Doubtnut Promotions Sticky

दो चचेरे भाईयों की वर्तमान आयु का योग 46 वर्ष है। आठ साल पहले,बड़े की आयु,छोटे की आयु से दोगुनी थी। बड़े चचेरे भाई की वर्तमान आयु क्या है?

A

28

B

30

C

22

D

26

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A

|
Answer

Step by step video, text & image solution for दो चचेरे भाईयों की वर्तमान आयु का योग 46 वर्ष है। आठ साल पहले,बड़े की आयु,छोटे की आयु से दोगुनी थी। बड़े चचेरे भाई की वर्तमान आयु क्या है? by Maths experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 7 exams.

Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    A और B की वर्तमान आयु का अनुपात क्रमशः 3:2 है। छह वर्षों के बाद उनकी आयु का अनुपात 3 : 4 हो जाएगा। A की वर्तमान आयु क्या है?

    A12 वर्ष
    B15 वर्ष
    C18 वर्ष
    D11 वर्ष
  • Question 1 - Select One

    यदि पिता एवं पुत्र की आयु का योग (वर्षो में) 65 है तथा उनकी आयु के अन्तर का दुगुना 50 वर्ष है तब पिता की आयु होगी -

    A45 वर्ष
    B40 वर्ष
    C50 वर्ष
    D55 वर्ष
  • Question 1 - Select One

    यदि दो दोस्तों की आयु का अनुपात 2:1 है। यदि उनकी आयु का योग 51 है तब उनकी आयु होगी :

    A34, 20
    B34, 17
    C20, 10
    D30, 15
  • Question 1 - Select One

    राज्य के उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की अवकाश प्राप्ति की आयु क्या है?

    A58 वर्ष
    B60 वर्ष
    C62 वर्ष
    D65 वर्ष
  • Question 1 - Select One

    दूसरे दिन प्रातः होते ही दयाराम जी के घर में मेहमानों के स्वागत के लिए विभिन्न प्रकार की तैयारियाँ प्रारम्भ हो गई थीं।
    मीनू के भाई का क्या नाम है ?

    Aआलोक
    Bमनोहर
    Cरोहित
    Dअशोक
  • Question 1 - Select One

    आतंकवाद एक अत्यंत भयावह समस्या है जिसमें पूरा विश्व ही जूझ रहा है|आतंकवाद केवल विकासशील या निर्धन राष्ट्रों की समस्या हो, ऐसी बात नहीं। विश्व का सबसे शक्तिशाली और समृद्ध राष्ट्र अमेरिका भी इससे बच नहीं पाया है। कुछ वर्षों पहले जिस प्रकार उस पर आतंकवादी हमला हुआ, उससे उसकी जड़ें हिल गई।
    'आतंक का अर्थ है-भय अथवा दहशत। अमानवीय तथा भय उत्पन्न करने वाली ऐसी गतिविधि जिसका उद्देश्य निजी स्वार्थ पर्ति या अपना दबदबा बनाए रखने के उद्देश्य से या बदला लेने की भावना से किया गया काम हो-आतंकवाद कही जाती है। इस प्रकार आतंकवाद मूल में कुत्सित स्वार्थ-वृत्ति, घृणा, द्वेष, कटुता और शत्रुता की भावना, विरोध की भावना होती है। अपना राजनीतिक दबदबा बनाए रखना, अपने धर्म को अन्य धर्मों से श्रेष्ठ सिद्ध करने की भावना तथा कट्टर धर्माधता भी आतंकवाद को बढ़ावा देता है। आज विश्व में जिस प्रकार का आतंकवाद फल फूल रहा है, उसके पीछे सांप्रदायिक धर्माधता एवं कट्टरता एक प्रमुख कारण है। आज विश्व में कुछ इस प्रकार के संगठन विद्यमान हैं जिनका उद्देश्य ही आतंकवाद को फैलाना है। वे इस आतंकवाद के सहारे ही अपना वर्चस्व सिद्ध करना चाहते हैं। इस प्रकार के संगठन युवाओं को दिशा भ्रमित करके, उन्हें धर्म, राजनीति या सांप्रदायिकता के नाम पर गुमराह करके उनके हृदय में क्रूरता, कट्टरता तथा घृणा का जहर घोलकर बेगुनाहों का खून बहाने के लिए प्रेरित करने में सफल हो जाते हैं। 'फिदाइन' हमले इस बात का प्रमाण हैं कि ये दिशा भ्रमित युवक अपनी जान पर खेलकर भी खून की होली खेलने में नहीं झिझकते और मासूमों का खून बहाकर भी इनका कलेजा नहीं पसीजता । इनका हृदय पाषण जैसा कठोर हो जाता है, इनकी मानवीय चेतना लुप्त हो जाती है और वे किसी भी प्रकार का घिनौना कृत्य करने में स्वयं को धन्य समझते हैं।
    ओसामा बिना लादेन जैसे आतंकवादी आज पूरे विश्व के लिए आतंक का चेहरा बने हुए हैं। अमेरिका को भी उसे पकड़ने में दस सालों से ज्यादा लगे। आज भी उसका आतंकी नेटवर्क पूरे विश्व में फैला हुआ है। अमेरिका के दो टावरों को ध्वस्त करने की योजना भी उसी ने बनाई थी।
    आतंकवाद क्या है

    Aअमानवीय कृत्य
    Bभय उत्पन्न करने वाली गतिविधि
    C(a) तथा (b) दोनों
    Dबहादुरी से युद्ध करना
  • Question 1 - Select One

    कौशल देश के वृद्ध राजा के चार पुत्र थे। उन्हें यह चिन्ता सताने लगी कि राज्य का उत्तराधिकारी किसे बनाया जाये ? सोच-विचार के बाद अपने चारों पुत्रों को बुलाकर राजा ने कहा-"तुम चारों में से जो सबसे बड़े धर्मात्मा को मेरे पास ले आयेगा वही राज्य का स्वामी बनेगा।" तत्पश्चात् चारों राजकुमार अपने-अपने घोड़ों पर सवार होकर चल पड़े।
    कुछ दिन बाद बड़ा पुत्र अपने साथ एक महाजन को लेकर आया और राजा से बोला-"ये महाजन लाखों रुपयों का दान कर चुके हैं, अनेक मन्दिर व धर्मशालाएँ बनवा चुके हैं तथा साधु-सन्तों और ब्राह्मणों को भोजन कराने के उपरान्त ही ये भोजन करते हैं। इससे बड़ा धर्मात्मा कौन होगा?"
    "हाँ, वास्तव में ये धर्मात्मा हैं।" राजा ने कहा और सत्कारपूर्वक विदा किया।
    इसके बाद दूसरा पुत्र एक कृशकाय ब्राह्मण को लेकर आया और राजा से कहा-“ये ब्राह्मण देवता चारों धामों की यात्रा कर आए हैं, कोई तामसी वृत्ति इन्हें छू नहीं गई है। इससे बढ़कर कोई धर्मात्मा नहीं है।"
    राजा ब्राह्मण के समक्ष नतमस्तक हुआ और दान-दक्षिणा देकर बोले-"इसमें सन्देह नहीं कि ये एक श्रेष्ठ धर्मात्मा हैं।"
    तभी तीसरा पुत्र एक साधु को लेकर पहुँचा और बोला-"ये साधु महाराज सप्ताह में एक बार दूध पीकर रहते हैं। भयंकर सर्दी में जल में खड़े रहते हैं और गर्मी में पंचाग्नि तपते हैं। ये सबसे बड़े धर्मात्मा हैं।"
    राजा ने साधु को प्रणाम किया और कहा-"निश्चय ही ये उत्तम साधु हैं।" साधु महाराज राजा को आशीर्वाद देकर विदा हुए।
    अन्त में सबसे छोटा पुत्र एक निर्धन किसान के साथ आया! किसान दूर से ही भय के मारे हाथ जोड़ता हुआ चला आ रहा था। तीनों भाई छोटे भाई की मूर्खता पर ठहाका लगाकर हँस पड़े। छोटा पुत्र बोला-"एक कुत्ते के शरीर पर लगे घाव को यह आदमी धो रहा था। पता नहीं कि यह धर्मात्मा है या नहीं। अब आप ही इससे पूछ लीजिए।"
    "तुम क्या धर्म-कर्म करते हो?" राजा ने पूछा। किसान डरते-डरते बोला-"धर्म किसे कहते हैं, यह मैं नहीं जानता, करना तो दूर रहा। मैं जिसे भी दुःखी देखता हूँ, मुट्ठी भर अन्न अवश्य दे देता हूँ| "
    "यह किसान ही सबसे बड़ा धर्मात्मा है।" राजा ने कहा। राजा की बात सुनकर तीनों बड़े लड़के एक-दूसरे का मुँह ताकने लगे। राजा ने पुनः कहा-"तीर्थ यात्रा करना, भगवत-आराधना में लीन रहना, दान-पुण्य करना और जप-तप करना भी धर्म है, किन्तु बिना किसी स्वार्थ के किसी दीन-दुखी और कष्ट में पड़े प्राणी की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जो परोपकार करता है, वही सबसे बड़ा महात्मा है।"
    राजा को क्या चिन्ता थी?

