Doubtnut Promotions Sticky

हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्लों की अम्ल सामर्थ्य का घटता हुआ सही क्रम क्या होगा? (प्रतीक और संकेतन अपने सामान्य अर्थ में होते हैं)

A

p-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > बेंज़ोइक अम्ल > m- हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > o-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल

B

o-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > m-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > बेंज़ोइक अम्ल > p-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल

C

o-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > बेंज़ोइक अम्ल > m- हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > p-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल

D

m-हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्ल > बेंज़ोइक अम्ल > o-हाइड्रॉक्सीबेंजोइक अम्ल > p-हाइड्रॉक्सीबेंजोइक अम्ल

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B


हाइड्रॉक्सीबेंज़ोइक अम्लों के प्रकरण में, वे दोनों प्रकार के प्रभाव प्रदर्शित करते हैं और -OH समूह के प्रेरणिक प्रभाव के कारण सभी स्थितियों पर इलेक्ट्रॉन घनत्व में कमी होती है, लेकिन -OH समूह के अनुनाद प्रभाव के कारण ऑर्थो- (o-) और पैरा- (p-) स्थितियों पर इलेक्ट्रॉन घनत्व में वृद्धि होती है। o-हाइड्रॉक्सी बेंज़ोइक अम्ल, इसके संयुग्मी क्षार में अंतर आण्विक हाइड्रोजन बंध के कारण दिए गए अम्लों में सबसे प्रबल होता है।
ocr_image

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    स्थिरक्वाथी मिश्रण HXH2O के क्वथनांक का घटता हुआ क्रम क्या होगा?

    AIII>HBr>HF>HCl
    BHI>HCl>HBr>HF
    CHF>HCl>HBr>HI
    DHCl>HF>HBr>HI
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित पदार्थों पर विचार कीजिए
    ocr_image क्षारकता का घटता हुआ क्रम क्या होगा?

    A3>1>2
    B1>2>3
    C1>3>2
    D2>1>3
  • Question 1 - Select One

    अंतर-आयनिक/अंतराणुक बलों की आपेक्षिक सामर्थ्य का सही घटता क्रम निम्न है-

    Aआयन-द्विध्रुव > द्विध्रुव-द्विध्रुव > आयन-आयन
    Bद्विध्रुव-द्विध्रुव > आयन-द्विध्रुव > आयन-आयन
    Cआयन-आयन > आयन -द्विध्रुव > द्विध्रुव-द्विध्रुव
    Dआयन-द्विध्रुव > आयन-आयन > द्विध्रुव-द्विध्रुव
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित क्षारों की सामर्थ्य का घटता हुआ क्रम कौनसा है?
    OH,NH2,HCC और CH3

    ACH3>NH2>HCC>OH
    BHCC>CH3>NH2>OH
    COH>NH2>HCC>CH3
    DNH2>HCC>OH>CH3
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित शारो के सामर्थ्य का घटता हुआ कर्म क्या है
    OH,NH2,HCCऔर CH3CH2

    ACH3CH2>NH2>HCC>OH
    BHCC>CH3CH2>NH2>OH
    COH>NH2>HCC>CH3CH2
    DNH2>HCC>OH>CH3CH2
  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। हमारे विशाल देश में हिमालय की अनन्त हिमराशि वाले ग्लेशियरों ने जिन नदियों को जन्म दिया है, उनमें गंगा और यमुना नाम की नदियाँ हमारे जीवन की धमनियों की तरह रही हैं। उनकी गोद में हमारे पूर्वजों ने सभ्यता के प्रांगण में अनेक नए खेल खेले। उनके तटों पर जीवन का जो प्रवाह प्रचलित हुआ. वह आज तक हमारे भूत और भावी जीवन को सींच रहा है। भारत हमारा देश है और हम उसके नागरिक हैं यह एक सच्चाई हमारे रोम-रोम में बिंधी हुई है। नदियों की अन्तर्वेदी में पनपने वाले आदि युग के जीवन पर हम अब जितना अधिक विचार करते हैं हमको अपने विकास और वृद्धि की सनातन जड़ों का पृथ्वी के साथ संबंध उतना ही अधिक घनिष्ठ जान पड़ता है। हमारे धार्मिक पर्यों पर लाखों लोग नदी और जलाशयों के तटों पर एकत्र होते हैं। पृथ्वी के एक-एक जलाशय और सरोवर को भारतीय भावना ने ठीक प्रकार से समझने का प्रयत्न किया, उनके साथ सौहार्द का भाव उत्पन्न किया जो हर एक पीढ़ी के साथ नए रूप में बंधा रहा। किन्तु आज स्थिति बड़ी विचित्र और एक सीमा तक चिन्ताजनक हो गई है। हमारी औद्योगिक क्रांति ने इन्हें प्रदूषित कर विषैला बना दिया है। जीवनदायिनी नदियाँ आज प्राणघातिनी होती जा रही हैं। मिल बैठकर सोचने की आवश्यकता है कि क्या करें कि ये पुनः जीवनदायिनी हों। और उन सोची हुई योजनाओं को अमल में लाने की भी आवश्यकता है।
    लेखक के अनुसार हमारी सभ्यता का जन्म हुआ है

