Doubtnut Promotions Sticky

कबीरदास ने ईश्वरीय वियोग की स्थिति का चित्रण किस प्रकार किया है ?

Text Solution
Verified by Experts

जिस व्यक्ति के हृदय में ईश्वर के प्रति प्रेमरूपी विरह का सर्प बस जाता है उस पर कोई मन्त्र असर नहीं करता है। स्वाभाविक चित्रण है कि शरीर के भीतर रोग का कारक होने पर उपचार नहीं हो पाता है अर्थात् भगवान के विरह में कोई भी जीव सामान्य नहीं रहता है। उस पर किसी बात का कोई असर नहीं होता है।

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    रजनी किस प्रकार की नारी है?

    Aसंघर्षशील
    Bअन्याय की विरोधी
    Cनिर्भीक
    Dइनमें सभी
  • Question 1 - Select One

    जल की उपस्थिति का किस प्रकार पता लगाया जा सकता है?

    Aएक चुटकी निर्जल कॉपर सल्फेट को मिलाकर जिससे इसका सफ़ेद रंग नीले में परिवर्तित हो जाता है
    Bउबालकर और H2 और O2 की उपस्थिति के लिए परीक्षण द्वारा
    Cइसके रंग और पारदर्शिता को देखकर
    Dसाबुन के साथ मिश्रित होने पर, झाग के उत्पादन की जाँच करके
  • Question 1 - Select One

    "उन्मेख' किस प्रकार का शब्द है ?

    Aतद्भव
    Bतत्सम
    Cदेशज
    Dआगत
  • Question 1 - Select One

    सरल लोलक की गति किस प्रकार की गति है

    Aसरल रेखा के अनुदिश
    Bघुर्णन गति
    Cआवर्ती गति
    Dसभी
  • Question 1 - Select One

    कबीरदास ने किसका खंडन किया है?

    Aबाह्य आडंबर और रूढ़िवाद का
    Bशासन पक्ष का
    Cलोगों के विचारों का
    Dसंवेदनाओं का
  • Question 1 - Select One

    सपनों का मर जाना' किस प्रकार का प्रयोग है?

    Aलाक्षणिक
    Bव्यंजनात्मक
    Cअभिधात्मक
    Dइनमें कोई नहीं
  • Question 1 - Select One

    फीचर किस प्रकार की विधा मानी जाती है ?

    Aविषय प्रधान
    Bसमस्या प्रधान,
    Cव्यक्ति प्रधान,
    Dपात्र प्रधान
  • Question 1 - Select One

    फीचर किस प्रकार का विधा मानी जाती है ?

    Aविषय प्रधान,
    Bसमस्या प्रधान,
    Cव्यक्ति प्रधान
    Dपात्र प्रधान

Similar Questions