Doubtnut Promotions Sticky

निम्नलिखित में से सही कथन का चयन कीजिए।

A

Co (III) दुर्बल क्षेत्र लिगेंड की उपस्थिति में स्थायी होता है, जबकि Co (II) प्रबल क्षेत्र लिगेंड की उपस्थिति में स्थायी होता है।

B

Pd (II) और Pt (II) के चार समन्वयित संकुल अनुचुंबकीय और वर्गसमतलीय होते हैं।

C

[Ni(CN)4]4 आयन और [Ni(CO)4] क्रमश: चतुष्फलकीय और वर्ग समतलीय हैं।

D

Ni2+ आयन दुर्बल क्षेत्र लिगेंड की उपस्थिति में आंतरिक कक्षक अष्टफलकीय संकुलो का निर्माण नहीं करता है।

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D


इस प्रश्न में CFSE, CFT और उपसहसंयोजन यौगिकों के चुंबकत्व का संकल्पनात्मक मिश्रण शामिल है। इस प्रश्न को प्रत्येक कथन की सामान्य समझ द्वारा हल किया जा सकता है, जैसा कि नीचे समझाया गया है:
(1) Co2+ और Co3+ दोनों प्रबल क्षेत्र लिगेंड की उपस्थिति में CFSE के उच्च मानों के कारण स्थायी होते हैं।
(II) Pd2+ और Pt2+ धनायनों के संयोजकता कोश में उच्च Z प्रभाव के कारण ये हमेशा आतंरिक कक्षक संकुल का निर्माण करते हैं, लेकिन ये प्रतिचुम्बकीय प्रकृति और वर्ग समतलीय आकृति के होते हैं।
(III) [Ni(CO)4],sp3, चतुष्फलकीय , μ=0BM
[Ni(CN)4]4,dsp2 , वर्ग समतलीय, μ=0BM
(IV) Ni+2 में दुर्बल क्षेत्र लिगेंड की उपस्थिति में युग्मन नहीं होता है, इसलिए यह बाह्य कक्षक संकुल का निर्माण करते हैं |
ocr_image
इलेक्ट्रॉनिक वितरण अप्रभावित रहता है।

Was this answer helpful?618
Doubtnut Promotions Banner