Doubtnut Promotions Sticky

निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों में रस पहचानकर लिखिए:
हाथ में घाव थे चार
थी उनमें मवाद भरमार
मक्खी उन पर भिनक रही थी
कुछ पाने को ढूट पड़ी थी।
उसी हाथ से कौर उठाता
घृणा से मेरा मन भर जाता।

Text Solution
Verified by Experts

वीभत्स रस

Doubtnut Promotions Banner
|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    बड़े बाजारों के प्रायः मकानों पर राष्ट्रीय झंडा फहरा रहा था और कई मकान तो ऐसे सजाए गए थे कि ऐसा मालूम होता था कि मानो स्वतंत्रता मिल गई हो। कलकत्ते के प्रत्येक भाग में झंडे लगाए गए थे। जिस रास्ते में मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। लोगों का कहना था कि ऐसी सजावट पहले नहीं हुई। पुलिस भी अपनी पूरी ताकत से शहर में गश्त देकर प्रदर्शन कर रही थी। मोटर लारियों में गोरखे तथा सारजेंट प्रत्येक मोड़ पर तैनात थे। कितनी ही लारियाँ शहर में घुमाई जा रही थीं। घुड़सवारों का प्रबन्ध था। कहीं भी ट्रैफिक पुलिस नहीं थी, सारी पुलिस को इसी काम में लगाया गया था। बड़े-बड़े पार्को तथा मैदानों को पुलिस ने सवेरे से ही घेर लिया था।
    पुलिस किसलिए ताकत लगा रही थी?

    Aसरकार की ओर से आदेश था कि लोग स्वतंत्रता आंदोलन में भाग न लें।
    Bकिसी को भी राष्ट्रीय झंडा फहराने की छूट न दी जाए।
    Cलोगों को सार्वजनिक स्थलों पर झंडा फहराने की अनुमति नहीं थी।
    Dउपर्युक्त सभी।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    बड़े बाजारों के प्रायः मकानों पर राष्ट्रीय झंडा फहरा रहा था और कई मकान तो ऐसे सजाए गए थे कि ऐसा मालूम होता था कि मानो स्वतंत्रता मिल गई हो। कलकत्ते के प्रत्येक भाग में झंडे लगाए गए थे। जिस रास्ते में मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। लोगों का कहना था कि ऐसी सजावट पहले नहीं हुई। पुलिस भी अपनी पूरी ताकत से शहर में गश्त देकर प्रदर्शन कर रही थी। मोटर लारियों में गोरखे तथा सारजेंट प्रत्येक मोड़ पर तैनात थे। कितनी ही लारियाँ शहर में घुमाई जा रही थीं। घुड़सवारों का प्रबन्ध था। कहीं भी ट्रैफिक पुलिस नहीं थी, सारी पुलिस को इसी काम में लगाया गया था। बड़े-बड़े पार्को तथा मैदानों को पुलिस ने सवेरे से ही घेर लिया था।
    जिस रास्ते से मनुष्य जाते थे उस रास्ते में क्या मालूम होता था ?

    Aनिडरता और उत्साह
    Bभय और निडर
    Cउत्साह और नवीनता
    Dआक्रोश तथा भय
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    बड़े बाजारों के प्रायः मकानों पर राष्ट्रीय झंडा फहरा रहा था और कई मकान तो ऐसे सजाए गए थे कि ऐसा मालूम होता था कि मानो स्वतंत्रता मिल गई हो। कलकत्ते के प्रत्येक भाग में झंडे लगाए गए थे। जिस रास्ते में मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। लोगों का कहना था कि ऐसी सजावट पहले नहीं हुई। पुलिस भी अपनी पूरी ताकत से शहर में गश्त देकर प्रदर्शन कर रही थी। मोटर लारियों में गोरखे तथा सारजेंट प्रत्येक मोड़ पर तैनात थे। कितनी ही लारियाँ शहर में घुमाई जा रही थीं। घुड़सवारों का प्रबन्ध था। कहीं भी ट्रैफिक पुलिस नहीं थी, सारी पुलिस को इसी काम में लगाया गया था। बड़े-बड़े पार्को तथा मैदानों को पुलिस ने सवेरे से ही घेर लिया था।
    मोटर लारियों में प्रत्येक मोड़ पर कौन तैनात थे ?

