Doubtnut Promotions Sticky

एक 713 मीटर लम्बे तार को 7 बराबर भागों में काटा जाता है तब प्रत्येक भाग की लम्बाई होगी

A

113m

B

1349m

C

131m

D

4913m

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A

|
Answer

Step by step video, text & image solution for एक (7)/(13) मीटर लम्बे तार को 7 बराबर भागों में काटा जाता है तब प्रत्येक भाग की लम्बाई होगी by Maths experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 9 exams.

Updated on:21/07/2023

Similar Practice Problems

  • Question 1 - Select One

    यदि 5m तार को 8 भागों में विभाजित करते है तो हर एक भाग की लम्बाई ज्ञात करो।

    A0.50 m
    B0.625 m
    C0.735 m
    D0.592 m
  • Question 1 - Select One

    पाँच सिक्कों को एक साथ उछाला जाता है तब सभी सिक्कों पर चित्त (शीर्ष) आने की प्रायिकता क्या होगी?

    A132
    B116
    C164
    D12
  • Question 1 - Select One

    9 व्यक्ति किसी काम को 5 दिन में करते हैं। यदि इस काम को 3 दिनों में खत्म करना है तब कितने व्यक्तियों की अतिरिक्त आवश्यकता होगी

    A5
    B6
    C8
    D7
  • Question 1 - Select One

    विद्यार्थियों की एक पंक्ति में , सोहन का स्थान दोनों मे से किसी भी किनारे से 9 वाँ है तब विद्यार्थियों की कुल संख्या होगी ?

    A10
    B18
    C17
    D19
  • Question 1 - Select One

    यदि एक घनाभ को 6 cm भुजा वाले घनोसे भरा जाता है तब कुल भरे जाने वाले घनो की संख्या ज्ञात कीजिए जबकि धनाभ की विमाए60×120×30cm दी गई है -

    A100
    B1000
    C200
    D50
  • Question 1 - Select One

    यदि संख्या 739142658 के दूसरे , चौथे तथा सातवें अंक से दो अंकों की विषम पूर्ण वर्ग संख्या बनाना संभव हो जबकि प्रत्येक अंक को केवल एक बार लिया जाता है तब उस दो अंकों की पूर्ण वर्ग संख्या का दूसरा अंक इनमे से कौन सा होगा ?

    A3
    B4
    C5
    Dइनमे से कोई नहीं
  • Question 1 - Select One

    हमारा देश शान्ति प्रिय देश है। प्राचीन काल से ही हमारी इस प्रकार की सांस्कृतिक परम्परा है। हमने अपने शत्रुओं को भी उनके पद के अनुसार सम्मान दिया है। उनकी वीरता का सम्मान किया है। वीरता का श्रेय उनके माता-पिता को दिया है। वीरता का सम्मान करते हुए हमें तब विचार करना पड़ता है। जब उनकी वीरता दिशा हीन हो जाती है और वे मानवता को शर्मसार कर देते हैं। हमारे यहाँ का नेतृत्व जब इस प्रकार की घटनाओं का अवलोकन करता है तो सम्पूर्ण विश्व को एकजुट होने को कहता है, किन्तु जब अन्य राष्ट्र इस प्रकार का सहयोग था आवास स्वीकार न ही करते हैं तो हमारा नेतृत्व मानवता की सहायता करता हुआ नटस्थ हो जाता है। यह विश्वविदित है कि हमारे प्रथम प्रधानमंत्री शान्तिप्रिय थे। उनके पंचशील सिद्धान्त एवं पंचवर्षीय विकास योजनाएँ आज भी जनमानस के परल पर अंकित हैं।
    शान्ति प्रियता को परम्परा हमारे देश में कब से प्रचलित है?

    Aप्राचीनकाल
    Bवर्तमान काल
    Cनिकट भविष्य
    Dऐतिहासिक काल
  • Question 1 - Select One

    पण्डित शादीराम को यह आशा न थी कि कोयलों में हीरा मिल जायेगा। घोर निराशा ने आशा के द्वार चारों ओर से बन्द कर दिए। वे उन हतभाग्य मनुष्यों में से थे, जो संसार में असफल, केवल असफल रहने के लिए उत्पन्न होते हैं। सोने को हाथ लगाते थे, वह भी मिट्टी हो जाता था। उनकी ऐसी धारणा ही नहीं, पक्का विश्वास था कि यह प्रयल भी कभी सफल न होगा, परन्तु लाला सदानन्द के आग्रह पर दिनभर बैठकर तस्वीर छाँटते रहे। न मन में लगन थी, न हृदय में चाव, परन्तु लाला सदानन्द की बात को टाल न सके। शाम को देखा दो सौ एक-से-एक बढ़िया चित्र हैं। उस समय वे उन्हें देखकर स्वयं उछल पड़े। उनके मुख पर आनन्द की आभा नृत्य करने लगी, जैसे फेल हो जाने का विश्वास करके अपने प्रारब्ध पर रो चुके विद्यार्थी को पास हो जाने का तार मिल गया हो। उस समय वह कैसे प्रसन्न होता है। चारों ओर कैसी विस्मित और प्रफुल्लित दृष्टि से देखता है। वही अवस्था पण्डित शादीराम की थी। वे उन चित्रों की ओर इस प्रकार देखते थे, मानो उनमें से प्रत्येक दस-दस रुपये का नोट हो। बच्चों को उधार न देते थे। वे सफलता के विचार से प्रसन्न हो रहे थे, जैसे सफलता प्राप्त हो चुकी हो, यद्यपि वह अभी कोसों दूर थी। लाला सदानन्द की आशा उनके मस्तिष्क में निश्चय का रूप धारण कर चुकी थी।
    लाला सदानन्द ने चित्रों को अलबम में लगाया और कुछ उच्च कोटि के समाचार-पत्रों में विज्ञापन दे दिया। अब पण्डित शादीराम हर समय डाकिये की प्रतीक्षा करते थे।
    इस प्रकार एक महीना बीत गया, परन्तु कोई पत्र न आया। पण्डित शादीराम सर्वथा निराश हो गये, परन्तु फिर भी कभी-कभी सफलता का विचार आ जाता था, जिस प्रकार अँधेरे में जुगनू की चमक निराश हृदयों के लिए कैसी जीवनदायिनी, कैसी हृदयहारिणी होती है। इसके सहारे भूले हुए पथिक मंजिल पर पहुँचने का प्रयत्न करते है |
    लाला सदानन्द ने उन्हें क्या विश्वास दिलाया था?

    Aपैसा मिलने का
    Bऔर तस्वीरें मिलने का
    Cखरीददार मिलने का
    Dस्वयं पैसा देने का
  • Question 1 - Select One

    पण्डित शादीराम को यह आशा न थी कि कोयलों में हीरा मिल जायेगा। घोर निराशा ने आशा के द्वार चारों ओर से बन्द कर दिए। वे उन हतभाग्य मनुष्यों में से थे, जो संसार में असफल, केवल असफल रहने के लिए उत्पन्न होते हैं। सोने को हाथ लगाते थे, वह भी मिट्टी हो जाता था। उनकी ऐसी धारणा ही नहीं, पक्का विश्वास था कि यह प्रयल भी कभी सफल न होगा, परन्तु लाला सदानन्द के आग्रह पर दिनभर बैठकर तस्वीर छाँटते रहे। न मन में लगन थी, न हृदय में चाव, परन्तु लाला सदानन्द की बात को टाल न सके। शाम को देखा दो सौ एक-से-एक बढ़िया चित्र हैं। उस समय वे उन्हें देखकर स्वयं उछल पड़े। उनके मुख पर आनन्द की आभा नृत्य करने लगी, जैसे फेल हो जाने का विश्वास करके अपने प्रारब्ध पर रो चुके विद्यार्थी को पास हो जाने का तार मिल गया हो। उस समय वह कैसे प्रसन्न होता है। चारों ओर कैसी विस्मित और प्रफुल्लित दृष्टि से देखता है। वही अवस्था पण्डित शादीराम की थी। वे उन चित्रों की ओर इस प्रकार देखते थे, मानो उनमें से प्रत्येक दस-दस रुपये का नोट हो। बच्चों को उधार न देते थे। वे सफलता के विचार से प्रसन्न हो रहे थे, जैसे सफलता प्राप्त हो चुकी हो, यद्यपि वह अभी कोसों दूर थी। लाला सदानन्द की आशा उनके मस्तिष्क में निश्चय का रूप धारण कर चुकी थी।
    लाला सदानन्द ने चित्रों को अलबम में लगाया और कुछ उच्च कोटि के समाचार-पत्रों में विज्ञापन दे दिया। अब पण्डित शादीराम हर समय डाकिये की प्रतीक्षा करते थे।
    इस प्रकार एक महीना बीत गया, परन्तु कोई पत्र न आया। पण्डित शादीराम सर्वथा निराश हो गये, परन्तु फिर भी कभी-कभी सफलता का विचार आ जाता था, जिस प्रकार अँधेरे में जुगनू की चमक निराश हृदयों के लिए कैसी जीवनदायिनी, कैसी हृदयहारिणी होती है। इसके सहारे भूले हुए पथिक मंजिल पर पहुँचने का प्रयत्न करते है |
    पण्डित शादीराम को क्या विश्वास नहीं हो रहा था?

