Doubtnut Promotions Sticky

शुद्ध सोना और गिन्नी के सोने में क्या अंतर है?

Text Solution
Verified by Experts

शुद्ध सोना बिना मिलावट के लचीला एवं कीमती होता है। गिन्नी का सोना ताँबे की मिलावट से युक्त, मजबूत, चमकदार और उपयोगी होता है।

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    शुद्ध सोना अलग है और गिन्नी का सोना अलग। गिन्नी के सोने में थोड़ा सा ताँबा मिलाया हुआ होता है, इसलिए वह ज्यादा चमकता है और शुद्ध सोने से मजबूत भी होता है। औरतें अकसर इसी सोने के गहने बनवा लेती हैं। फिर भी होता तो वह है गिन्नी का ही सोना। शुद्ध आदर्श भी शुद्ध सोने के जैसे ही होते हैं। चंद लोग उनमें व्यावहारिकता का थोड़ा सा ताँबा मिला देते हैं और चलाकर दिखाते हैं। तब हम लोग उन्हें प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' कहकर उनका बखान करते हैं। पर बात न भूलें कि बखान आदर्शों का नहीं होता, बल्कि व्यावहारिकता का होता है। और जब व्यावहारिकता का बखान होने लगता है तब 'प्रैक्टिकल आइडियालिस्टों' के जीवन से आदर्श धीरे-धीरे हटने लगते हैं। और उनकी व्यावहारिक सूझबूझ ही आगे आने लगती सोना पीछे रहकर ताँबा ही आगे आता है।
    लेखक ने शुद्ध सोने और गिन्नी में क्या अन्तर बताया है ?

    Aशुद्ध सोने में किसी तरह की मिलावट नहीं होती।
    Bगिन्नी के सोने में थोड़ा-सा ताँबा मिला होता है।
    Cगिन्नी में चमक होती है तथा शुद्ध होने से मजबूत होता है।
    Dउपर्युक्त सभी।
  • Question 1 - Select One

    इन्सुलिन के सम्बन्ध में क्या सत्य है?

    Aयह एक एमीनो अम्ल है
    Bयह एक पॉलीपेप्टाइड है
    Cयह एक कार्बोहाइड्रेट है
    Dयह एक लिपिड है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    शुद्ध सोना अलग है और गिन्नी का सोना अलग। गिन्नी के सोने में थोड़ा सा ताँबा मिलाया हुआ होता है, इसलिए वह ज्यादा चमकता है और शुद्ध सोने से मजबूत भी होता है। औरतें अकसर इसी सोने के गहने बनवा लेती हैं। फिर भी होता तो वह है गिन्नी का ही सोना। शुद्ध आदर्श भी शुद्ध सोने के जैसे ही होते हैं। चंद लोग उनमें व्यावहारिकता का थोड़ा सा ताँबा मिला देते हैं और चलाकर दिखाते हैं। तब हम लोग उन्हें प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' कहकर उनका बखान करते हैं। पर बात न भूलें कि बखान आदर्शों का नहीं होता, बल्कि व्यावहारिकता का होता है। और जब व्यावहारिकता का बखान होने लगता है तब 'प्रैक्टिकल आइडियालिस्टों' के जीवन से आदर्श धीरे-धीरे हटने लगते हैं। और उनकी व्यावहारिक सूझबूझ ही आगे आने लगती सोना पीछे रहकर ताँबा ही आगे आता है।
    'प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' का सही अर्थ क्या है ?

    Aव्यावहारिकता
    Bव्यावहारिकतावादी
    Cव्यावहारिक आदर्श
    Dव्यवहारपूर्ण
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    शुद्ध सोना अलग है और गिन्नी का सोना अलग। गिन्नी के सोने में थोड़ा सा ताँबा मिलाया हुआ होता है, इसलिए वह ज्यादा चमकता है और शुद्ध सोने से मजबूत भी होता है। औरतें अकसर इसी सोने के गहने बनवा लेती हैं। फिर भी होता तो वह है गिन्नी का ही सोना। शुद्ध आदर्श भी शुद्ध सोने के जैसे ही होते हैं। चंद लोग उनमें व्यावहारिकता का थोड़ा सा ताँबा मिला देते हैं और चलाकर दिखाते हैं। तब हम लोग उन्हें प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' कहकर उनका बखान करते हैं। पर बात न भूलें कि बखान आदर्शों का नहीं होता, बल्कि व्यावहारिकता का होता है। और जब व्यावहारिकता का बखान होने लगता है तब 'प्रैक्टिकल आइडियालिस्टों' के जीवन से आदर्श धीरे-धीरे हटने लगते हैं। और उनकी व्यावहारिक सूझबूझ ही आगे आने लगती सोना पीछे रहकर ताँबा ही आगे आता है।
    इस गद्यांश का मुख्य सन्देश क्या है ?

    Aकोरे आदर्शों से काम नहीं चलता उन्हें व्यवहार में भी लाना चाहिए।
    Bव्यावहारिकता के नाम पर आदर्श समाप्त न हों, यह ध्यान रखना भी परमावश्यक है।
    Cअपने आदर्शों को व्यवहार के योग्य बनाना चाहिए।
    Dउपर्युक्त सभी।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    शुद्ध सोना अलग है और गिन्नी का सोना अलग। गिन्नी के सोने में थोड़ा सा ताँबा मिलाया हुआ होता है, इसलिए वह ज्यादा चमकता है और शुद्ध सोने से मजबूत भी होता है। औरतें अकसर इसी सोने के गहने बनवा लेती हैं। फिर भी होता तो वह है गिन्नी का ही सोना। शुद्ध आदर्श भी शुद्ध सोने के जैसे ही होते हैं। चंद लोग उनमें व्यावहारिकता का थोड़ा सा ताँबा मिला देते हैं और चलाकर दिखाते हैं। तब हम लोग उन्हें प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' कहकर उनका बखान करते हैं। पर बात न भूलें कि बखान आदर्शों का नहीं होता, बल्कि व्यावहारिकता का होता है। और जब व्यावहारिकता का बखान होने लगता है तब 'प्रैक्टिकल आइडियालिस्टों' के जीवन से आदर्श धीरे-धीरे हटने लगते हैं। और उनकी व्यावहारिक सूझबूझ ही आगे आने लगती सोना पीछे रहकर ताँबा ही आगे आता है।
    'प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' किसे कहते हैं?

    Aजो आदर्शों को व्यवहार के योग्य बनाते हैं।
    Bजो आदर्शों का बखान करते हैं।
    Cजो आदर्शों को धीरे-धीरे अपने जीवन से हटाते हैं।
    Dजो आदर्शों को व्यावहारिक बनाकर जीवन में नहीं अपनाते।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    शुद्ध सोना अलग है और गिन्नी का सोना अलग। गिन्नी के सोने में थोड़ा सा ताँबा मिलाया हुआ होता है, इसलिए वह ज्यादा चमकता है और शुद्ध सोने से मजबूत भी होता है। औरतें अकसर इसी सोने के गहने बनवा लेती हैं। फिर भी होता तो वह है गिन्नी का ही सोना। शुद्ध आदर्श भी शुद्ध सोने के जैसे ही होते हैं। चंद लोग उनमें व्यावहारिकता का थोड़ा सा ताँबा मिला देते हैं और चलाकर दिखाते हैं। तब हम लोग उन्हें प्रैक्टिकल आइडियालिस्ट' कहकर उनका बखान करते हैं। पर बात न भूलें कि बखान आदर्शों का नहीं होता, बल्कि व्यावहारिकता का होता है। और जब व्यावहारिकता का बखान होने लगता है तब 'प्रैक्टिकल आइडियालिस्टों' के जीवन से आदर्श धीरे-धीरे हटने लगते हैं। और उनकी व्यावहारिक सूझबूझ ही आगे आने लगती सोना पीछे रहकर ताँबा ही आगे आता है।
    व्यावहारिकता का अधिक बखान होने का क्या दुष्परिणाम होता है ?

    Aआदर्श पीछे रह जाते हैं और व्यावहारिकता प्रमुख होती जाती है।
    Bसोने का महत्त्व घट जाता है।
    Cताँबा अधिक महत्त्वपूर्ण हो जाता है।
    Dउपर्युक्त सभी।

Similar Questions