Home

>

Hindi

>

कक्षा 11

>

Biology

>

Chapter

>

कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन

>

समसूत्री विभाजन की किस अवस्था ...

समसूत्री विभाजन की किस अवस्था में दोनों अर्द्धगुणसूत्र एक दूसरे से पृथक होकर विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं, और अब इन्हें भविष्य के पुत्री केन्द्रकों के गुणसूत्र कहा जा सकता है?

Video Solution: समसूत्री विभाजन की किस अवस्था में दोनों अर्द्धगुणसूत्र एक दूसरे से पृथक होकर विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं, और अब इन्हें भविष्य के पुत्री केन्द्रकों के गुणसूत्र कहा जा सकता है?
adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

Updated On: 27-06-2022

लिखित उत्तर

प्रोफेजमेटाफेज एनाफेजटीलोफेज

Answer : C
Solution : एनाफेज में गुणसूत्रों के सेन्ट्रोमीयर्स दो भागों में विभाजित होना प्रारम्भ कर देते हैं, जिससे प्रत्येक पुत्री गुणसूत्र में एक सेन्ट्रोमीयर चला जाता है। पुत्री गुणसूत्रों में प्रतिकर्षण होता है, जिससे वे विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं। तंतु जो कि सेन्ट्रोमियर्स से जुड़े होते हैं, छोटे होते जाते हैं और गुणसूत्रों को ध्रुवों की ओर खींचते हैं।

उत्तर

Step by step video solution for समसूत्री विभाजन की किस अवस्था में दोनों अर्द्धगुणसूत्र एक दूसरे से पृथक होकर विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं, और अब इन्हें भविष्य के पुत्री केन्द्रकों के गुणसूत्र कहा जा सकता है? by Biology experts to help you in doubts & scoring excellent marks in Class 11 exams.

Question Details till 20/01/2023

Questionसमसूत्री विभाजन की किस अवस्था में दोनों अर्द्धगुणसूत्र एक दूसरे से पृथक होकर विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं, और अब इन्हें भविष्य के पुत्री केन्द्रकों के गुणसूत्र कहा जा सकता है?
Chapter Nameकोशिका चक्र और कोशिका विभाजन
SubjectBiology (more Questions)
Class11th
Type of AnswerVideo
Question Language
In Video - Hindi
In Text - Hindi
Students Watched73 +
Students Liked29 +
Question Video Duration3m9s

Transcript

हेलो फ्रेंड्स प्रश्न है समसूत्री विभाजन की किस अवस्था में दोनों अर्ध गुणसूत्र एक दूसरे से प्रथक होकर विपरीत ध्रुव की ओर गति करने लगते हैं अब इन्हें भविष्य के पुत्री केंद्र को के गुणसूत्र कहा जा सकता है तो दोस्तों हमें बताना है कि समसूत्री विभाजन की कौन सी अवस्था है जिसमें दोनों गुणसूत्र जो दोनों अर्थ गुणसूत्र होते हैं एक दूसरे से अलग होकर विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं ठीक है तो दोस्तों जो समसूत्री विभाजन होता है ठीक है क्या होता है समसूत्री विभाजन टिकट दोस्तों समसूत्री विभाजन में जो केंद्र को विभाजन की ठीक है क्या होता है केंद्रक विभाजन की चार अवस्थाएं होती है प्रोफेज मेटा फेसिना पे जो तिल ओं फेस

दोस्तों जो केंद्र विभाजन की एनाफेज अवस्था होती है ठीक है कौन सी अवस्था होती है एनाफेज अवस्था ठीक है इस अवस्था में क्या होता है कि जो अर्थ गुणसूत्र होते हैं ठीक है सोते हैं और 2 गुणसूत्र यह विपरीत ध्रुवों की ओर ठीक है विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं ठीक है अगर इसमें चाहिए चित्र के माध्यम समझे तो दोस्तों हमने यहां पर इन ऑफिस अवस्था का चित्र लिया है ठीक है इसमें जो गुणसूत्र होते इनके दो क्या होती है भुजाएं होती है ठीक है तो यह दोनों भुजा जी ने क्या-क्या दर्द गुणसूत्र हम कह रहे हैं यह दोनों ही विपरीत ध्रुवों की ओर क्या करने लगे हैं गति करने लगे हैं और इन्हें क्या कहा जाता है

पुत्री केंद्र के गुणसूत्र कह सकते हैं ठीक है तो फिर हम बात करें विकल्पों की तो पहला है यहां पर प्रोफेसर दूसरा है बेटा फिर तीसरे एनाफेज और चौथा और आखिरी विकल्प है पी लो ठीक है तो दोस्तों प्रोफाइल अवस्था में क्या होता है कि जो केंद्रक झिल्ली ठीक है भूत होते हैं यह संघनित होते हैं जहां पर मनसोत्र विधु प्रगति नहीं करते हैं मेटा फेस अवस्था में क्या होता है कि जो गुणसूत्र होते हैं ठीक है यह मध्य रेखा पर ठीक है गुणसूत्र मेटा फेसप्लेट बनाते हैं कि मध्य रेखा पर आकर क्या हो जाते हैं व्यवस्थित हो जाते हैं ठीक है और एनाफेज अवस्था में गुणसूत्र विपरीत ध्रुवों की ओर गति करने लगते हैं और पी लो फिर अवस्था में होता है दो केंद्रों को का निर्माण हो जाता है और कोशिका जो है यह

कुछ कदम विभाजन के लिए तैयार होती है ठीक है तो यहां पर हमारा उत्तर होगा तीसरा विकल्प धन्यवाद

संबंधित Biology वीडियो

Show More