Doubtnut Promotions Sticky

घनीय संरचना वाले यौगिक के आण्विक सूत्र का निर्धारण कीजिए। जो X और Y से बनाया गया है, जहाँ X परमाणु घन के कोनों पर और Y घन के फलक केंद्रों पर स्थित हैं।

A

X Y 2

B

X Y 3

C

X 2 Y

D

X 3 Y

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B


X परमाणु घन के आठों कोनों पर स्थित होते हैं। इसलिए, एकक कोष्ठिका में X परमाणुओं की संख्या = 8 8 = 1
Y परमाणु छ: फलकों के फलक केंद्र पर स्थित होते हैं। इसलिए, एकक कोष्ठिका में इसका अंश = 6 2 = 3 , XY_3 है।

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    X और Y तत्वों द्वारा निर्मित एक यौगिक एक घनीय संरचना में क्रिस्टलीकृत होता है। जिसमें परमाणु X घन के कोनों पर होते हैं और परमाणु Y दो गैर-आसन्न फलक केंद्रों पर होते हैं। यौगिक का सूत्र है

    AX3Y
    BXY
    CXY2
    DXY3
  • Question 1 - Select One

    स्वर्ण और कॉपर की एक मिश्र धातु घनीय जालक में क्रिस्टलीकृत होती है,
    जिसमे सोने के परमाणु जालक के कोनो पर स्थित होते है
    और कॉपर के परमाणु धन के प्रत्येक फलक के केंद्र पर स्थित होते है।
    यौगिक का सूत्र है :

    AAuCu3
    BAu2Cu
    CAuCu
    DAu3Cu
  • Question 1 - Select One

    एक ठोस AB की संरचना NaCl प्रकार की होती है। A परमाणु घनीय एकक कोष्‍ठिका के कोनों पर स्थित‌ है। यदि एक अक्ष के अुनदिश सभी फलक के केंद्र पर उपस्थित परमाणुओं को हटा दिया जाता है तो ठोस का परिणामी सूत्र (रससमीकरणमिती) क्या होगा?

    AAB2
    BA2B
    CA4B3
    DA3B4
  • Question 1 - Select One

    एक ठोस का निर्माण होता है और इसमें तीन प्रकार के परमाणु P, Q और R होते हैं। P एक फलक केंद्रित घनीय जालक का निर्माण करता है, जिसमें सभी Q परमाणु चतुष्फलकीय रिक्तियों पर उपस्थित होते हैं और R परमाणु अष्टफलकीय रिक्तियों के आधे भाग पर स्थित होते हैं। ठोस का सूत्र है:

    AP4QR2
    BP4Q2R
    CPQ2R4
    DP2Q4R
  • Question 1 - Select One

    जब एक निश्चित ताप पर 3c-2e के साथ-साथ 2c 2e बंध वाला एक अकार्बनिक यौगिक (X), अमोनिया गैस के साथ अभिक्रिया करता है, तो बेन्जीन के समान संरचना वाले यौगिक (Y) का निर्माण होता है। उच्च ताप पर यौगिक (X), अमोनिया के साथ एक पदार्थ (Z) का उत्पादन करता है। निम्न में से कौनसा विकल्प सही नहीं है?

    A(X),B2H6 है
    B(Z) अकार्बनिक ग्रेफाइट के रूप में जाना जाता है
    C(Y),B3N3H6 है
    D(Z) ग्रेफाइट की तरह नरम होता है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित अभिक्रिया पर विचार कीजिए :
    ocr_image
    [X] और [Y] क्रमश: हैं

    A2, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल और 3, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल
    B3, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल और 3, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल
    C3, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल और 3, 3-डाइमेथिल-3-ब्यूटेनॉल
    D2, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल और 2, 3-डाइमेथिल-2-ब्यूटेनॉल
  • Question 1 - Select One

    नीचे दिए गए चार तत्वों पर विचार कीजिए, जिन्हें आवर्त सारणी के दीर्घाकार रूप के अनुसार निरूपित किया गया है,
    ocr_image
    यहाँ W, Y और Z तत्व 'X' के संदर्भ में बाएं, ऊपर और दाएं उपस्थित हैं और तत्व 'X' सोलहवें वर्ग और तीसरे आवर्त से संबंधित हैं। तब दी गई सूचना के अनुसार दिए गए तत्वों के बारे में गलत कथन है :

    Aअधिकतम विद्युत् ऋणात्मकता : Y
    Bअधिकतम श्रृंखलन का गुण : X
    Cअधिकतम इलेक्ट्रॉन बंधुता : Z
    DY परिवर्ती सहसंयोजकता प्रदर्शित करता है
  • Question 1 - Select One

    एक ठोस 'AB' जिसमें खनिज लवण व्यवस्था (NaCl संरचना) है, 'A' परमाणु घनीय एकक कोष्ठिका के कोने और फलक केंद्र पर स्थित हैं। 'B' परमाणु एकक कोष्ठिका के सभी अष्टफलकीय रिक्तियों को ग्रहण करते हैं। यदि एक अक्ष के अनुदिश सभी फलक केंद्रित परमाणुओं को हटा दिया जाता है, तो ठोस की परिणामी रससमीकरणमिती क्या है?

    AAB2
    BA2B
    CA4B3
    DA3B4
  • Question 1 - Select One

    NaCl संरचना वाले एक ठोस AB में, 'A' परमाणु धन एकक कोष्ठिका के कोनो और फलक केंद्र पर स्थित होते है | यदि एक अक्ष के अनुदिश सभी फलक केन्द्रित पर्मानुओ को हटा दिया जाता है, तो ठोस की परिणामी रससमीकरणमिति होगी:

    AAB2
    BA2B
    CA4B3
    DA3B4
  • Question 1 - Select One

    कॉपर, सिल्वर और गोल्ड की एक मिश्र धातु में ccp जालक पर कॉपर परमाणु, कोर केंद्रों पर सिल्वर परमाणु और एकक कोष्ठिका के एक काय केंद्र पर गोल्ड पाया जाता है। मिश्र धातु का सरलतम सूत्र है -

    ACuAgAu
    BCu4Ag3Au
    CCu4Ag4Au
    DCu4Ag2Au