    Aआतंकवादी
    Bक्रांतिकारी
    Cट्रैफिक पुलिस।
    Dगोरखे तथा सारजेंट
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    बड़े बाजारों के प्रायः मकानों पर राष्ट्रीय झंडा फहरा रहा था और कई मकान तो ऐसे सजाए गए थे कि ऐसा मालूम होता था कि मानो स्वतंत्रता मिल गई हो। कलकत्ते के प्रत्येक भाग में झंडे लगाए गए थे। जिस रास्ते में मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। लोगों का कहना था कि ऐसी सजावट पहले नहीं हुई। पुलिस भी अपनी पूरी ताकत से शहर में गश्त देकर प्रदर्शन कर रही थी। मोटर लारियों में गोरखे तथा सारजेंट प्रत्येक मोड़ पर तैनात थे। कितनी ही लारियाँ शहर में घुमाई जा रही थीं। घुड़सवारों का प्रबन्ध था। कहीं भी ट्रैफिक पुलिस नहीं थी, सारी पुलिस को इसी काम में लगाया गया था। बड़े-बड़े पार्को तथा मैदानों को पुलिस ने सवेरे से ही घेर लिया था।
    कलकत्ते में हर घर में झंडे लगाए जा रहे थे?

    A26 जनवरी, 1931 को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाना था।
    Bइस दिन अखिल भारतीय कांग्रेस ने देश को पूरी तरह आज़ाद कराने की प्रतिज्ञा की थी।
    Cराष्ट्रीय झंडा फहराना स्वतंत्रता-प्राप्ति का प्रतीक था।
    Dउपर्युक्त सभी।
  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर विकल्पों में से चुनकर लिखिए-
    बड़े बाजारों के प्रायः मकानों पर राष्ट्रीय झंडा फहरा रहा था और कई मकान तो ऐसे सजाए गए थे कि ऐसा मालूम होता था कि मानो स्वतंत्रता मिल गई हो। कलकत्ते के प्रत्येक भाग में झंडे लगाए गए थे। जिस रास्ते में मनुष्य जाते थे उसी रास्ते में उत्साह और नवीनता मालूम होती थी। लोगों का कहना था कि ऐसी सजावट पहले नहीं हुई। पुलिस भी अपनी पूरी ताकत से शहर में गश्त देकर प्रदर्शन कर रही थी। मोटर लारियों में गोरखे तथा सारजेंट प्रत्येक मोड़ पर तैनात थे। कितनी ही लारियाँ शहर में घुमाई जा रही थीं। घुड़सवारों का प्रबन्ध था। कहीं भी ट्रैफिक पुलिस नहीं थी, सारी पुलिस को इसी काम में लगाया गया था। बड़े-बड़े पार्को तथा मैदानों को पुलिस ने सवेरे से ही घेर लिया था।
    पाठ तथा लेखक का नाम लिखिए

    Aडायरी का एक पन्ना, सीताराम सेकसरिया।
    Bडायरी का एक पन्ना, रवीन्द्रनाथ ठाकुर।
    Cडायरी का एक पन्ना, निदा फाजली।
    Dडायरी का एक पन्ना, प्रहलाद अग्रवाल।
  • Question 1 - Select One

