Doubtnut Promotions Sticky

एक बिंदु स्रोत S जिसके लिए अपसारी कोण α है, से प्राप्त एक अपसारी किरणपुँज से एक काँच पट्टिका पर चित्रानुसार आपतित होता है | दो चरम किरणों का आपतन कोण बराबर है | यदि काँच पट्टिका की मोटाई t तथा अपवर्तनांक n है, तब निर्गत किरण का अपसारी कोण है
एक बिंदु स्रोत S जिसके लिए अपसारी कोण alpha है, से प्राप्त एक अपसारी किरणपुँज से एक काँच पट्टिका पर चित्रानुसार आपतित होता है | दो चरम किरणों का आपतन कोण बराबर है | यदि काँच पट्टिका की मोटाई t तथा अपवर्तनांक n है, तब निर्गत किरण का अपसारी कोण है

A

शून्य

B

α

C

sin1(1/n)

D

2sin1(1/n)

Video Solution
Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B


अपसारी कोण अपरिवर्तित रहेगा| क्योंकि काँच पट्टिका से निर्गत प्रत्येक किरण आपतित किरण के समांतर होगी परन्तु किरणें थोड़ा बाहर की ओर विस्थापित हो जाएँगी (चित्र में OA||BC तथा OD||EF)
ocr_image

|
Updated on:21/07/2023

Topper's Solved these Questions


Similar Questions