    Aमंत्री किसे चुना जाये?
    Bमहामंत्री किसे चुना जाये?
    Cराज्य का उत्तराधिकारी किसे चुना जायें?
    Dदण्ड किसे दिया जाये?
  • Question 1 - Select One

    कौशल देश के वृद्ध राजा के चार पुत्र थे। उन्हें यह चिन्ता सताने लगी कि राज्य का उत्तराधिकारी किसे बनाया जाये ? सोच-विचार के बाद अपने चारों पुत्रों को बुलाकर राजा ने कहा-"तुम चारों में से जो सबसे बड़े धर्मात्मा को मेरे पास ले आयेगा वही राज्य का स्वामी बनेगा।" तत्पश्चात् चारों राजकुमार अपने-अपने घोड़ों पर सवार होकर चल पड़े।
    कुछ दिन बाद बड़ा पुत्र अपने साथ एक महाजन को लेकर आया और राजा से बोला-"ये महाजन लाखों रुपयों का दान कर चुके हैं, अनेक मन्दिर व धर्मशालाएँ बनवा चुके हैं तथा साधु-सन्तों और ब्राह्मणों को भोजन कराने के उपरान्त ही ये भोजन करते हैं। इससे बड़ा धर्मात्मा कौन होगा?"
    "हाँ, वास्तव में ये धर्मात्मा हैं।" राजा ने कहा और सत्कारपूर्वक विदा किया।
    इसके बाद दूसरा पुत्र एक कृशकाय ब्राह्मण को लेकर आया और राजा से कहा-“ये ब्राह्मण देवता चारों धामों की यात्रा कर आए हैं, कोई तामसी वृत्ति इन्हें छू नहीं गई है। इससे बढ़कर कोई धर्मात्मा नहीं है।"
    राजा ब्राह्मण के समक्ष नतमस्तक हुआ और दान-दक्षिणा देकर बोले-"इसमें सन्देह नहीं कि ये एक श्रेष्ठ धर्मात्मा हैं।"
    तभी तीसरा पुत्र एक साधु को लेकर पहुँचा और बोला-"ये साधु महाराज सप्ताह में एक बार दूध पीकर रहते हैं। भयंकर सर्दी में जल में खड़े रहते हैं और गर्मी में पंचाग्नि तपते हैं। ये सबसे बड़े धर्मात्मा हैं।"
    राजा ने साधु को प्रणाम किया और कहा-"निश्चय ही ये उत्तम साधु हैं।" साधु महाराज राजा को आशीर्वाद देकर विदा हुए।
    अन्त में सबसे छोटा पुत्र एक निर्धन किसान के साथ आया! किसान दूर से ही भय के मारे हाथ जोड़ता हुआ चला आ रहा था। तीनों भाई छोटे भाई की मूर्खता पर ठहाका लगाकर हँस पड़े। छोटा पुत्र बोला-"एक कुत्ते के शरीर पर लगे घाव को यह आदमी धो रहा था। पता नहीं कि यह धर्मात्मा है या नहीं। अब आप ही इससे पूछ लीजिए।"
    "तुम क्या धर्म-कर्म करते हो?" राजा ने पूछा। किसान डरते-डरते बोला-"धर्म किसे कहते हैं, यह मैं नहीं जानता, करना तो दूर रहा। मैं जिसे भी दुःखी देखता हूँ, मुट्ठी भर अन्न अवश्य दे देता हूँ| "
    "यह किसान ही सबसे बड़ा धर्मात्मा है।" राजा ने कहा। राजा की बात सुनकर तीनों बड़े लड़के एक-दूसरे का मुँह ताकने लगे। राजा ने पुनः कहा-"तीर्थ यात्रा करना, भगवत-आराधना में लीन रहना, दान-पुण्य करना और जप-तप करना भी धर्म है, किन्तु बिना किसी स्वार्थ के किसी दीन-दुखी और कष्ट में पड़े प्राणी की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जो परोपकार करता है, वही सबसे बड़ा महात्मा है।"
    तीसरा पुत्र अपने साथ किसे लाया था?

    Aसाधु को
    Bमहाजन को
    Cमाली को
    Dकिसान को
  • Question 1 - Select One

    कौशल देश के वृद्ध राजा के चार पुत्र थे। उन्हें यह चिन्ता सताने लगी कि राज्य का उत्तराधिकारी किसे बनाया जाये ? सोच-विचार के बाद अपने चारों पुत्रों को बुलाकर राजा ने कहा-"तुम चारों में से जो सबसे बड़े धर्मात्मा को मेरे पास ले आयेगा वही राज्य का स्वामी बनेगा।" तत्पश्चात् चारों राजकुमार अपने-अपने घोड़ों पर सवार होकर चल पड़े।
    कुछ दिन बाद बड़ा पुत्र अपने साथ एक महाजन को लेकर आया और राजा से बोला-"ये महाजन लाखों रुपयों का दान कर चुके हैं, अनेक मन्दिर व धर्मशालाएँ बनवा चुके हैं तथा साधु-सन्तों और ब्राह्मणों को भोजन कराने के उपरान्त ही ये भोजन करते हैं। इससे बड़ा धर्मात्मा कौन होगा?"
    "हाँ, वास्तव में ये धर्मात्मा हैं।" राजा ने कहा और सत्कारपूर्वक विदा किया।
    इसके बाद दूसरा पुत्र एक कृशकाय ब्राह्मण को लेकर आया और राजा से कहा-“ये ब्राह्मण देवता चारों धामों की यात्रा कर आए हैं, कोई तामसी वृत्ति इन्हें छू नहीं गई है। इससे बढ़कर कोई धर्मात्मा नहीं है।"
    राजा ब्राह्मण के समक्ष नतमस्तक हुआ और दान-दक्षिणा देकर बोले-"इसमें सन्देह नहीं कि ये एक श्रेष्ठ धर्मात्मा हैं।"
    तभी तीसरा पुत्र एक साधु को लेकर पहुँचा और बोला-"ये साधु महाराज सप्ताह में एक बार दूध पीकर रहते हैं। भयंकर सर्दी में जल में खड़े रहते हैं और गर्मी में पंचाग्नि तपते हैं। ये सबसे बड़े धर्मात्मा हैं।"
    राजा ने साधु को प्रणाम किया और कहा-"निश्चय ही ये उत्तम साधु हैं।" साधु महाराज राजा को आशीर्वाद देकर विदा हुए।
    अन्त में सबसे छोटा पुत्र एक निर्धन किसान के साथ आया! किसान दूर से ही भय के मारे हाथ जोड़ता हुआ चला आ रहा था। तीनों भाई छोटे भाई की मूर्खता पर ठहाका लगाकर हँस पड़े। छोटा पुत्र बोला-"एक कुत्ते के शरीर पर लगे घाव को यह आदमी धो रहा था। पता नहीं कि यह धर्मात्मा है या नहीं। अब आप ही इससे पूछ लीजिए।"
    "तुम क्या धर्म-कर्म करते हो?" राजा ने पूछा। किसान डरते-डरते बोला-"धर्म किसे कहते हैं, यह मैं नहीं जानता, करना तो दूर रहा। मैं जिसे भी दुःखी देखता हूँ, मुट्ठी भर अन्न अवश्य दे देता हूँ| "
    "यह किसान ही सबसे बड़ा धर्मात्मा है।" राजा ने कहा। राजा की बात सुनकर तीनों बड़े लड़के एक-दूसरे का मुँह ताकने लगे। राजा ने पुनः कहा-"तीर्थ यात्रा करना, भगवत-आराधना में लीन रहना, दान-पुण्य करना और जप-तप करना भी धर्म है, किन्तु बिना किसी स्वार्थ के किसी दीन-दुखी और कष्ट में पड़े प्राणी की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जो परोपकार करता है, वही सबसे बड़ा महात्मा है।"
    राजा ने किसान को सबसे बड़ा धर्मात्मा क्यों कहा?

