Doubtnut Promotions Sticky

एक बस 3 घण्टे में 126 किमीo तथा एक ट्रेन 5 घण्टे में 315km दूरी तय करते है। बस तथा ट्रेन की चालों का अनुपात ज्ञात करो।

A

126:315

B

2:3

C

1:3

D

3:5

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B

|
Answer

Step by step video, text & image solution for एक बस 3 घण्टे में 126 किमीo तथा एक ट्रेन 5 घण्टे में 315km दूरी तय करते है। बस तथा ट्रेन की चालों का अनुपात ज्ञात करो। by Maths experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 7 exams.

Updated on:21/07/2023

Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    एक कार 6 घण्टे में 486 km तय करती है तो 4 घण्टे में कितनी करेगी?

    A224 Km
    B824 Km
    C324 Km
    D234 Km
  • Question 1 - Select One

    यदि 5m तार को 8 भागों में विभाजित करते है तो हर एक भाग की लम्बाई ज्ञात करो।

    A0.50 m
    B0.625 m
    C0.735 m
    D0.592 m
  • Question 1 - Select One

    रमन बस से 5Km 52m, कार से 2Km 265 m तथा साइकिल से 1Km 30m की दूरी तय करता है तब कुल दूरी होगी -

    A8.347 Km
    B8.000 Km
    C8.925 Km
    D9.000 Km
  • Question 1 - Select One

    एक व्यापारी सामान खरीदने में 20% की बेईमानी तथा उसे बेचने में 30% की बेईमानी करता है, तो पूरे सौदे में उसे कितने प्रतिशत का लाभ प्राप्त हो जाता है?

    A50%
    B40%
    C52%
    D56%
  • Question 1 - Select One

    एक व्यक्ति अपनी यात्रा का 2/5 ट्रेन से, एक तिहाई बस से, एक चौथाई कार से तथा 3km पैदल तय करता है। व्यक्ति द्वारा तय की गई दूरी बतायें -

    A180
    B160
    C160
    D140
  • Question 1 - Select One

    A तथा B किसी कार्य को क्रमश: 15 दिन एवं 20 दिन में पूरा कर सकते हैं। दोनों बारी-बारी से एक-एक दिन के अन्तराल पर कार्य करना शुरू करते हैं, जिसमें पहले दिन का कार्य, B करता है। इस प्रकार कार्य समाप्त होने में कुल कितने दिन लगेंगे?

    A17%
    B1723%
    C1714%
    D18%
  • Question 1 - Select One

    किसी परीक्षा में एक छात्र को 40% अंक प्राप्त होते हैं तथा वह 20 अंकों से असफल हो जाता है। उसी परीक्षा में दूसरे ,छात्र को 45% 'अंक प्राप्त होते हैं, तथा उसके प्राप्त अंक पास होने के लिए न्यूनतम अंक से 5 अधिक है। परीक्षा का पूर्णांक ज्ञात कीजिए।

    A400
    B500
    C600
    D800
  • Question 1 - Select One

    एक बार रोम का राजा एक भीषण रोग से पीड़ित हो गया। उस समय के देश-विदेश के प्रख्यात एवं निष्णात चिकित्सक राजा के उपचार के लिये बुलाये गये, किन्तु अच्छी-से-अच्छी औषधियों के प्रयोग से भी वे राजा के रोग का निदान न कर सके। राजा का रोग पहले की अपेक्षा और अधिक बढ़ता चला गया। असाध्य रोग के कारण राजा के हृदय में विकलता और राज्य में उदासी छा गई। एक दिन एक वृद्ध पुरुष राजा के प्रासाद में आया और उसने रोगग्रस्त राजा ने कहा-"राजन्! एक विशेष औषधि के सेवन से आपका रोग ठीक हो सकता है। यह विशेष औषधि किसी अन्य व्यक्ति के पित्ताशय (पित्त की थैली) GALL BLADDER' से तैयार की जाती है। यह औषधि आपके रोग को मूल से उखाड़ने की क्षमता ही नहीं रखती अपितु आपको चिरंजीवी भी बना सकती है।"
    वृद्ध के वचनों को सुनकर राजा के निराश मन में आशा का संचार हो गया। उसने वृद्ध के प्रति मन ही मन कृतज्ञता अभिव्यक्त करते हुए राज्य के चिकित्सकों को एक ऐसे व्यक्ति को तलाश करने का आदेश दिया जिसके पित्त की थैली से वह औषधि बनाई जा सके। अन्ततः चिकित्सकों को एक ऐसा परिवार मिल गया जिसे हाथ की तंगी के कारण भरपेट भोजन भी उपलब्ध नहीं होता था। इस परिवार में केवल तीन सदस्य थे-एक लड़का और माता-पिता। चिकित्सकों ने लड़के के माता-पिता को प्रभूत धन का प्रलोभन देकर उनके एकमात्र पुत्र को खरीदने का प्रस्ताव रखा। धन की लालसा ने माता-पिता की आँखों पर पर्दा डाल दिया। उनकी दृष्टि में धन-मोह के सम्मुख पुत्र-मोह फीका पड़ गया और उन्होंने अपने घर के दीपक को चिकित्सकों के हाथों बेच दिया।
    चिकित्सक लड़के को राजा के सामने लेकर आये। राजा ने लड़के की पित्त की थैली को लेने के विषय में राज्य-पुरोहित से विचार-विमर्श किया| पुरोहित ने कहा-“राजन्! यद्यपि देश सर्वोपरि होता है, किन्तु उसका शासक उससे भी बड़ा होता है, क्योंकि वह देश की रक्षा करता है तथा अहर्निश उसकी समृद्धि के लिये प्रयास करता है। ऐसे शासक के लिये किसी भी व्यक्ति के जीवन की बलि देना कोई अपराध नहीं है।"
    पुरोहित के वचनों को सुनकर लड़के को राजा के सम्मुख खड़ा कर दिया गया। जल्लाद भी तलवार लेकर वहाँ आ पहुँचा। चिकित्सक औषधि तैयार करने वाले उपकरणों को लेकर वहाँ खड़े हो गये। अब राजा के आदेश की प्रतीक्षा थी। उसी क्षण लड़का आकाश की ओर देखकर जोर-जोर से हँसने लगा। उसे हँसते देखकर, सम्राट ने लड़के से हँसने का कारण पूछा। लड़के ने कहा, "जिस देश में माँ-बाप धन के लिये सन्तान को बेचें, पुरोहित निरपराध मनुष्य की हत्या को उचित ठहराये, देश और प्रजा की रक्षा करने वाला शासक निर्दोष प्राणी की जान लेकर अपनी जान बचाये, वहाँ तो ऊपर वाले के न्याय पर ही भरोसा करना पड़ेगा।"
    लड़के की बातों को सुनकर सम्राट की आँखें खुल गई उस अपनी भूल पर पश्चात्ताप होने लगा। उसका मन ग्लानि से भर गया। उसके अन्तस्तल में मानवता के अंकुर फूट पड़े। उसने जल्लाद को वापस कर दिया।
    राजा के प्रासाद में कौन आया?

    Aचिकित्सक
    Bएक वृद्ध पुरुष
    Cएक बालक
    Dएक युवा पुरुष
  • Question 1 - Select One