    Aनदियों की गोद में
    Bप्रकृति के प्रांगण में
    Cहिमालय में
    Dगंगा-यमुना में
  • Question 1 - Select One

    पर्व-त्योहार देश की समाजिक एकता के प्रतीक, ऐतिहासिक
    घटनाओं के साक्षी, सांस्कृतिक चेतना के प्रहरी और सद्भावनाओं
    के प्रेरक होते हैं। पर्य-स्योहारों पर देश की मिट्टी जागती है, बासी
    हवा में ताजगी आ जाती है और जीवन की एकरसता में नवीनता
    का समावेश हो जाता है। दशहरा, दीवाली, होली, रक्षाबंधन, ईद,
    क्रिसमस, गुरु-पर्य इत्यादि हमारे ऐसे त्योहार हैं जिनसे हमारे
    सामाजिक जीवन में नया उत्साह तथा आवेग आ जाता है।
    होली-दिपावली पर हिन्दुओं को मुसलमान और अन्य दूसरे धर्मों
    के लोग प्रेमपूर्वक बधाई देते है, परस्पर एक-दूसरे के साथ मिठाई
    और उपहारों का आदान-प्रदान करते है, इसी प्रकार ईद और
    क्रिसमस पर भी हिन्दू अपने ईसाई और मुस्लिम भाइयों के प्रति
    शुभकामनाएँ प्रकट करते हैं। इस प्रकान् इन पर्व-त्योहारों पर
    सर्वत्र सर्वधर्म-समभाव का सुन्दर रूप दिखलाई देता है।"
    जीवन की एकरसता में किसका समावेश हो जाता है?

    Aचीरता का
    Bकायरता का
    Cभावुकता का
    Dनवीनता का
  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। हमारे विशाल देश में हिमालय की अनन्त हिमराशि वाले ग्लेशियरों ने जिन नदियों को जन्म दिया है, उनमें गंगा और यमुना नाम की नदियाँ हमारे जीवन की धमनियों की तरह रही हैं। उनकी गोद में हमारे पूर्वजों ने सभ्यता के प्रांगण में अनेक नए खेल खेले। उनके तटों पर जीवन का जो प्रवाह प्रचलित हुआ. वह आज तक हमारे भूत और भावी जीवन को सींच रहा है। भारत हमारा देश है और हम उसके नागरिक हैं यह एक सच्चाई हमारे रोम-रोम में बिंधी हुई है। नदियों की अन्तर्वेदी में पनपने वाले आदि युग के जीवन पर हम अब जितना अधिक विचार करते हैं हमको अपने विकास और वृद्धि की सनातन जड़ों का पृथ्वी के साथ संबंध उतना ही अधिक घनिष्ठ जान पड़ता है। हमारे धार्मिक पर्यों पर लाखों लोग नदी और जलाशयों के तटों पर एकत्र होते हैं। पृथ्वी के एक-एक जलाशय और सरोवर को भारतीय भावना ने ठीक प्रकार से समझने का प्रयत्न किया, उनके साथ सौहार्द का भाव उत्पन्न किया जो हर एक पीढ़ी के साथ नए रूप में बंधा रहा। किन्तु आज स्थिति बड़ी विचित्र और एक सीमा तक चिन्ताजनक हो गई है। हमारी औद्योगिक क्रांति ने इन्हें प्रदूषित कर विषैला बना दिया है। जीवनदायिनी नदियाँ आज प्राणघातिनी होती जा रही हैं। मिल बैठकर सोचने की आवश्यकता है कि क्या करें कि ये पुनः जीवनदायिनी हों। और उन सोची हुई योजनाओं को अमल में लाने की भी आवश्यकता है।
    जिसका कोई अन्त न हो उसे कहते हैं