    कुछ समय बाद पासा गाँव में 'पशु-पर्व' का आयोजन हुआ | पशु-पर्व में हष्ट-पुष्ट पशुओं के प्रदर्शन के अतिरिक्त पशुओं से युवकों की शक्ति परीक्षा प्रतियोगिता भी होती है | वर्ष में एक बार सभी गाँव के लोग हिस्सा लेते हैं | बाद में नृत्य-संगीत और भोजन का भी आयोजन होता है | शाम से सभी लोग पासा में एकत्रित होने लगे | धीरे-धीरे विभिन्न कार्यक्रम शुरू हुए | तताँरा का मन इन कार्यक्रमों में तनिक न था | उसकी व्याकुल आँखें वामीरो को ढूँढ़ने में व्यस्त थी | नारियल के झुंड के एक पेड़ के पीछे से उसे जैसे कोई झाँकता दिखा | उसने थोड़ा और करीब जाकर पहचानने की चेष्टा की | वह वामीरो थी जो भयवश सामने आने में झिझक रही थी | उसकी आँखें तरल थी | होंठ काँप रहे थे | तताँरा को देखते ही वह फुटकर रोने लगी | तताँरा विह्वल हुआ | उससे कुछ बोलते ही नहीं बन रहा था | रोने की आवाज ऊँची होती जा रही थी | तताँरा किंकर्तव्यविमूढ़ था | वामीरो के रुदन स्वरों को सुनकर उसकी माँ वहाँ पहुँची और दोनों को देखकर आग बबूला हो उठी | सारे गाँव वालों की उपस्थिति में यह दृश्य उसे अपमानजनक लगा | इस बीच गाँव के कुछ लोग भी वहाँ पहुँच गए | वामीरो की माँ क्रोध में उफ़न उठी | उसने तताँरा को तरह-तरह से अपमानित किया | गाँव के लोग भी तताँरा के विरोध में आवाजें उठाने लगे | यह तताँरा के लिए असहनीय था | वामीरो अब भी रोए जा रही थी | तताँरा भी गुस्से से भर उठा | उसे जहाँ विवाह की निषेध परम्परा पर क्षोभ था वही अपनी असहायता पर खीझ | वामीरो का दुःख उसे और हरा कर रहा था | उसे मालूम न था कि क्या कदम उठाना चाहिए ?
    वामीरो नारियल के पेड़ों के झुण्ड में क्यों छिपी हुई थी ?

    Aउसे लोकभय सता रहा था
    Bलोक निन्दा से बचने का कोई उपाय नहीं सूझ रहा था
    Cवह प्रेम में पूरी तरह निहाल हो चुकी थी
    Dउपर्युक्त सभी
  • Question 1 - Select One

    कुछ समय बाद पासा गाँव में 'पशु-पर्व' का आयोजन हुआ | पशु-पर्व में हष्ट-पुष्ट पशुओं के प्रदर्शन के अतिरिक्त पशुओं से युवकों की शक्ति परीक्षा प्रतियोगिता भी होती है | वर्ष में एक बार सभी गाँव के लोग हिस्सा लेते हैं | बाद में नृत्य-संगीत और भोजन का भी आयोजन होता है | शाम से सभी लोग पासा में एकत्रित होने लगे | धीरे-धीरे विभिन्न कार्यक्रम शुरू हुए | तताँरा का मन इन कार्यक्रमों में तनिक न था | उसकी व्याकुल आँखें वामीरो को ढूँढ़ने में व्यस्त थी | नारियल के झुंड के एक पेड़ के पीछे से उसे जैसे कोई झाँकता दिखा | उसने थोड़ा और करीब जाकर पहचानने की चेष्टा की | वह वामीरो थी जो भयवश सामने आने में झिझक रही थी | उसकी आँखें तरल थी | होंठ काँप रहे थे | तताँरा को देखते ही वह फुटकर रोने लगी | तताँरा विह्वल हुआ | उससे कुछ बोलते ही नहीं बन रहा था | रोने की आवाज ऊँची होती जा रही थी | तताँरा किंकर्तव्यविमूढ़ था | वामीरो के रुदन स्वरों को सुनकर उसकी माँ वहाँ पहुँची और दोनों को देखकर आग बबूला हो उठी | सारे गाँव वालों की उपस्थिति में यह दृश्य उसे अपमानजनक लगा | इस बीच गाँव के कुछ लोग भी वहाँ पहुँच गए | वामीरो की माँ क्रोध में उफ़न उठी | उसने तताँरा को तरह-तरह से अपमानित किया | गाँव के लोग भी तताँरा के विरोध में आवाजें उठाने लगे | यह तताँरा के लिए असहनीय था | वामीरो अब भी रोए जा रही थी | तताँरा भी गुस्से से भर उठा | उसे जहाँ विवाह की निषेध परम्परा पर क्षोभ था वही अपनी असहायता पर खीझ | वामीरो का दुःख उसे और हरा कर रहा था | उसे मालूम न था कि क्या कदम उठाना चाहिए ?
    तताँरा का मन कार्यक्रमों की ओर क्यों नहीं था ?

    Aवामीरो के प्रेम में पूरी तरह खोया हुआ था
    Bवामीरो की सुंदरता में मुग्ध था
    Cवामीरो के गीतों की मधुर ध्वनि में मुग्ध था
    Dवामीरो के रुदन स्वरों को सुनकर खोया हुआ था

Similar Questions