Home

>

English

>

Class 10

>

Hindi

>

Chapter

>

Diksha

>

ईश्वर कण-कण में व्याप्त है पर ...

ईश्वर कण-कण में व्याप्त है पर हम उसे क्यों नहीं देख पाते ?

Text Solution

Solution : हमारा मन अज्ञानता, अहंकार विलासिताओं में डूबा रहता है। हमारे जीने का उद्देश्य भौतिक प्रगति ही करना है। हम ईश्वर को मन्दिर, मस्जिद जैसी बाहरी दुनिया में ढूँढ़ते हैं जबकि वह सब ओर व्याप्त है। इस कारण हम ईश्वर को नहीं देख पाते हैं।

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased