Doubtnut Promotions Sticky

किसी धातु की प्रथम और द्वितीय आयनन एन्थैल्पीयाँ क्रमश: 496 और 4560kJmol1 है। धातु हाइड्रॉक्साइड के 1 मोल के साथ पूरी तरह से अभिक्रिया करने के लिए क्रमशः HCI और H2SO4 के कितने मोलों की आवश्यकता होगी?

A

1 और 1

B

1 और 2

C

2 और 0.5

D

1 और 0.5

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D


धातुः प्रथम आयनन एन्थैल्पी = 496 kJ//mole
द्वितीय आयनन एन्थैल्पी = 4560kJ/mol
आयनन एन्थैल्पीयों की दी गई जानकारी के अनुसार, धातु प्रथम वर्ग अर्थात, एकलसंयोजी धनायन से संबंधित है। MOH1 +HCl1 MCl+H2O
2MOH1 +H2SO41/2 M2SO4+H2O
इस प्रकार, क्रमश: 1 मोल HCI और 0.5 मोल H2SO4 की आवश्यक होती है।

Was this answer helpful?34
Doubtnut Promotions Banner
Updated on:21/07/2023

Similar Questions