Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Physics

>

Chapter

>

विद्युत आवेश एवं क्षेत्र

>

आवेश न तो उत्पन्न किया जा सकता...

Updated On: 27-06-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo and get the answer completely free,

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Answer : सत्य

Loading Books

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

दोस्तों प्रश्न हमको दिया है कि ना आवे ना तो उत्पन्न किया जाता है और ना ही नष्ट किया जाता है तो इसको समझने से पहले हम अबे समझ लेते हैं और आवेश समझने से पहले हम परमाणु की संरचना देख लेते हैं ताकि हम बाकी सारी चीजें समझ सके तो दोस्तों पर मालूम है क्या होता है एक नाभिक होता है और एक वृत्तीय कक्ष होता है जहां पर इलेक्ट्रॉन चक्कर लगाता कुछ इस तरीके से हम उसको समझ लेते हैं यह लाल रंग से मैंने बनाया है यह उसकी लेक टाउन का कक्ष हो गया ठीक है और यह काले रंग से यहां मदरसा देता हूं कि यह इलेक्ट्रॉन चक्कर लगाता है तो इसको हमें क्या लिख दूंगा यहां पर इसे दर्शा दूंगा ठीक है यह इलेक्ट्रॉनिक आवेशित रहता है ठीक है तो अब हम पढ़ने वाले हैं तो उसको यहां से देख सकते हैं यह रीना विचित्र रहता है इलेक्ट्रॉन और नाभिक पर क्या रहता है प्रोटॉन और न्यूट्रॉन तो दोस्तों अब जानते कि न्यूट्रॉन पर कोई आवाज नहीं होता यह सुन जावे सोता है ठीक है तो इसकी बात नहीं करेंगे हम आगे आगे हम प्रोटॉन को देखेंगे प्रोटॉन होता है धन आवेशित कण ठीक है

अभी हरियाणा में शीत युद्ध अनावश्यक यह दोनों एक दूसरे को मिलकर गिरा विचित्र क्यों नहीं कर देते क्योंकि इस पर एक बार लगता है इस तरह विद्युत का बल जिसकी वजह से यह जो इलेक्ट्रॉन है वह घूमते रहता है और यही स्थिर वैद्युत बल भी इस घूमते इलेक्ट्रॉन की जो बाहरी बल लगता है अभी केंद्रीय बल उसको बैलेंस करता है संतुलित करता है ठीक है अब केंद्रीय बल लगाकर इस तरीके से हम समझ सकते हैं अब उसके बाद दोस्तों हम जानते हैं कि यह रिना मैसेज करना है यह धरा मैसेज करना है यह दोनों एक दूसरे की आवेश को निर्देशित करने की क्षमता रखते हैं और यह तो हो गई परमाणुओं की बात बहुत सारे परमाणुओं से मिलकर बना होता है कोई पदार्थ तो उस पदार्थ पर जो कुल धनात्मक कोणों की संख्या है यानी कि प्रोडक्टों की संख्या गोकुल इलेक्ट्रॉनों की संख्या के बराबर हो जाएगा क्योंकि एक परमाणु में सामान प्रोटॉन और सामान इलेक्ट्रॉन पाए जाते हैं मतलब धनात्मक और ऋण आत्मक की संख्या 11 थी सामान तो किसी पदार्थ में पुराणों की संख्या

रवि किशन के दोनों समान हो जाने से क्या हो जाएगा कुल आवेश जो रहेगा वह शून्य के बराबर हो जाएगा ठीक है दोस्तों आवेश होते हुए भी वह निरामिष है क्योंकि उस पर कोई स्पेसिफिक किया फिर कोई विशिष्ट आवेश श्री नाथ मक या फिर धनात्मक उपस्थित नहीं होने की वजह से कुल आवेश का मान सुना जाएगा क्योंकि जितने धनात्मक उतने दिन आत्मा को जाएंगे दोनों एक दूसरे को शून्य कर देंगे ठीक है दोस्तों इस तरीके से लिख सकते कि आवेश ना तो उत्पन्न में किया जाता है ना ही नष्ट किया जाता है केवल उसकी व्यवस्था में परिवर्तन किया जाता है ऐसा हम भी कह सकते हैं क्योंकि धनात्मक पूर्णांक पहले से रहते हैं हम केवल स्कूल सेपरेट करते अलग करते हैं ठीक है हम धनात्मक को एक जगह ऋण आत्मक को एक जगह ले जा सकते हैं जिससे क्या है अगर हम बैटरी की बात करें ठीक है तो किसी बैटरी पर क्या होता है एक टर्मिनल होता है धनात्मक दूसरा टर्मिनल होता है ऋण आत्मक तो हम क्या कह रहे थे इसको अभिषेक किए रहते हैं अभिषेक कैसे करते हैं उसके बहुत सारे साधन होते हैं दोस्तों साधन होता है कि किसी भी तरीके से इलेक्ट्रॉन को चलाना है जैसे

कि अगर हम सौर सेल की बात करें तो सूर्य से जो ऊर्जा आती है उसमें से हम फोटो उनके कानों के द्वारा इलेक्ट्रॉन को चाहे मांग बनाते हैं और उस इलेक्ट्रॉन के उत्सर्जन से क्या होता है यह ऋण आत्मक हो जाता है एक सिरा इस जैसे की है जो सौर प्लेट है इनमें दो तार निकलते जिम्मेदार में इलेक्ट्रॉन चलते हैं दूसरे दौर में ड्रोन वापस आता है ठीक है तो इलेक्ट्रॉन का क्या गति होता है इसे क्या होता है कि एक जगह के इलेक्ट्रॉन जो है वह दूसरी जगह पहुंच जाते हैं और एक जगह नहीं रहते तो एक जगह बस जाता है प्रोटॉन इस तरीके से एक हो जाता है पॉजिटिव एक हो जाता है नेगेटिव धनात्मक और ऋण आत्मक और इसको हम सिर्फ सूर्य के द्वारा उत्सर्जित वजह से ही नहीं घर धन से भी प्राप्त कर सकते हैं ठीक है इसी तरह अन्य स्त्रोतों से हम आवेश का ऑपरेशन कर सकते हैं या फिर उसको अगर हिंदी में बोले तो हम आदेशों का विभाजन करके दो अलग-अलग अवश्य प्राप्त कर सकते हैं या तो वह रहेगा धन आवेश या फिर रहेगा ऋण आवेश अगर

हम धन आवेश का निर्माण करते हैं तो हमको ऋण आवेश भी प्राप्त होगा क्योंकि दोस्तों अगर हम इनमें से अगर प्रोटॉन को अलग करने की कोशिश करेंगे तो इलेक्ट्रॉन बचरा इलेक्ट्रॉन को हटाएंगे तो प्रोटॉन बेच रहा है तो इस तरीके से हम जितना ऋण आवेश बनाएंगे उतना धन आवेश हमको प्राप्त होगा ठीक है ऐसे कि मैंने सोर्स ने बताया था कि जितनी मात्रा में प्रकाश उत्सर्जित होगी उतना इलेक्ट्रॉन क्या हो जाएगा उत्सर्जित हो जाएगा एक जगह से आकर दूसरे जगह मतलब वह गति करने लगेगा स्थानांतरित होने लगेगा मैं जितना इलेक्ट्रॉनिक स्थानांतरित होगा उतना प्रोटॉन क्या है खाली हो जाएगा उसी तरीके से हमने यहां पर बताया आपको कि इस तरीके से हम अब इसका विभाजन कर सकते

संबंधित वीडियो

Show More
Comments

Add a public comment...