Doubtnut Promotions Sticky

जब हम किसी सरल लोलक के गोलक को एक ओर ले जाकर छोड़ते हैं तो यह दोलन करने लगता है। इसमें होने वाले ऊर्जा परिवर्तनों की चर्चा करते हुए ऊर्जा संरक्षण के नियम को स्पष्ट कीजिए। गोलक कुछ समय पश्चात् विराम अवस्था में क्यों आ जाता है? अंतत: इसकी ऊर्जा का क्या होता है? क्या यह ऊर्जा संरक्षण नियम का उल्लंघन है?

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

जब किसी सरल लोलक के गोलक को एक ओर ले जाकर छोड़ा जाता है तो यह दोलन करने लगता है। माना कि गोलक को बिन्दु B से छोड़ा जाता है तो माध्य स्थिति A से होते हुए बिन्दु C तक पहुंचती है। पुनः C से वापस B पर पहुंचती है। इस तरह बिन्दु B पर अधिकतम स्थितिज ऊर्जा होती है यहाँ कोई गतिज ऊर्जा नहीं
ocr_image
होती है। पुनः जब गोलक माध्य स्थिति A पर पहुँचता है तो यहाँ अधिकतम गतिज ऊर्जा होती है, कोई स्थितिज ऊर्जा नहीं होती है। ठीक इसी तरह गोलक पुनः बिन्दु A से बिन्दु C पर पहुंचती है तो इस बिन्दु पर अधिकतम स्थितिज ऊर्जा होती है, कोई गतिज ऊर्जा नहीं होती है। अतः अधिकतम स्थितिज ऊर्जा अधिकतम गतिज ऊर्जा में तथा अधिकतम गतिज ऊर्जा अधिकतम स्थितिज ऊर्जा में बदल जाती है जो ऊर्जा संरक्षण नियम को स्पष्ट करता है। हवा के घर्षण के कारण गोलक धीरे-धीरे विराम अवस्था में आ जाता है तथा सम्पूर्ण गतिज ऊर्जा ऊष्मा ऊर्जा में परिणत हो जाता है। अर्थात्, ऊर्जा का एक रूप से दूसरे रूप में रूपान्तरण हो जाता है।

Was this answer helpful?870
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions