Getting Image
Please Wait...
Login
Register now for special offers
+91

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Chemistry

>

Chapter

>

दैनिक जीवन में रसायन

>

 प्रतिरक्षी तंत्र क्या है ? यह...

Updated On: 27-06-2022

Get Answer to any question, just click a photo and upload the photo and get the answer completely free,

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

लिखित उत्तर

Solution : शरीर में विभिन्न प्रकार के विषाणुओं या ऐण्टीजन को नष्ट करने के लिए लिम्फोसाइट निर्मित होजाते हैं जो प्रतिरक्षी कहलाते हैं। ये प्रतिरक्षी विशेष प्रकार की श्वेत रक्त कणिकाएँ होती हैं। ये आक्रमणकारी जीव या विष को नष्ट करने हेतु एक विशेष प्रकार की ग्लोब्युलिन प्रोटीन बनाकर मुक्त करती हैं, ये प्रोटीन रक्त तथा ऊतक द्रव में संचरित होकर आक्रमणकारी विषाणु, जीवाणुओं तथा विष पदार्थों को नष्ट कर देती हैं। लिम्फोसाइट ऐण्टीजन को बाँध लेते हैं और स्वयं तेजी से विभाजित होत हैं। जिससे रक्त में प्रतिरक्षी की संख्या बढ़ जाती है जिससे ऐण्टीजन का प्रभाव नष्ट हो जाता है।

Loading Books

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Transcript

नमस्कार दोस्तों साथ करता हूं आप सभी का आप का प्रश्न प्रतिरक्षी तंत्र क्या है यह है किस प्रकार विकसित होता है ठीक है तो आइए हम अपने प्रश्न के उत्तर को समझते हैं तथा यह देखते हैं कि जो प्रतिरक्षी तंत्र या मार्क किस प्रकार विकसित होता है ठीक है तो जो प्रतिरक्षी तंत्र है यह कुछ इस प्रकार से मार परिभाषित होता है कि जब शरीर में विभिन्न प्रकार के विषाणु या एंटीजन को नष्ट करने के लिए लिंफोसाइट निर्मित हो जाता है जो प्रतिरक्षी कहलाते हैं और यही जो प्रतिरक्षी हैं यह मिलकर आपस में ठीक है यह एक प्रतिरक्षी तंत्र का निर्माण करते हैं ठीक है यानी कि इम्यून सिस्टम कहलाते हैं ठीक है यानी कि किसी भी व्यक्ति का यदि से इम्यून सिस्टम जितना ज्यादा अधिक जो है मजबूत होगा वह बाहर के विषाणु से लड़ने में वह जो उसका शरीर जो है उतना ही सशक्त होगा ठीक है तो इसको जो है अब हम यहां पर लिख लेते हैं कि शरीर में विभिन्न

आर के विषाणु या एंटीजन शरीर में विभिन्न प्रकार के विभिन्न प्रकार के विषाणु हो या एंटीजन को नष्ट करने के लिए विशाल या एंटीजन को एंटी जन को नष्ट करने के लिए करने के लिए लिंफोसाइट निर्मित हो जाते हैं ठीक है इसको यहां पर हम थोड़ा जो है लेट कर लेते हैं लिंफोसाइट ठीक है यह जो लिंफोसाइट निर्मित होते हैं यही हमारा प्रतिरक्षी तंत्र कहलाता है वह प्रतिरक्षी कहलाते हैं ठीक है तो लिंफोसाइट निर्मित हो जाते है ठीक है साइड निर्मित हो जाते हैं जो प्रतिरक्षी कहलाते हैं

जो प्रतिरक्षी कहलाते हैं ठीक है तू जो है प्रतिरक्षी किसे कहते हैं हमें समझ में आ गया कि जो हमारे शरीर में जैसे कि के कभी भी किसी वायरस का या विषाणु का अटैक होता है तो उन को नष्ट करने के लिए शरीर में उपस्थित जो श्वेत रक्त कणिकाएं होती हैं वह लिंफोसाइट को निर्मित करती हैं यह जो लिंफोसाइट होते हैं यही प्रतिरक्षी कहलाता है और यही जब आपस में सहयोग करके एक तंत्र का निर्माण कर लेते हैं तो यही हमारा प्रतिरक्षी तंत्र कहलाता है तो जैसे कि आजकल हम देख सकते हैं यहां पर जो करो ना चल रहा है कोरोनावायरस है जो यह इसको जो है यदि कहा भी जा रहा है कि मनुष्य की जो है प्रतिरक्षी तंत्र मजबूत हो जाए ठीक है यानी कि यदि उसका स्ट्रांग होगा यह वायरस से लड़ने में उसकी सहायता करेगा ठीक है और उसके फल स्वरूप क्या होगा कि यदि वह व्यक्ति का खानपान अच्छा करेगा योग प्राणायाम करेगा तो जिसके कारण उसमें जो इस वक्त श्वेत रक्त कणिकाओं की संख्या बढ़

जाएगी और जो इंफोसाइट का अधिक से अधिक निर्माण होगा जिसके कारण वह बाहर से जो वायरस का टाइप होगा शरीर में उससे लड़ने में उसकी सहायता करेगा ठीक है तो इस प्रकार से जो है यह हमारे जो इम्यून सिस्टम है यह बाहर के से अटैक किए गए भारत के खिलाफ लड़ने का कार्यकर्ता और शरीर को मजबूती प्रदान करता है ठीक है तो इस प्रकार से यह हमने समझा कि जो प्रतिरक्षी होते हैं यह क्या कहलाते हैं अब जैसे कि सब पूछ रहा है कि यह किस प्रकार विकसित होता है ठीक है तो इसको भी समझ लेते हैं कि यह जो प्रतिरक्षी होते हैं विशेष प्रकार की श्वेत रक्त कणिकाएं होती जैसे कि हमने बता दी कि श्वेत रक्त कणिकाएं होती हैं ठीक है पर यह आक्रमणकारी जी व्यास को नष्ट करने हेतु एक विशेष प्रकार की ग्लोब्युलिन प्रोटीन बनाकर मुक्त करती है और यह प्रोटीन रक्त तथा उत्तर में संचालित हो जाता है और आक्रमणकारी विषाणु जीवाणु तथा विद्यार्थियों को नष्ट कर देती है ठीक है और जो लिंफोसाइट होते हैं वे एंटीजन को बांध लेते हैं और स्वयं तेजी से विभाजित हो जाते हैं ठीक है ना यही लिंफोसाइट जो होते हैं जैसे ही कोई भी वायरस होता है उस को चारों ओर से घेर लेते हैं और स्वयं अपनी

संख्या को इतनी बढ़ा देते हैं कि वह उस वायरस को खत्म कर देते हैं ठीक है यानी कि उसको नष्ट कर देते हैं और जिसे जो रक्त में उपस्थित जो प्रतिरक्षी तंत्र होती उसकी संख्या बढ़ जाती है प्रत्याशियों की जैसे हम एंटी जानकारी जो है वह नष्ट करने में सहायक होती हैं ठीक है तो इस कारण से जो हमारे एंटीजन यानी विषाणु जो है वह नष्ट हो जाते हैं ठीक है इस प्रकार से पूर्ण का विकास होता है तो इसको पहले आप नाम लिख लेते हैं तो जैसे कि यहां पर जो समाज के विकास की संपूर्ण विधि को लिखिए है कि यह जो प्रतिरक्षी बहुत है यह विशेष प्रकार की श्वेत रक्त कणिकाएं होती हैं यह आक्रमणकारी जी प्रवेश को नष्ट करने हेतु एक विशेष प्रकार की ग्लोब्युलिन प्रोटीन बनाकर मुक्त करती हैं और यह प्लॉट रक्त तथा उत्तर में संचालित होकर आक्रमणकारी विषाणु और जीवाणु तथा विश्व रातों को नष्ट कर देती हैं ठीक है और जो लिंफोसाइट होते हैं यह एंटीजन को बांध लेते हैं और चैन तेजी से विभाजित हो जाते हैं जिससे रक्त में प्रतिरक्षी की संख्या बढ़ जाती है जिससे एंटीजन का

प्रभाव नष्ट हो जाता है ठीक है तो इस प्रकार से जो है हमारा जो प्रतिरक्षी तंत्र होता है यह कार्य करता है ठीक है और हमें जो है बाहरी जो विषाणु का हमला होता है उससे बचाव करता हमारे शरीर की ठीक है तो इस प्रकार से हमारे प्रश्न का उत्तर पूर्ण होता है आशा करता हूं आप सभी को समझना होगा धन्यवाद

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this chapter - NAVBODH Class 12 दैनिक जीवन में रसायन

Click here to get PDF DOWNLOAD for all questions and answers of this Book - NAVBODH Class 12 CHEMISTRY
Comments

Add a public comment...