Doubtnut Promotions Sticky

निम्नलिखित में से कौन सा एथेन अणु का सबसे मुख्य अधिमान्य संरूपण है?

A

सांतरित

B

विषमतलीय

C

ग्रसित

D

उपरोक्त में से कोई भी नहीं

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


एथेन अणु में तीन संरूपण समावयवी उपस्थित होते हैं। सांतरित रूप सबसे अधिक जबकि ग्रसित रूप सबसे कम अधिमान्य संरूपण होता है।
ocr_image

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा सही है?

    ASN2 में एथिल क्लोराइड की तुलना में वाइनिल क्लोराइड अधिक क्रियाशील होता है।
    BSN1 में एथिल क्लोराइड की तुलना में वाइनिल क्लोराइड अधिक क्रियाशील होता है।
    CSN1 में एलिल क्लोराइड, n-प्रोपिल क्लोराइड की तुलना में कम क्रियाशील होता है।
    DSN2 में एलिल क्लोराइड, n-प्रोपिल क्लोराइड की तुलना में अधिक क्रियाशील होता है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा सही है?

    ASF6 में S के संयोजकता कोश में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या 12 है।
    Bआयनिक यौगिक युक्त अभिक्रियाओं की दर बहुत मंद होती है।
    Cसंयोजकता कोश इलेक्ट्रॉन युग्म प्रतिकर्षण सिद्धांत (VSEPR) के अनुसार SnCl2 एक रैखिक अणु है।
    DNa+,Mg2+ A13+ के बीच आयनिक यौगिक का निर्माण करने की क्षमता का सही क्रम Al3+>Mg2+>Na+ है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा गलत है?

    Aफीनॉल की पहचान करने के लिए FeCl3 का उपयोग किया जाता है।
    Bग्लूकोज की पहचान करने के लिए फेहलिंग विलयन का उपयोग किया जाता है।
    Cटॉलेन अभिकर्मक का उपयोग असंतृप्तता की पहचान करने के लिए किया जाता है।
    Dकार्बोनिल यौगिक की पहचान करने के लिए NaHSO3 का उपयोग किया जाता है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा गलत है?

    Aजल, H2S की तुलना में अधिक ध्रुवीय है
    BH2O2 एक समतलीय अणु है
    Cअम्लीय जल के संपूर्ण विद्युत्-अपघटन द्वारा भारी जल का उत्पादन किया जाता है
    DH2O2 अम्लीय माध्यम में ऑक्सीकारक के साथ-साथ अपचायक दोनों के रूप में कार्य करता है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा गलत है?

    Aजब NO2 को ठंडे जल में विलेय किया जाता है, तो नाइट्रस और नाइट्रिक अम्ल का मिश्रण निर्मित होता है
    Bजब NO2 को गर्म जल में विलेय किया जाता है, तो समान अभिक्रिया ठंडे जल में विलेय करने पर भी होती है
    Cनाइट्रिक अम्ल वाष्प के साथ P4O10 की अभिक्रिया से N2O5 निर्मित किया जाता है
    DNO2 अति संक्षारक गैस है और अनेक धातुओं के साथ सीधे अभिक्रिया करता है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?

    Aद्रव अमोनिया में क्षार धातु के विलयन प्रबल अपचायक प्रकृति के होते हैं।
    BBeCl2 वाष्प अवस्था में एक रैखिक अणु है, लेकिन ठोस अवस्था में बहुलक है।
    Cकैल्सियम कार्बाइड जल के साथ अभिक्रिया करके ऐसीटिलीन का निर्माण करता है।
    Dकैल्सियम, क्लोरोफिल का एक अनिवार्य घटक भी है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?

    Aहैलोजन, प्रबल ऑक्सीकारक होते हैं
    Bहैलोजन केवल (ऋणात्मक) ऑक्सीकरण अवस्था दर्शाते हैं
    Cअणु, अंतराआण्विक H-बंध बनाते हैं
    Dफ्लोरीन, अत्यधिक अभिक्रियाशील होता है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?

    AONCl और ONO समइलेक्ट्रॉनिक नहीं होते हैं
    BO3 अणु विकृत (मुड़ा हुआ) होता है
    Cठोस अवस्था में ओजोन बैंगनी काला होता है
    Dओजोन अनुचुंबकीय गैस होती है
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?

    Aशॉट्की दोष युक्त क्रिस्टलों की स्थिति में घनत्व कम हो जाता है।
    BNaCI(s) विद्युतरोधी है, सिलिकन अर्धचालक है, सिल्वर विद्युत् चालक है, क्वार्टज दाब विद्युतिकी क्रिस्टल है।
    Cफ्रेंकेल दोष उन आयनिक यौगिकों में अनुकूल होता है, जिसमें धनायन और ऋणायन के आकार लगभग समान होते है।
    DFeO0.98 में अरससमीकरणमितीय धातु न्यूनता दोष होता है।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?

    AC2H5Brक्षारीय KOH के साथ अभिक्रिया करके C2H4 का निर्माण करता है
    BC2H5Br को धातु सोडियम के साथ उपचारित करने पर एथेन का निर्माण होता है
    Cजब C2H5Br को सोडियम एथॉक्साइड के साथ उपचारित किया जाता है, तो डाइएथिल ईथर का निर्माण होता है
    DAgCN के साथC2H5Br एथिल आइसोसाइनाइड का निर्माण करता है