Class 12
CHEMISTRY
हैलोजेन व्युत्पन्न

SN^(1) "तथा" SN^(2) अभिक्रिया में निम्नलिखित यौगिकों की क्रियाशीलता का क्रम कारण सहित बताइए-<br>(i) ब्रोमोब्यूटेन के चार समावयवी <br>CH_(3)-CH_(2)-CH_(2)-underset(Br)underset(|)(C)H_(2) CH_(3)-underset(Br)underset(|)(C)H-CH_(2)-CH_(3) (CH_3)_(2)CHCH_(2),(CH_3)_(3)C-Br <br>(ii) C_(6)H_(5)CH_(2)Br,C_(6)H_(5)CH(C_(6)H_(5))Br,C_(6)H_(5)CH(CH_3)Br,C_(6)H_(5)C(CH_3)C_(6)H_(5)Br

check-circle

Answer

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.
Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

5.3 K+

2.4 K+

check-circle

Text Solution

Solution :
(i) `CH_(3)CH_(2)CH_(2)underset(1^@)(CH_2)Brltunderset(1^@)((CH_3)_(2))CHCH_(2)BrltCH_(3)CH_(2)underset(2^@)(CH)(Br)CH_(3)ltunderset(3^@)((CH_3)_(3))CBr(SN^1)` <br> `CH_(3)underset(1^@)(CH_(2)CH_(2))CH_(2)Brgtunderset(1^@)((CH_3)_(2))CHCH_(2)Brgtunderset(2^@)(CH_(3)CH_(2))CH(Br)CH_(3)gtunderset(3^@)((CH_3)_(3)CBr)(SN^2)` <br>`(CH_3)_(2)CH-` समूह का इलेक्ट्रॉनदाता प्रेरणिक प्रभाव (+I) अधिक होने के कारण दो प्राथमिक ब्रोमाइडों में से `(CH_3)_(2)CHCH_(2)Br` से निर्मित मध्यवर्ती कार्बोकैटायन, `CH_(3)CH_(2)CH_(2)CH_(2)Br` से बने कार्बोकैटायन के अपेक्षा अधिक स्थायी होता है | अतः `SN^(1)` अभिक्रिया में `CH_(3)CH_(2)CH_(2)CH_(2)Br` की अपेक्षा `(CH_3)_(2)CHCH_(2)Br` अधिक क्रियाशील होगा | `CH_(3)CH_(2)CH(Br)CH_(3)` एक द्वितीयक ऐल्किल ब्रोमाइड है, जबकि `(CH_3)_(3)CBr` तृतीयक ऐल्किल ब्रोमाइड है, अतः `SN^(1)` अभिक्रिया के लिए अभिक्रियाशीलता का उपरोक्त क्रम होता है | `SN^(2)` अभिक्रिया में अभिक्रियाशीलता का उपर्युक्त क्रम विपरीत हो जाता है, क्योकि इलेक्ट्रॉनस्नेही कार्बन पर त्रिविम विन्यासी बाधा इसी क्रम में बढ़ती है |<br>(ii) `C_(6)H_(5)C(CH_3)(C_(6)H_(5))BrgtC_(6)H_(5)CH(C_(6)H_(5))BrgtC_(6)H_(5)CH(CH_3)BrgtC_(6)H_(5)CH_(2)Br(SN^1)` <br>`C_(6)H_(5)C(CH_3)(C_(6)H_(5))BrltC_(6)H_(5)CH(C_(6)H_(5))BrltC_(6)H_(5)CH(CH_3)BrltC_(6)H_(5)CH_(2)Br(SN^2)` <br>दोनों द्वितीयक ऐल्किल ब्रोमाइडों में से `C_(6)H_(5)CH(C_(6)H_(5))Br` से प्राप्त कार्बोकैटायन माध्यमिक, `C_(6)H_(5)CH(CH_3)Br` से प्राप्त होने वाले कार्बोकैटायन की अपेक्षा अधिक स्थायी होता है, क्योकि यह दो फेनिल समूहों के अनुनाद के कारण स्थायित्व प्राप्त कर लेता है | इसलिए, `SN^(1)` अभिक्रियाओं में पहला ब्रोमाइड दूसरे की अपेक्षा अधिक क्रियाशील होता है | फेनिल समूह मेथिल समूह से अधिक स्थूल (बड़ा) होता है, इसलिए `SN^(2)` अभिक्रियाओं में `C_(6)H_(5)CH(C_(6)H_(5))Br,C_(6)H_(5)CH(CH_3)Br` के अपेक्षा कम क्रियाशील होता है |

Related Videos

play
112171405

3.2 K+

7.4 K+

play
306990526

1.5 K+

29.5 K+

play
110476076

2.7 K+

53.2 K+

5:28
play
110476041

100+

2.5 K+

3:31
play
225670845

1.9 K+

4.3 K+

2:24
play
94843396

2.6 K+

8.4 K+

play
110476078

500+

12.4 K+

play
110476289

23.8 K+

99.0 K+

13:27
play
94845324

20.9 K+

67.7 K+

8:52
play
110477324

1.5 K+

1.7 K+

3:48
play
112171444

20.1 K+

58.6 K+

play
306990545

100+

2.5 K+

play
110476710

3.6 K+

73.0 K+

6:24
play
112171438

200+

4.8 K+

play
306990466

300+

7.2 K+

Very Important Questions

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details