Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

नाभिकीय भौतिकी

>

किसी रेडियोएक्टिव प्रक्रम में ...

किसी रेडियोएक्टिव प्रक्रम में माना कोई नाभिक A अक्षांक `lamda_(A) के साथ किसी अन्य नाभिक B में बदल रहा है । नाभिक B स्वंय भी रेडियोएक्टिव है तथा क्षयांक `lamda_(B)` के साथ एक अन्य नाभिक C में बदल रहा है । माना लीजिए किसी समय t पर A व B के नाबिकों की संख्या `N_(A)` तथा `N_(B)` हैं । वह प्रतिबंध ज्ञात कीजिए जब B के परमाणुओं की संख्या नियत हो जाती है ।

लिखित उत्तर

Solution : किसी अल्प समय अन्तराल t से t + dt के मध्य मूल नाभिक A के क्षय होने वाले नाभिकों की संख्या `lamda_(A) N_(A)`dt होगी । यह इस अन्तराल में उत्पन्न होने वाले संतति (daughter) नाभिकों B की उत्पत्ति की संख्या भी होगी । B से C में क्षय के कारण इसी समय अन्तराल में B के क्षयति नाभिकों की संख्या `lamda_(B)N_(B)dt` होगी नाभिक B के नाभिकों की संख्या नियम होगी यदि इनकी उत्पत्ति की दर इनके क्षय की दर के बराबर हों , अर्थात् <br> `lamda_(A)N_(A) dt = lamda_(B) N_(B) dt` <br> या `lamda_(A) N_(A) = lamda_(B) N_(B)`

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased

संबंधित वीडियो

Show More