Doubtnut Promotions Sticky

जब किसी अभिक्रिया में अभिकारक की प्रारंभिक सांद्रता दोगुनी की जाती है, तो इसका अर्धायु काल प्रभावित नहीं होता है। अभिक्रिया की कोटि है

A

प्रथम

B

द्वितीय

C

शून्य से अधिक परन्तु प्रथम से कम

D

शून्य

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


यह प्रथम कोटि की अभिक्रिया है जिसमें अभय प्रारंभिक सांद्रता से स्वतंत्र होती है।
t1/2((1)?(a))n1
n = अभिक्रिया की कोटि
t1/2=0.093k (प्रथम कोटि के लिए t1/2 सांद्रता से स्वतंत्र होता

Was this answer helpful?1034
Doubtnut Promotions Banner
Updated on:21/07/2023

Similar Questions