    Aक्योंकि वह सबकी सेवा करता था
    Bक्योंकि वह मेहनती था
    Cक्योंकि वह निस्वार्थ सेवा करता था
    Dक्योंकि वह ईश्वर आराधना में लीन रहता था
  • Question 1 - Select One

    कौशल देश के वृद्ध राजा के चार पुत्र थे। उन्हें यह चिन्ता सताने लगी कि राज्य का उत्तराधिकारी किसे बनाया जाये ? सोच-विचार के बाद अपने चारों पुत्रों को बुलाकर राजा ने कहा-"तुम चारों में से जो सबसे बड़े धर्मात्मा को मेरे पास ले आयेगा वही राज्य का स्वामी बनेगा।" तत्पश्चात् चारों राजकुमार अपने-अपने घोड़ों पर सवार होकर चल पड़े।
    कुछ दिन बाद बड़ा पुत्र अपने साथ एक महाजन को लेकर आया और राजा से बोला-"ये महाजन लाखों रुपयों का दान कर चुके हैं, अनेक मन्दिर व धर्मशालाएँ बनवा चुके हैं तथा साधु-सन्तों और ब्राह्मणों को भोजन कराने के उपरान्त ही ये भोजन करते हैं। इससे बड़ा धर्मात्मा कौन होगा?"
    "हाँ, वास्तव में ये धर्मात्मा हैं।" राजा ने कहा और सत्कारपूर्वक विदा किया।
    इसके बाद दूसरा पुत्र एक कृशकाय ब्राह्मण को लेकर आया और राजा से कहा-“ये ब्राह्मण देवता चारों धामों की यात्रा कर आए हैं, कोई तामसी वृत्ति इन्हें छू नहीं गई है। इससे बढ़कर कोई धर्मात्मा नहीं है।"
    राजा ब्राह्मण के समक्ष नतमस्तक हुआ और दान-दक्षिणा देकर बोले-"इसमें सन्देह नहीं कि ये एक श्रेष्ठ धर्मात्मा हैं।"
    तभी तीसरा पुत्र एक साधु को लेकर पहुँचा और बोला-"ये साधु महाराज सप्ताह में एक बार दूध पीकर रहते हैं। भयंकर सर्दी में जल में खड़े रहते हैं और गर्मी में पंचाग्नि तपते हैं। ये सबसे बड़े धर्मात्मा हैं।"
    राजा ने साधु को प्रणाम किया और कहा-"निश्चय ही ये उत्तम साधु हैं।" साधु महाराज राजा को आशीर्वाद देकर विदा हुए।
    अन्त में सबसे छोटा पुत्र एक निर्धन किसान के साथ आया! किसान दूर से ही भय के मारे हाथ जोड़ता हुआ चला आ रहा था। तीनों भाई छोटे भाई की मूर्खता पर ठहाका लगाकर हँस पड़े। छोटा पुत्र बोला-"एक कुत्ते के शरीर पर लगे घाव को यह आदमी धो रहा था। पता नहीं कि यह धर्मात्मा है या नहीं। अब आप ही इससे पूछ लीजिए।"
    "तुम क्या धर्म-कर्म करते हो?" राजा ने पूछा। किसान डरते-डरते बोला-"धर्म किसे कहते हैं, यह मैं नहीं जानता, करना तो दूर रहा। मैं जिसे भी दुःखी देखता हूँ, मुट्ठी भर अन्न अवश्य दे देता हूँ| "
    "यह किसान ही सबसे बड़ा धर्मात्मा है।" राजा ने कहा। राजा की बात सुनकर तीनों बड़े लड़के एक-दूसरे का मुँह ताकने लगे। राजा ने पुनः कहा-"तीर्थ यात्रा करना, भगवत-आराधना में लीन रहना, दान-पुण्य करना और जप-तप करना भी धर्म है, किन्तु बिना किसी स्वार्थ के किसी दीन-दुखी और कष्ट में पड़े प्राणी की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है। जो परोपकार करता है, वही सबसे बड़ा महात्मा है।"
    प्रस्तुत गद्यांश से आपको क्या शिक्षा मिलती है?

    Aलाखों रुपये दान करना सेवा है।
    Bईश्वर आराधना में लीन रहना धर्म है।
    Cमंदिर बनवाना धर्मात्मा होने का परिचायक है।
    Dपरोपकार वही है जो निस्वार्थ किया जाये।