Doubtnut Promotions Sticky

ट्राइफ्लुओरो ट्राइमेथिल ऐमीन [(CF3)3N] ट्राइमेथिल ऐमीन से कम क्षारीय होती है । समझाइए।

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

ऐमीन का क्षारकीय गुण नाइट्रोजन परमाणु द्वारा एकाकी इलेक्ट्रॉन युग्म के देने की क्षमता पर निर्भर करता है। इसको भी प्रेरणिक प्रभाव के आधार पर समझाते हैं।
ocr_image
फ्लुओरीन के I प्रभाव के कारण ट्राइफ्लुओरो ट्राइमेथिल ऐमीन में नाइट्रोजन परमाणु पर इलेक्ट्रॉन घनत्व कम होक जाता है फलस्वरूप इसके इलेक्ट्रॉन को देकर उप-सहसंयोजक बंध बनाने की क्षमता भी कम हो जाती है। जिससे इसका क्षारीय गुण भी कम हो जाता हैं इसके विपरीत CH3 समूह के +I प्रभाव के कारण ट्राइमेथिल ऐमीन में नाइट्रोजन परमाणु पर इलेक्ट्रॉन घनत्‍व बढ़ जाता है।

|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions