Doubtnut Promotions Sticky

अल्प विलेय द्विअंगी विद्युत अपघट्य के लिए S (विलेयता) और Ksp (विलेयता गुणनफल) के बीच संबंध है

A

S=K2sp

B

S=Ksp

C

S=Ksp

D

S=12Ksp

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:C


द्विअंगी विद्युत अपघट्य के लिए,
Ksp=S×S=s2
S=KSp

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    दिए गए युग्म के बीच संबंध है:
    ocr_image

    Aसमरूप
    Bप्रतिबिंब समावयवी
    Cविवरिम समावयवी
    Dसंरचनात्मक समावयवी
  • Question 1 - Select One

    ग्लूकोज और मैनोस के बीच संबंध है

    Aऐनोमर
    Bडाइसैकेराइड
    Cऐपीमर
    Dकीटोहैक्सोस
  • Question 1 - Select One

    पद - और पद -11 के बीच सही संबंध है-
    ocr_image

    A(p)-(III), (q)-(I), (r)-(II), (s)-(IV)
    B(p)-(IV), (q)-(II), (1)-(I), (s)-(III)
    C(p)-(II), (q)-(IV), (r)-(I), (s)-(III)
    D(p)-(III), (q)-(I). (r)-(IV), (s)-(II)
  • Question 1 - Select One

    यदि एक द्विआधारी दुर्बल विद्युत्-अपघट्य के लिए 298K पर, विलेयता गुणनफल 4×1010 है, तो समान ताप पर, mol dm3 में इसके विलेयता की गणना कीजिए।

    A4×105
    B2×105
    C8×1010
    D16×1020
  • Question 1 - Select One

    अल्प विलेय लवण MX4 की मोलर विलेयता [mol L1 में ] 's' है। संगत विलेयता गुणनफल Ksp है। किस संबंध द्वारा Ksp के पदों में s दिया गया है?

    As=(Ksp256)1/5
    Bs=(128Ksp)1/4
    Cs=(Ksp128)1/6
    Ds=(256Ksp)1/5
  • Question 1 - Select One

    जल में क्षार धातु फ्लोराइड के लिए विलेयता क्रम है:

    ALiF<RbF<KF<NaF
    BRbF<KF<NaF<LiF
    CLiF<NaF<Kf<RbF
    DLiF>NaF>KF>RbF
  • Question 1 - Select One

    जल में क्षार धातु फ्लोराइड के लिए विलेयता क्रम है

    ALiF<RbF<KF<NaF
    BRbF<KF<NaF<LiF
    CLiF>NaF>KF>RbF
    DLiF<NaF<KF<RbF
  • Question 1 - Select One

    जिर्कोनियम फॉस्फेट [Zr3(PO4)4],+4 आवेश के तीन जर्कोनियम धनायनों और -3 आवेश के चार फॉस्फेट ऋणायनों में अपघटित हो जाता है। यदि जिर्कोनियम फॉस्फेट की मोलर विलेयता को S और उसके | विलेयता गुणनफल को KKsp द्वारा प्रदर्शित किया जाता है, तब S और Ksp के बीच निम्नलिखित में से कौन-सा संबंध सही है?

    AS={Ksp/6912}7
    BS={Ksp/144}1/7
    CS={Ksp/(6912)1/7}
    DS={Ksp6912}1/7
  • Question 1 - Select One

    अल्प विलेय प्रबल विद्युत अपघट्य Ag103 (अणु भार = 283) के संतृप्त विलयन में निम्न साम्य स्थापित होता है
    AglO3(s)Ag+(aq)+lO3(aq)
    यदि किसी दिए गए ताप पर AgIO3 का विलेयता गुणनफल स्थिरांक Ksp,1.0×108 है तो इसके संतृप्त विलयन के 100 mL में उपस्थित AgIO3 का द्रव्यमान क्या होगा ?

    A1.0×104g
    B28.3×102g
    C1.0×107g
    D2.83×103g

Similar Questions