    Aअच्छी तस्वीरें मिलने का
    Bहीरा मिलने का
    Cसोना मिलने का
    Dसभी का
  • Question 1 - Select One

    पण्डित शादीराम को यह आशा न थी कि कोयलों में हीरा मिल जायेगा। घोर निराशा ने आशा के द्वार चारों ओर से बन्द कर दिए। वे उन हतभाग्य मनुष्यों में से थे, जो संसार में असफल, केवल असफल रहने के लिए उत्पन्न होते हैं। सोने को हाथ लगाते थे, वह भी मिट्टी हो जाता था। उनकी ऐसी धारणा ही नहीं, पक्का विश्वास था कि यह प्रयल भी कभी सफल न होगा, परन्तु लाला सदानन्द के आग्रह पर दिनभर बैठकर तस्वीर छाँटते रहे। न मन में लगन थी, न हृदय में चाव, परन्तु लाला सदानन्द की बात को टाल न सके। शाम को देखा दो सौ एक-से-एक बढ़िया चित्र हैं। उस समय वे उन्हें देखकर स्वयं उछल पड़े। उनके मुख पर आनन्द की आभा नृत्य करने लगी, जैसे फेल हो जाने का विश्वास करके अपने प्रारब्ध पर रो चुके विद्यार्थी को पास हो जाने का तार मिल गया हो। उस समय वह कैसे प्रसन्न होता है। चारों ओर कैसी विस्मित और प्रफुल्लित दृष्टि से देखता है। वही अवस्था पण्डित शादीराम की थी। वे उन चित्रों की ओर इस प्रकार देखते थे, मानो उनमें से प्रत्येक दस-दस रुपये का नोट हो। बच्चों को उधार न देते थे। वे सफलता के विचार से प्रसन्न हो रहे थे, जैसे सफलता प्राप्त हो चुकी हो, यद्यपि वह अभी कोसों दूर थी। लाला सदानन्द की आशा उनके मस्तिष्क में निश्चय का रूप धारण कर चुकी थी।
    लाला सदानन्द ने चित्रों को अलबम में लगाया और कुछ उच्च कोटि के समाचार-पत्रों में विज्ञापन दे दिया। अब पण्डित शादीराम हर समय डाकिये की प्रतीक्षा करते थे।
    इस प्रकार एक महीना बीत गया, परन्तु कोई पत्र न आया। पण्डित शादीराम सर्वथा निराश हो गये, परन्तु फिर भी कभी-कभी सफलता का विचार आ जाता था, जिस प्रकार अँधेरे में जुगनू की चमक निराश हृदयों के लिए कैसी जीवनदायिनी, कैसी हृदयहारिणी होती है। इसके सहारे भूले हुए पथिक मंजिल पर पहुँचने का प्रयत्न करते है |
    पण्डित शादीराम किस के बीच झूल रहे थे?

    Aआशा-निराशा के
    Bजमीन-आसमान के
    Cजिंदगी और मौत के
    Dसभी के