आँखों पर पर्दा डाल दिया। उनकी दृष्टि में धन-मोह के सम्मुख पुत्र-मोह फीका पड़ गया और उन्होंने अपने घर के दीपक को चिकित्सकों के हाथों बेच दिया।
    चिकित्सक लड़के को राजा के सामने लेकर आये। राजा ने लड़के की पित्त की थैली को लेने के विषय में राज्य-पुरोहित से विचार-विमर्श किया| पुरोहित ने कहा-“राजन्! यद्यपि देश सर्वोपरि होता है, किन्तु उसका शासक उससे भी बड़ा होता है, क्योंकि वह देश की रक्षा करता है तथा अहर्निश उसकी समृद्धि के लिये प्रयास करता है। ऐसे शासक के लिये किसी भी व्यक्ति के जीवन की बलि देना कोई अपराध नहीं है।"
    पुरोहित के वचनों को सुनकर लड़के को राजा के सम्मुख खड़ा कर दिया गया। जल्लाद भी तलवार लेकर वहाँ आ पहुँचा। चिकित्सक औषधि तैयार करने वाले उपकरणों को लेकर वहाँ खड़े हो गये। अब राजा के आदेश की प्रतीक्षा थी। उसी क्षण लड़का आकाश की ओर देखकर जोर-जोर से हँसने लगा। उसे हँसते देखकर, सम्राट ने लड़के से हँसने का कारण पूछा। लड़के ने कहा, "जिस देश में माँ-बाप धन के लिये सन्तान को बेचें, पुरोहित निरपराध मनुष्य की हत्या को उचित ठहराये, देश और प्रजा की रक्षा करने वाला शासक निर्दोष प्राणी की जान लेकर अपनी जान बचाये, वहाँ तो ऊपर वाले के न्याय पर ही भरोसा करना पड़ेगा।"
    लड़के की बातों को सुनकर सम्राट की आँखें खुल गई उस अपनी भूल पर पश्चात्ताप होने लगा। उसका मन ग्लानि से भर गया। उसके अन्तस्तल में मानवता के अंकुर फूट पड़े। उसने जल्लाद को वापस कर दिया।
    राजा ने लड़के से क्या पूछा?

    Aतुम क्यों हँस रहे हो?
    Bतुम मरने के लिये तैयार हो?
    Cतुम क्यों रो रहे हो?
    Dक्या तुम्हें मृत्यु से डर नहीं लगता?

Similar Questions