Doubtnut Promotions Sticky

H2O2 का द्विध्रुव आघूर्ण H2O से अधिक है, लेकिन H2O2 एक अच्छा विलायक नहीं है, क्योंकि -

A

इसमें बहुत उच्च परावैद्युतांक होता है, इसलिए आयनिक यौगिकों को इसमें विलेय नहीं किया जा सकता है

B

यह ऑक्सीकारक के रूप में कार्य नहीं करता है

C

यह एक अपचायक के रूप में कार्य करता है

D

यह आसानी से वियोजित हो जाता है और रासायनिक अभिक्रियाओं में ऑक्सीकारक के रूप में कार्य करता है

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D


H2O2 का द्विध्रुव आघूर्ण H2O से अधिक है, लेकिन H2O2 एक अच्छा विलायक नहीं है, क्योंकि H2O2 ऊष्मागत रूप से अस्थायी है और यह आसानी से वियोजित हो जाता है।
H2O2(l)H2O(l)+12O2(g)
इसका वियोजन काँच के पात्र में अतिसूक्ष्म मात्रा में उपस्थित क्षार धातुओं द्वारा उत्प्रेरित होता है।

Was this answer helpful?828
Doubtnut Promotions Banner