    एक बार रोम का राजा एक भीषण रोग से पीड़ित हो गया। उस समय के देश-विदेश के प्रख्यात एवं निष्णात चिकित्सक राजा के उपचार के लिये बुलाये गये, किन्तु अच्छी-से-अच्छी औषधियों के प्रयोग से भी वे राजा के रोग का निदान न कर सके। राजा का रोग पहले की अपेक्षा और अधिक बढ़ता चला गया। असाध्य रोग के कारण राजा के हृदय में विकलता और राज्य में उदासी छा गई। एक दिन एक वृद्ध पुरुष राजा के प्रासाद में आया और उसने रोगग्रस्त राजा ने कहा-"राजन्! एक विशेष औषधि के सेवन से आपका रोग ठीक हो सकता है। यह विशेष औषधि किसी अन्य व्यक्ति के पित्ताशय (पित्त की थैली) GALL BLADDER' से तैयार की जाती है। यह औषधि आपके रोग को मूल से उखाड़ने की क्षमता ही नहीं रखती अपितु आपको चिरंजीवी भी बना सकती है।"
    वृद्ध के वचनों को सुनकर राजा के निराश मन में आशा का संचार हो गया। उसने वृद्ध के प्रति मन ही मन कृतज्ञता अभिव्यक्त करते हुए राज्य के चिकित्सकों को एक ऐसे व्यक्ति को तलाश करने का आदेश दिया जिसके पित्त की थैली से वह औषधि बनाई जा सके। अन्ततः चिकित्सकों को एक ऐसा परिवार मिल गया जिसे हाथ की तंगी के कारण भरपेट भोजन भी उपलब्ध नहीं होता था। इस परिवार में केवल तीन सदस्य थे-एक लड़का और माता-पिता। चिकित्सकों ने लड़के के माता-पिता को प्रभूत धन का प्रलोभन देकर उनके एकमात्र पुत्र को खरीदने का प्रस्ताव रखा। धन की लालसा ने माता-पिता की आँखों पर पर्दा डाल दिया। उनकी दृष्टि में धन-मोह के सम्मुख पुत्र-मोह फीका पड़ गया और उन्होंने अपने घर के दीपक को चिकित्सकों के हाथों बेच दिया।
    चिकित्सक लड़के को राजा के सामने लेकर आये। राजा ने लड़के की पित्त की थैली को लेने के विषय में राज्य-पुरोहित से विचार-विमर्श किया| पुरोहित ने कहा-“राजन्! यद्यपि देश सर्वोपरि होता है, किन्तु उसका शासक उससे भी बड़ा होता है, क्योंकि वह देश की रक्षा करता है तथा अहर्निश उसकी समृद्धि के लिये प्रयास करता है। ऐसे शासक के लिये किसी भी व्यक्ति के जीवन की बलि देना कोई अपराध नहीं है।"
    पुरोहित के वचनों को सुनकर लड़के को राजा के सम्मुख खड़ा कर दिया गया। जल्लाद भी तलवार लेकर वहाँ आ पहुँचा। चिकित्सक औषधि तैयार करने वाले उपकरणों को लेकर वहाँ खड़े हो गये। अब राजा के आदेश की प्रतीक्षा थी। उसी क्षण लड़का आकाश की ओर देखकर जोर-जोर से हँसने लगा। उसे हँसते देखकर, सम्राट ने लड़के से हँसने का कारण पूछा। लड़के ने कहा, "जिस देश में माँ-बाप धन के लिये सन्तान को बेचें, पुरोहित निरपराध मनुष्य की हत्या को उचित ठहराये, देश और प्रजा की रक्षा करने वाला शासक निर्दोष प्राणी की जान लेकर अपनी जान बचाये, वहाँ तो ऊपर वाले के न्याय पर ही भरोसा करना पड़ेगा।"
    लड़के की बातों को सुनकर सम्राट की आँखें खुल गई उस अपनी भूल पर पश्चात्ताप होने लगा। उसका मन ग्लानि से भर गया। उसके अन्तस्तल में मानवता के अंकुर फूट पड़े। उसने जल्लाद को वापस कर दिया।
    राजा ने लड़के से क्या पूछा?

    Aतुम क्यों हँस रहे हो?
    Bतुम मरने के लिये तैयार हो?
    Cतुम क्यों रो रहे हो?
    Dक्या तुम्हें मृत्यु से डर नहीं लगता?
  • Question 1 - Select One

    एक बार रोम का राजा एक भीषण रोग से पीड़ित हो गया। उस समय के देश-विदेश के प्रख्यात एवं निष्णात चिकित्सक राजा के उपचार के लिये बुलाये गये, किन्तु अच्छी-से-अच्छी औषधियों के प्रयोग से भी वे राजा के रोग का निदान न कर सके। राजा का रोग पहले की अपेक्षा और अधिक बढ़ता चला गया। असाध्य रोग के कारण राजा के हृदय में विकलता और राज्य में उदासी छा गई। एक दिन एक वृद्ध पुरुष राजा के प्रासाद में आया और उसने रोगग्रस्त राजा ने कहा-"राजन्! एक विशेष औषधि के सेवन से आपका रोग ठीक हो सकता है। यह विशेष औषधि किसी अन्य व्यक्ति के पित्ताशय (पित्त की थैली) GALL BLADDER' से तैयार की जाती है। यह औषधि आपके रोग को मूल से उखाड़ने की क्षमता ही नहीं रखती अपितु आपको चिरंजीवी भी बना सकती है।"
    वृद्ध के वचनों को सुनकर राजा के निराश मन में आशा का संचार हो गया। उसने वृद्ध के प्रति मन ही मन कृतज्ञता अभिव्यक्त करते हुए राज्य के चिकित्सकों को एक ऐसे व्यक्ति को तलाश करने का आदेश दिया जिसके पित्त की थैली से वह औषधि बनाई जा सके। अन्ततः चिकित्सकों को एक ऐसा परिवार मिल गया जिसे हाथ की तंगी के कारण भरपेट भोजन भी उपलब्ध नहीं होता था। इस परिवार में केवल तीन सदस्य थे-एक लड़का और माता-पिता। चिकित्सकों ने लड़के के माता-पिता को प्रभूत धन का प्रलोभन देकर उनके एकमात्र पुत्र को खरीदने का प्रस्ताव रखा। धन की लालसा ने माता-पिता की आँखों पर पर्दा डाल दिया। उनकी दृष्टि में धन-मोह के सम्मुख पुत्र-मोह फीका पड़ गया और उन्होंने अपने घर के दीपक को चिकित्सकों के हाथों बेच दिया।
    चिकित्सक लड़के को राजा के सामने लेकर आये। राजा ने लड़के की पित्त की थैली को लेने के विषय में राज्य-पुरोहित से विचार-विमर्श किया| पुरोहित ने कहा-“राजन्! यद्यपि देश सर्वोपरि होता है, किन्तु उसका शासक उससे भी बड़ा होता है, क्योंकि वह देश की रक्षा करता है तथा अहर्निश उसकी समृद्धि के लिये प्रयास करता है। ऐसे शासक के लिये किसी भी व्यक्ति के जीवन की बलि देना कोई अपराध नहीं है।"
    पुरोहित के वचनों को सुनकर लड़के को राजा के सम्मुख खड़ा कर दिया गया। जल्लाद भी तलवार लेकर वहाँ आ पहुँचा। चिकित्सक औषधि तैयार करने वाले उपकरणों को लेकर वहाँ खड़े हो गये। अब राजा के आदेश की प्रतीक्षा थी। उसी क्षण लड़का आकाश की ओर देखकर जोर-जोर से हँसने लगा। उसे हँसते देखकर, सम्राट ने लड़के से हँसने का कारण पूछा। लड़के ने कहा, "जिस देश में माँ-बाप धन के लिये सन्तान को बेचें, पुरोहित निरपराध मनुष्य की हत्या को उचित ठहराये, देश और प्रजा की रक्षा करने वाला शासक निर्दोष प्राणी की जान लेकर अपनी जान बचाये, वहाँ तो ऊपर वाले के न्याय पर ही भरोसा करना पड़ेगा।"
    लड़के की बातों को सुनकर सम्राट की आँखें खुल गई उस अपनी भूल पर पश्चात्ताप होने लगा। उसका मन ग्लानि से भर गया। उसके अन्तस्तल में मानवता के अंकुर फूट पड़े। उसने जल्लाद को वापस कर दिया।
    उस व्यक्ति की बात सुनकर राजा को कैसा अनुभव हुआ?

    Aआशा के संचार का
    Bनिराशा का
    Cदुख का
    Dखुशी का