    Aआनंद
    Bअखंड
    Cअसीम
    Dअनन्त
  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। हमारे विशाल देश में हिमालय की अनन्त हिमराशि वाले ग्लेशियरों ने जिन नदियों को जन्म दिया है, उनमें गंगा और यमुना नाम की नदियाँ हमारे जीवन की धमनियों की तरह रही हैं। उनकी गोद में हमारे पूर्वजों ने सभ्यता के प्रांगण में अनेक नए खेल खेले। उनके तटों पर जीवन का जो प्रवाह प्रचलित हुआ. वह आज तक हमारे भूत और भावी जीवन को सींच रहा है। भारत हमारा देश है और हम उसके नागरिक हैं यह एक सच्चाई हमारे रोम-रोम में बिंधी हुई है। नदियों की अन्तर्वेदी में पनपने वाले आदि युग के जीवन पर हम अब जितना अधिक विचार करते हैं हमको अपने विकास और वृद्धि की सनातन जड़ों का पृथ्वी के साथ संबंध उतना ही अधिक घनिष्ठ जान पड़ता है। हमारे धार्मिक पर्यों पर लाखों लोग नदी और जलाशयों के तटों पर एकत्र होते हैं। पृथ्वी के एक-एक जलाशय और सरोवर को भारतीय भावना ने ठीक प्रकार से समझने का प्रयत्न किया, उनके साथ सौहार्द का भाव उत्पन्न किया जो हर एक पीढ़ी के साथ नए रूप में बंधा रहा। किन्तु आज स्थिति बड़ी विचित्र और एक सीमा तक चिन्ताजनक हो गई है। हमारी औद्योगिक क्रांति ने इन्हें प्रदूषित कर विषैला बना दिया है। जीवनदायिनी नदियाँ आज प्राणघातिनी होती जा रही हैं। मिल बैठकर सोचने की आवश्यकता है कि क्या करें कि ये पुनः जीवनदायिनी हों। और उन सोची हुई योजनाओं को अमल में लाने की भी आवश्यकता है।
    'जीवनदायिनी' का विलोम है

    Aप्राणघातिनी
    Bप्राणांतक वाहिनी
    Cजीवनप्रदायिनी
    Dअजीवनदायिनी
  • Question 1 - Select One

    गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प चुनिए। हमारे विशाल देश में हिमालय की अनन्त हिमराशि वाले ग्लेशियरों ने जिन नदियों को जन्म दिया है, उनमें गंगा और यमुना नाम की नदियाँ हमारे जीवन की धमनियों की तरह रही हैं। उनकी गोद में हमारे पूर्वजों ने सभ्यता के प्रांगण में अनेक नए खेल खेले। उनके तटों पर जीवन का जो प्रवाह प्रचलित हुआ. वह आज तक हमारे भूत और भावी जीवन को सींच रहा है। भारत हमारा देश है और हम उसके नागरिक हैं यह एक सच्चाई हमारे रोम-रोम में बिंधी हुई है। नदियों की अन्तर्वेदी में पनपने वाले आदि युग के जीवन पर हम अब जितना अधिक विचार करते हैं हमको अपने विकास और वृद्धि की सनातन जड़ों का पृथ्वी के साथ संबंध उतना ही अधिक घनिष्ठ जान पड़ता है। हमारे धार्मिक पर्यों पर लाखों लोग नदी और जलाशयों के तटों पर एकत्र होते हैं। पृथ्वी के एक-एक जलाशय और सरोवर को भारतीय भावना ने ठीक प्रकार से समझने का प्रयत्न किया, उनके साथ सौहार्द का भाव उत्पन्न किया जो हर एक पीढ़ी के साथ नए रूप में बंधा रहा। किन्तु आज स्थिति बड़ी विचित्र और एक सीमा तक चिन्ताजनक हो गई है। हमारी औद्योगिक क्रांति ने इन्हें प्रदूषित कर विषैला बना दिया है। जीवनदायिनी नदियाँ आज प्राणघातिनी होती जा रही हैं। मिल बैठकर सोचने की आवश्यकता है कि क्या करें कि ये पुनः जीवनदायिनी हों। और उन सोची हुई योजनाओं को अमल में लाने की भी आवश्यकता है।
    'औद्यौगिक' शब्द का मूल शब्द है

    Aउदयोग
    Bउद्योग
    Cयोगिक
    Dऔद्योग