Doubtnut Promotions Sticky

एक बेलनाकार टेंक की तली पर व्यास 2r का छिद्र है। छिद्र को लकड़ी के बेलनाकार गुटके से ढका गया है, जिसका व्यास 4r, ऊँचाई h तथा घनत्व p/3 है।
एक बेलनाकार टेंक की तली पर व्यास 2r का छिद्र है। छिद्र को लकड़ी के बेलनाकार गुटके से ढका गया है, जिसका व्यास 4r, ऊँचाई h तथा घनत्व p/3 है।      ऊँचाई h(1) (स्थिति 1 में), का न्यूनतम मान ज्ञात कीजिये, जिसके लिये गुटका ऊपर की ओर गति प्रारम्भ कर देता है
ऊँचाई h1 (स्थिति 1 में), का न्यूनतम मान ज्ञात कीजिये, जिसके लिये गुटका ऊपर की ओर गति प्रारम्भ कर देता है

A

2h3

B

5h4

C

5h3

D

5h2

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:C


माना लकड़ी के बेलन की सन्तुलन अवस्था में,
P1 ऊपर के पृष्ठ पर दाब
P2 द्रव के कारण तली पृष्ठ पर दाब
P0 वायुमण्डलीय दाब
M वायुमण्डलीय दाब
=p3.π(2r)2.h.g
अब, P1=[P0+h1pg]
P2=[P0+(h1+h).p.g]
बलों के सन्तुलन के लिये,
P1.π(2r)2+p3.π(2r)2h.g=P2π(4r2r2)+P0.(πr2)
हल करने पर, h1=5h3
ocr_image

|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions