Doubtnut Promotions Sticky

कार्बन-14 का उपयोग कार्बनिक पदार्थों की आयु का निर्धारण करने में किया जाता है। यह प्रक्रम 14C के निर्माण पर आधारित है, जो ऊपरी वायुमंडल में न्यूट्रॉन के पकड़ने से होता है।
147N+0n1146C+1n1
14C सजीवों द्वारा प्रकाश संश्लेषण के दौरान अवशोषित की जाती है। सजीवों में 14C की मात्रा स्थिर होती है, यदि एक बार पौधा या प्राणी मर जाता है, तब कार्बन डाईऑक्साइड का लेना रुक जाता है और मृत में 14C का स्तर इसके विघटन के कारण गिर जाता है।
146C147N+β
14C का अर्धआयु काल 5770 वर्ष है।
विघटन स्थिरांक की गणना करने के लिए निम्न सूत्र का उपयोग करते हैं। λ=0.693t1/2
मृत पदार्थ की β - सक्रियता की तुलना परिवहन में उपस्थित कार्बन से करना, उस पदार्थ का सजीव चक्र से अलग होने के समय को मापने योग्य बनाता है।
इस विधि द्वारा 30,000 से अधिक लंबे काल को हम सत्यता से ज्ञात कर सकते हैं। सजीवों में 14C का 12C से अनुपात 1:1012 है।
आसपास के क्षेत्रों में C14 की सांद्रता बढ़ने से नाभिकीय विस्फोट हो जाता है। आसपास के क्षेत्रों में C14 सांद्रता C1है और दूर के क्षेत्रों में C14 सांद्रता C2 है। यदि जीवाश्म की आयु इन स्थानों पर क्रमशः T1और T2 ज्ञात की जाये तब

A

विस्फोट के स्थान पर जीवाश्म की आयु बढ़ जायेगी तथा T1T2=1λInC1C2

B

विस्फोट के स्थान पर जीवाश्म की आयु घट जायेगी तथा T1T2=1λInC1C2

C

जीवाश्म की निर्धारित की गई आयु समान रहेगी।

D

T1T2=C1C2

Video Solution
Doubtnut Promotions Banner
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


सभी रेडियोएक्‍टिव विघटन प्रथम कोटि की अभिक्रिया के उदाहरण है। अतः विघअन स्थिरांक λ=1T1T2InC1C2 समय पर सान्द्रता C1है तथा समय पर सान्द्रता C2 है अतः T1T2=1λInC1C2

|
Updated on:21/07/2023

Related Playlists


Similar Questions