Doubtnut Promotions Sticky

एक वैद्युत द्विध्रुव z - अक्ष से सम्पाती है तथा इसका मध्य बिन्दु मूल बिन्दु पर स्थित है | इसके अक्षीय स्थिति में मूल बिन्दु से z दूरी पर वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता E(z) और निरक्षीय स्थिति में मूलबिन्दु से y दूरी वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता E(y) जहाँ पर z=y>>a, तब ∣ ∣E(z)E(y)∣ ∣=..... का मान होगा

A

1

B

4

C

3

D

2

Video Solution
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:D


मूल बिंदु से अक्षीय स्थिति में z दुरी पर बिंदु P पर वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता का परिमाण
ocr_image
E(z)4qaz4πε0(z2a2)2=2pz4πε0(z2a2)2
जहाँ पर p=2qa वैद्युत द्विध्रुव आघूर्ण है
जहाँ z>>a.E(z)=2p4πε0z3
मूल बिंदु से निरक्षीय स्थिति में y दुरी पर बिंदु पर Q पर वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता
∣ ∣E)((y))=14πε02qa(y2+a2)3/2=p4πε0(y2+a2)3/2
जब y>>a,E(y)=p4πε0y3
ओर जब z=y>>a
E(z)E(y)=2

|
Updated on:21/07/2023

Topper's Solved these Questions


Similar Questions