Getting Image
Please Wait...

Home

>

Hindi

>

कक्षा 11

>

Physics

>

Chapter

>

कणों के नियम तथा घूर्णी गति

>

कोणीय संवेग से क्या तात्पर्य ह...

Updated On: 27-06-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo and get the answer completely free,

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Solution : किसी कण के रैखिक संवेग का किसी घूर्णन अक्ष के परितः आघूर्ण, कण का कोणीय संवेग कहलाता है। <br> अर्थात् कोणीय संवेग = रेखीय संवेग x घूर्णन अक्ष से लंबवत् दूरी <br> इसका SI मात्रक जूल-सेकण्ड है। यह एक सदिश राशि है।

Loading Books

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

नमस्कार दोस्तों हमसे पूछा गया कोणीय संवेग से क्या तात्पर्य यह सदिश राशि है या अदिश राशियां तो कोनी समेत हमारा क्या होता है देखो यहां पर अगर हमको नियत ज्ञात करना चाहते हैं जैसे की हमारे एक ही यहां पर समय की बात करते हैं 3:00 के समय क्या था अंतर्मन के करें विवेक से गतिमान है तो यह हमारा रेखीय संवेग अगर यहां पर बात करो तो रेखीय संवेग यहां पर क्या होगा यह होगा am.pm भी वहां पर संपर्क में क्या दिखा रहा हूं तो पी स दूसरे के समय की दिशा क्या होगी वह किस दिशा की तरफ होगी अब मैंने क्या किया कि यहां पर कोणीय संवेग याद करना चाहता हूं तो देखो कौन है सर मैंने क्या किया कि यहां से गतिमान रखे पथ में हमें क्या करता हूं इसका आघूर्ण ले ले तो किसी बिंदु के साथ ही इस बिंदु के साथ ही बिंदु के साथ मैंने ढूंढ लिया तो देखो यहां पर हमारे पास क्या है एक ठीक है कौन बना रहा है यहां पर ठीक है तू ठीक ठाक हूं यहां पर बन रहा है यह 830 हमारा इस बिंदु से मैंने यहां पर यह वाला सतीश है जो हमारे अंदर मंत्र करें विवेक से गतिमान है तू

वाला जो एमबी जो यहां पर पी सदिश है या फिर मैं क्योंकि हमारा जो रेखीय संवेग रेखीय संवेग है तेरी कसम रेकी क्रिया लिखा कर आओगे यह होगी अगर इस क्रिया देखा कि मैं बात करूं कि लंबी दूरी से अगर गुनाह कर दूं तो यह क्या करूंगा ओपी दूरी मतलब कि लंबी दूरी की से अगर मैं इस समय दोगुना कर दो तो उसका अगुण कल आएगा तो यहां पर आज क्या हो जाएगा यह तो 4 कोस थीटा होगा यह साइन थीटा हो गया तू यहां पर पीस हम एक हैं हमारा भी यहां पर संवेग अरे के समय गुना उसका अब उनके लिए तो आप साइन थीटा मतलबी नंबर दूरी से गुनाह कर दिया तो यहां पर मैं क्या लिखूं आक्रोश भी भी लिख सकता हूं अगर मैं सदिश रूप में निरूपित करना चाहूं तो यह तो यह तो क्या हमारा गुणनफल है और यह हमारा क्या सदिश गुणनफल तो यह हमारा क्या होगा लाता है कौन संवेग कोणीय संवेग और यहां पर ही कोणीय संवेग और किस प्रकार से बता सकता हूं मैं रेखीय संवेग का गुण भी बोल सकता हूं रेखीय संवेग का

आगमन इस प्रकार हमारा कोणीय संवेग हो गया अब यहां पर कौन है समय का हमारा 70 तो आ गया यहां पर और यह क्या एक सदिश गुणनफल है और और संवेग का सदिश गुणनफल सदिश गुणनफल तो सर इस * हो गया एक तरह से अगर सदिश गुणन है तो हमें पता है कि सभी स्वर्ण क्या होता है एक सदिश राशि ही आती है देखो जैसे कि हमारे पास दो है एक हमारे पास है संवेग एक व्यक्ति हमारे पास ए वेक्टर है ठीक है एक सेक्टर हमारे पास भी है 13020 हदीस है इन दोनों के बीच में हमारा छोटा कौन है अगर मैं इसका सदिश गुणन करना चाहूं इन दोनों सदनों का तो हमारे पास क्या है ए क्रॉस बी इस प्रकार कर सकता हूं और एक रोज भी आता है तो हमारी जो इसकी दिशा आती है जो इस देश के गुणनफल की दिशा आती है वह किस तरह आती है इन दोनों के नंबर मतलब कि अगर यह हमारे दोनों पृष्ठ में है तो इन दोनों की लंबवत मतलब कि यह वाला जो प्रश्न

नंबर तुम्हारा तो बाहर की तरफ आती हुई दिखाई देगी इस परीक्षा में या फिर अंदर की तरफ हो सकता हमारा जो सतीश है तो पृष्ठ के लंबवत हो गया एक तरह से तो यह एक सदिश होता है ठीक है सर इस गुणनफल मतलब कि उसकी एक दिशा होती है शरीर * या फिर दिशा के साथ मान होता है दिशा के साथ मान होगा इस राशि का किसका एक रोशनी का तो यहां पर हमसे पूछा था कि यह सभी सदस्य अदिश राशि सदिश राशि को नियत समय तो कोनी समय हमारा आक्रोश भी क्या है एक सदिश राशि और कोणीय संवेग से क्या तात्पर्य यह भी बता दिया धन्यवाद

Comments

Add a public comment...

By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details