Login

Which of the following statements is true ?

Updated On: 17-04-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo
and get the answer completely free,
UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - NEET PREVIOUS YEAR ENGLISH Class 12 P-BLOCK ELEMENTS

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - NEET PREVIOUS YEAR ENGLISH Class 12 CHEMISTRY

Text Solution

Silican exhibits 4 coordination number in its compoundsBond energy of `F_(2)` is less than `Cl_(2)``Mn(III)` oxidation state is more stable than `Mn(II)` in aqueous stateElements of 15th group shows only +3 and +5 oxidation states

Answer :
B
Solution :
Bond energy of `F_(2)` is less than `Cl_(2)` because in `F_(2)` molecule electron-electron repulsion of `2p`-orbital of two function atom is maximum in comparison to the repulsion of `3p`-orbitals of two chlorine atom. So, less amount of energy is required to break the bond of `F_(2)` is comparison to `Cl_(2)`.

Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

hello everyone today's question is which of the following statement is true option a silicon exhibit 4 coordination number in its compound option b board energy of F2 is less than CL to option cm3 Oxidation state is more stable than MN + 2 Oxidation state in aqua solution option d elements of group 15 show only plus 3 and + 5 Oxidation State due to its large size can show maximum coordination number upto 6 due to large size it can accommodate more atoms aur group around also due to presence of D orbital it can expand its covalency S statement V energy of F2 is less than CL 2

this is true statement halogens are monovalent and after bonding they have three lone pair around each halogen these are structures of chlorine and fluorine molecule in chlorine molecule due to small size The Lone pair present on two flori repel each other at due to this repulsion bond dissociation become easy but in case of chlorine the repulsion between lone pair cannot help much in Association of bond dissociation energy of chlorine is greater than the third statement is incorrect because MN + 2 is more stable as compared to mn + Friedrich Oz in ml half filled stable configuration is the four statement is also was because group 15 elements can show - 32 + 5

state and its example is oxide of Nitrogen in oxide of Nitrogen all oxidation states are possible from + 12 + 5 similarly nitrogen in its elementary state can show 0 Oxidation State these are some example but group 15 elements can show - 32 + 5 Oxidation State according to this explanation S statement bond energy of F2 is less than cl2 is true thank you

Very Important Questions

<img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/GLD_HIN_PHY_QB_XII_09_E01_024_Q01.png" width="80%"> <br> चित्र में आँख की बनावट का एक सरलीकृत स्वरुप दिया गया है , जिसमे आँख पर आपतित पूरे प्रकाश के अपवर्तन को कॉर्निया से होता माना जाता है। कॉर्निया आँख का सबसे अगला भाग है , जो लगभग 2 सेमी के एक नियत फोकस दूरी वाली अभिसारी लेंस होता है। अनन्त से आनेवाली समानान्तर किरणें कॉर्निया से अपवर्तित होकर रेटिना पर फोकसित प्रतिबिम्ब बनाती है। रेटिना प्रतिबिम्ब बनने की सूचना को प्रकाश तंत्रिका के माध्यम से मस्तिष्क तक पहुँचाती है। <br> निकट दिष्टि दोष एवं दूर दोष आँख में होने वाले दो समान्तर बीमारियाँ है। निकट दिष्टि दोष या मायोपिया में दूर से आने वाली किरणें कॉर्निया से अपवर्तन के बाद दूरस्थ वस्तु का प्रतिबिम्ब रेटिना के सम्मुख बना देती है। दूर दिष्टि दोष या हाइपरोपिया में नजदीक की वस्तु का प्रतिबिम्ब कॉर्निया से अपवर्तन के बाद रेटिना से पीछे बनता है। दोनों दोषों को दूर करने के लिए उपयुक्त फोकस दूरी एवं प्रकृति का लेंस प्रयोग किया जाता है। कॉर्निया तथा प्रयुक्त लेंस का संयुक्त समूहन प्रतिबिम्ब को पुनः रेटिना पर ले आता है। यदि दूर की वस्तु को अनन्त पर मान जाए तब कॉर्निया से प्रतिबिम्ब की दूरी को निम्नलिखित सूत्र से ज्ञात किया जा सकता है : <br> `(1)/(f_c)+(1)/(f_(1)-x)=(1)/(v),f_(c)=` कॉर्निया की फोकस - दूरी <br> `f_(1)=` संशोधी लेंस की फोकस - दूरी <br> `x=` कॉर्निया एवं अतिरिक्त लेंस के बीच की दूरी <br> निकट दिष्टि एवं दूरी दिष्टि दोष को दूर करने के लिए क्रमशः किस प्रकृति का लेंस उपयोग किया जाना चाहिए ? [ मान लें कि `f_(c)=x`]
<img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/GLD_HIN_PHY_QB_XII_09_E01_025_Q01.png" width="80%"> <br> चित्र में आँख की बनावट का एक सरलीकृत स्वरुप दिया गया है , जिसमे आँख पर आपतित पूरे प्रकाश के अपवर्तन को कॉर्निया से होता माना जाता है। कॉर्निया आँख का सबसे अगला भाग है , जो लगभग 2 सेमी के एक नियत फोकस दूरी वाली अभिसारी लेंस होता है। अनन्त से आनेवाली समानान्तर किरणें कॉर्निया से अपवर्तित होकर रेटिना पर फोकसित प्रतिबिम्ब बनाती है। रेटिना प्रतिबिम्ब बनने की सूचना को प्रकाश तंत्रिका के माध्यम से मस्तिष्क तक पहुँचाती है। <br> निकट दिष्टि दोष एवं दूर दोष आँख में होने वाले दो समान्तर बीमारियाँ है। निकट दिष्टि दोष या मायोपिया में दूर से आने वाली किरणें कॉर्निया से अपवर्तन के बाद दूरस्थ वस्तु का प्रतिबिम्ब रेटिना के सम्मुख बना देती है। दूर दिष्टि दोष या हाइपरोपिया में नजदीक की वस्तु का प्रतिबिम्ब कॉर्निया से अपवर्तन के बाद रेटिना से पीछे बनता है। दोनों दोषों को दूर करने के लिए उपयुक्त फोकस दूरी एवं प्रकृति का लेंस प्रयोग किया जाता है। कॉर्निया तथा प्रयुक्त लेंस का संयुक्त समूहन प्रतिबिम्ब को पुनः रेटिना पर ले आता है। यदि दूर की वस्तु को अनन्त पर मान जाए तब कॉर्निया से प्रतिबिम्ब की दूरी को निम्नलिखित सूत्र से ज्ञात किया जा सकता है : <br> `(1)/(f_c)+(1)/(f_(1)-x)=(1)/(v),f_(c)=` कॉर्निया की फोकस - दूरी <br> `f_(1)=` संशोधी लेंस की फोकस - दूरी <br> `x=` कॉर्निया एवं अतिरिक्त लेंस के बीच की दूरी <br> एक व्यक्ति के कॉर्निया की फोकस दूरी 1.8 सेमी है , तथा वह दिष्टीदोष से मुक्त हेतु एक `f=-16.5` सेमी के संशोधी लेंस को आंख के कॉर्निया से `x=1.5` सेमी की दूरी पर उपयोग करता है। ऐसी स्थिति में दूरस्थ वस्तु से आने वाली किरणों का कॉर्निया से प्रतिबिम्ब दूरी होगी :
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details