Doubtnut Promotions Sticky

लेखक ने राजकपूर को एशिया का सबसे बड़ा शोमैन कहा है शोमैन से आप क्या समझते हैं ?

Text Solution
Verified by Experts

शोमैन का अर्थ है एक ऐसा व्यक्ति जो कला, गुण, व्यक्तित्व व आकर्षण में सबसे अलग दिखाई देता हो और अपने इन गुणों के कारण लोकप्रिय भी हो। राजकपूर में ये सब गुण विद्यमान थे, इसी कारण लेखक ने उन्हें एशिया का सबसे बड़ा शोमैन कहा है।

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। जीवन में बहुत अंधकार है और अंधकार की ही भाँति अशुभ और अनीति है। कुछ लोग इस अंधकार को स्वीकार कर लेते हैं और तब उनके भीतर जो प्रकाश तक पहुँचने और पाने की आकांक्षा थी, वह क्रमशः क्षीण होती जाती है। मैं अंधकार की इस स्वीकृति को मनुष्य का सबसे बड़ा पाप कहता हूँ। यह मनुष्य का स्वयं अपने प्रति किया गया अपराध है। उसके दूसरों के प्रति किए गए अपराधों का जन्म इस मूल पाप से ही होता है। यह स्मरण रहे कि जो व्यक्ति अपने ही प्रति इस पाप को नहीं करता है, वह किसी के भी प्रति कोई पाप नहीं कर सकता है। किंतु कुछ लोग अंधकार को स्वीकार करने से बचने के लिए उसके अस्वीकार में लग जाते हैं। उनका जीवन अंधकार के निषेध का ही सतत् उपक्रम बन जाता है।
    लेखक ने किसे सबसे बड़ा पाप कहा है?

    Aप्रकाश पाने की क्षीण आकांक्षा
    Bमुनष्य का अपने प्रति पाप न करना
    Cअंधकार को स्वीकार न करना
    Dअंधकार को स्वीकार कर लेना
  • Question 1 - Select One

    निर्देश: गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। जीवन में बहुत अंधकार है और अंधकार की ही भांति अशुभ और अनीति है। कुछ लोग इस अंधकार को स्वीकार कर लेते हैं और तब उनके भीतर जो प्रकाश तक पहुँचने और पाने की आकांक्षा थी, वह क्रमशः क्षीण होती जाती है। मैं अंधकार की इस स्वीकृति को मनुष्य का सबसे बड़ा पाप कहता हूँ। यह मनुष्य का स्वयं अपने प्रति किया गया अपराध है। उसके दूसरों के प्रति किए गए अपराधों का जन्म इस मूल पाप से ही होता है। यह समर्पण रहे कि जो व्यक्ति अपने ही प्रति इस पाप को नहीं करता है, वह किसी के भी प्रति कोई पाप नहीं कर सकता है। किन्तु कुछ लोग अंधकार के स्वीकार से बचने के लिए उसके अस्वीकार में लग जाते हैं। उनका जीवन अंधकार के निषेध का ही सतत् उपक्रम बन जाता है।
    लेखक ने किसे सबसे बड़ा पाप कहा है?

    Aप्रकाश पाने की क्षीण आकांक्षा
    Bमनुष्य का अपने प्रति पाप न करना
    Cअन्धकार को स्वीकार न करना
    Dअन्धकार को स्वीकार कर लेना
  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए।
    जीवन में बहुत अंधकार है और अंधकार की ही भांति अशभ और अनीति है। कुछ लोग इस अंधकार को स्वीकार कर लेते हैं और तब उनके भीतर जो प्रकाश तक पहुँचने और पाने की आकांक्षा थी, वह क्रमशः क्षीण होती जाती है। मैं अंधकार की इस स्वीकृति को मनुष्य का सबसे बड़ा पाप कहता हूँ। यह मनुष्य का स्वयं अपने प्रति किया गया अपराध है। उसके दूसरों के प्रति किए गए अपराधों का जन्म इस मूल पाप से ही होता है। यह स्मरण रहे कि जो व्यक्ति अपने ही प्रति इस पाप को नहीं करता है, वह किसी के भी प्रति कोई पाप नहीं कर सकता है। किन्तु कुछ लोग अंधकार के स्वीकार से बचने के लिए उसके अस्वीकार में लग जाते हैं। उनका जीवन अंधकार के निषेध का ही सतत उपक्रम बन जाता है।
    लेखक ने किसे सबसे बड़ा पाप कहा है?

    Aप्रकाश पाने की क्षीण आकांक्षा
    Bमनुष्य का अपने प्रति पाप न करना
    Cअन्धकार को स्वीकार न करना
    Dअन्धकार को स्वीकार कर लेना

Similar Questions