Doubtnut Promotions Sticky

मानव हृदय की कार्यविधि का वर्णन संक्षेप में करें।

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

मानव हृदय के चार कोष्ठक होते हैं-दो अलिंद व दो निलय।
ocr_image
ऊपर के दोनों कोष्ठक अलिंद और नीचे के दोनों कोष्ठक निलय कहलाते हैं। बाएँ और दाएँ अलिंद व निलय एक-एक कपाट से जुड़े होते हैं। दोनों अलिंद व दोनों निलयों में परस्पर कोई संबंध नहीं होता। रक्त अलिंद से निलय में जा सकता है निलय से अलिंद में वापिस नहीं। दोनों अलिंद और फिर दोनों निलय एक-साथ सिकुड़ते हैं।
जब हृदय के अलिंद सिकुड़ते हैं तो दाएँ अलिंद का अशुद्ध रक्त बाएँ निलय में आ जाता है और जब निलय सिकुड़ते हैं तो दाएँ निलय का अशुद्ध रक्त फुफ्फुस धमनी द्वारा शोधन के लिए फेफड़ों में चला जाता है। इसी प्रकार बाएँ निलय का शुद्ध रक्त महाधमनी द्वारा सारे शरीर में चला जाता है। शुद्ध रक्त अपने साथ ऑक्सीजन व पाचित भोजन ले जाता है और अशुद्ध रक्त अपने साथ कार्बन डाइऑक्साइड को एकत्रित कर लेता है।

|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions