Doubtnut Promotions Sticky

असंतृप्त हाइड्रोकार्बन योगात्मक अभिक्रियाएँ देते हैं। समझाइए।

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

कार्बनिक यौगिकों में असंतृप्तता, उनमें उपस्थित एक या अधिक द्वि-आबन्धों या त्रि-आबन्धों के कारण होती है, जिनमें कि π -आबंध होते हैं। चूँकि ये आबंध समपार्श्विक अतिव्यापन से बनते हैं, अतः ये दुर्बल होते हैं। ये आसानी से स्थायी σ -आबंधों में परिवर्तित हो सकते हैं और ऐसा योगात्मक अभिक्रियाओं में होता है। अतः असंतृप्त यौगिक योगात्मक अभिक्रियाओं में भाग लेते हैं।

Was this answer helpful?940
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions