Doubtnut Promotions Sticky

लोहे की 0.10 किग्रा की एक गेंद 10 मीटर की ऊँचाई से गिराई जाती है तथा पृथ्वी से टकराकर पुनः 1 मीटर की ऊँचाई तक उछल जाती है मान लीजिए कि गेंद कि यान्त्रिक ऊर्जा का क्षय हुआ अंश पूर्णतः गेंद में ही रह जाता है । गेंद है । गेंद के पदार्थ की विशिष्ट ऊष्मा 0.12 कैलोरी /(ग्राम -°C) है । (i) क्या गेंद को ऊष्मा दी गई ?(ii) क्या गेंद पर कार्य किया गया ? यदि हाँ तो कितना ? (iii) गेंद की आन्तरिक ऊर्जा में क्या परिवर्तन हुआ ? (iv) टकराने पर गेंद के ताप में कितनी वृद्धि हुई ?(g=10 न्यूटन /किग्रा , 4.2J = 1 कैलोरी )

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Answer

Step by step video, text & image solution for लोहे की 0.10 किग्रा की एक गेंद 10 मीटर की ऊँचाई से गिराई जाती है तथा पृथ्वी से टकराकर पुनः 1 मीटर की ऊँचाई तक उछल जाती है मान लीजिए कि गेंद कि यान्त्रिक ऊर्जा का क्षय हुआ अंश पूर्णतः गेंद में ही रह जाता है । गेंद है । गेंद के पदार्थ की विशिष्ट ऊष्मा 0.12 कैलोरी /(ग्राम -°C) है । (i) क्या गेंद को ऊष्मा दी गई ?(ii) क्या गेंद पर कार्य किया गया ? यदि हाँ तो कितना ? (iii) गेंद की आन्तरिक ऊर्जा में क्या परिवर्तन हुआ ? (iv) टकराने पर गेंद के ताप में कितनी वृद्धि हुई ?(g=10 न्यूटन /किग्रा , 4.2J = 1 कैलोरी ) by Physics experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 11 exams.

Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions