Home

>

English

>

Class 12

>

Chemistry

>

Chapter

>

Neet Test No 98

>

गलत कथन का चयन कीजिए। ...

गलत कथन का चयन कीजिए।

Text Solution

`NF_3` अणु में त्रिकोणीय पिरामिडी संरचना होती है `NF_3` व्यावहारिक रूप से जल में अविलेय है और जब जल वाष्प के साथ इसके मिश्रण में विद्युत स्पार्क को प्रवाहित किया जाता है तो यह केवल जल-अपघटित होता है। `NF_3` का द्विध्रुव आघूर्ण `NH_3` से अधिक होता है नाइट्रोजन (III) ऑक्साइड `(N_2O_3)` एक अम्लीय ऑक्साइड है।

Answer : C
Solution : `NH_3 (0.49xx10^(-29) cm)` का द्विध्रुव आघूर्ण `NF_3(0.07xx10^(-29)cm)` से अधिक होता है। यह इस तथ्य के कारण है कि `NH_3` में N - H बंध के द्विध्रुव आघूर्ण और अबंधित इलेक्ट्रॉन युग्म की दिशा संपाती होती है और इसलिए सभी द्विध्रुव आघूर्णों का सदिश योग बड़ा परिणामी द्विध्रुव आघूर्ण व्युत्पन्न करता है। इसके विपरीत, `NF_3` में, N – F बंध का द्विध्रुव आघूर्ण और अबंधित इलेक्ट्रॉन युग्म की दिशा विपरीत होती हैं, ताकि इन्हें जब योजित किया जाए तो ये आंशिक प्रतिपूरित कर सके। <br> <img src="https://d10lpgp6xz60nq.cloudfront.net/physics_images/NTA_HIN_NEET_TST_98_E02_040_S01.png" width="80%"> <br> A.ऊपर दिए गए चित्र से, यह स्पष्ट है कि `NF_3` की संरचना त्रिकोणीय पिरामिडी होती है <br> B.`2NF_3 + 3H_2O` (वाष्प) `to N_2O_3 + 6HF` <br> D. `N_2O_3(l) + H_2O (l) to underset"(अम्ल)"(2HNO_2(l))`

adfree_icon_web_accordion

Ab Padhai karo bina ads ke

Khareedo DN Pro and dekho sari videos bina kisi ad ki rukaavat ke!

Login if already purchased