Doubtnut Promotions Sticky

जब हाइड्रोजन परमाणु में इलेक्ट्रॉन अनंत से स्थिर अवस्था 1 तक गिरता है, तो उत्सर्जित विकिरण की तरंग दैर्ध्य की गणना कीजिए। ( रिड्बर्ग स्थिरांक =1.097×107m1)

A

91 nm

B

192 nm

C

406 nm

D

9.1×108nm

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


1λ=R[1n211n22]1λ=1.097×107m1[11212]
λ=91×109m
हम जानते हैं 109=1nm इसलिए,
λ=91nm

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    यदि हाइड्रोजन परमाणु में इलेक्ट्रॉन तृतीय कक्षा से द्वितीय कक्षा में जाता है, तो उत्सर्जित विकिरण की तरंगदैर्ध्य दी जाती है:

    Aλ=365R
    Bλ=5R36
    Cλ=5R
    Dλ=R6
  • Question 1 - Select One

    हाइड्रोजन परमाणु में यदि इलेक्ट्रॉन n = 3 से n = 2 में गिरता है, तो उत्सर्जित ऊर्जा की मात्रा है -

    A0.65 eV
    B1.9 eV
    C10.2 eV
    D12.09 eV
  • Question 1 - Select One

    जब हाइड्रोजन परमाणु का एक इलेक्ट्रॉन n = 4 से n = 1 अवस्था में जाता है, तो उत्सर्जित स्पेक्ट्रमी रेखाओं की संख्या होती है

    A9
    B3
    C6
    D15
  • Question 1 - Select One

    1.0 mg के द्रव्यमान वाले एक कण का वेग 3600 km/h है। कण के तरंग दैर्ध्य की गणना कीजिए।

    A6.626×1031 m
    B6.626×1030 m
    C6.626×1029 m
    D6.626×1028 m
  • Question 1 - Select One

    हाइड्रोजन परमाणु में, संक्रमण n =3 से n =2 तक होता है। यदि रिडबर्ग स्थिरांक
    1.097x107m1 है,
    तो उत्सर्जित विकिरण कि तरंग दैधर्य है-

    A365RH
    B5RH36
    C34RH
    D43RH
  • Question 1 - Select One

    गतिज ऊर्जा2.8×1023J वाले एक इलेक्ट्रॉन की डी-ब्रोग्ली तरंगदैर्ध्य की गणना कीजिए। (me=9.1×1031kg)

    A9.28×104m
    B9.28×107m
    C9.28×108m
    D9.28×1010m
  • Question 1 - Select One

    एक परमाणु के बोर मॉडल में, जब एक इलेक्ट्रॉन n = 1 से n = 3 में कूदता है, तो कितनी ऊर्जा अवशोषित होगी?

    A2.389×1012 ergs
    B0.239×1010 ergs
    C2.15×1011 ergs
    D0.1936×1010 ergs
  • Question 1 - Select One

    प्रकाश के वेग के 110 वें भाग के साथ गति करने वाले इलेक्ट्रॉन की तरंग दैर्ध्य क्या होगी?

    A2.43×1011m
    B243×1011m
    C0.243m
    D2.43×104m
  • Question 1 - Select One

    जब 300 K पर 112 g आयरन तनु HCI के साथ अभिक्रिया करता है, तो किए गए कार्य की गणना कीजिए। अभिक्रिया एक खुले पात्र में करवाई जाती (Fe का परमाणु द्रव्यमान = 56)

    A600 cal
    B300 cal
    C200 cal
    D1200 cal

Similar Questions