Doubtnut Promotions Sticky

निम्नलिखित दो एमीनों अम्ल लाइसीन तथा ग्लूटेमीन डाइ पेप्टाइड बन्ध (dipeptide linkage) बनाते हैं। दोनों सम्भव डाइ पेप्टाइड क्या होंगे?
निम्नलिखित दो एमीनों अम्ल लाइसीन तथा ग्लूटेमीन डाइ पेप्टाइड बन्ध (dipeptide linkage) बनाते हैं। दोनों सम्भव डाइ पेप्टाइड क्या होंगे?

Text Solution
Verified by Experts

NH2 समूह तथा – COOH समूह के मध्य संघनन से पेप्टाइड बन्ध NHOC निम्न प्रकार बनाता है।
COOH+HNH−−H2O⎢ ⎢CONH⎥ ⎥
दिये गये एमीनों अम्लों लाइमीन ग्लूटेमीन में दो संभावित डाइपेप्टाइड (dipeptides) निम्न प्रकार बन सकते हैं
ocr_image
(ii) जब दोनों एमीनो अम्लों के αNH2 समूह प्रयोग किये जाते है किन्तु एक में टर्मिनल – COOH समूह प्रयोग होता है जिसमे αNH2 नहीं होता है।
ocr_image

|
Updated on:21/07/2023

Similar Questions


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    दिए गए अनुच्छेद को ध्यानपूर्वक पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्प छाँटिए। “प्रारम्भ से ही प्रकृति और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है। प्रकृति और मनुष्य का सम्बन्ध अन्योन्याश्रित और परस्पर सह-अस्तित्व पर निर्भर है। प्रकृति ने मानव के लिए जीवनदायक तत्त्वों को उत्पन्न किया। मनुष्य ने वृक्षों के फल, बीज, जड़ें आदि खाकर अपनी भूख मिटाई। पेड़-पौधे हमें केवल भोजन ही प्रदान नहीं करते अपितु जीवनदायिनी वायु, ऑक्सीजन भी प्रदान करते हैं। ये वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते हैं और ऑक्सीजन बाहर निकालते हैं। पृथ्वी पर हरियाली के स्रोत पेड-पौधे ही हैं। वर्षा के कारक यही पेड़ पौधे ही हैं। मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए वन-सम्पदा का अन्धाधुन्ध दोहन किया है, जिसके कारण प्राकृतिक असन्तुलन उत्पन्न हो गया है। पर्यावरण में ऑक्सीजन की कमी और कार्बन डाइ-ऑक्साइड की बढ़ोतरी तथा पर्यावरण प्रदूषण के कारण अनेक प्रकार की घातक बीमारियाँ फैल रही हैं। पेड-पौधों की कमी के चलते अनावृष्टि, सूखा और भूमि-क्षरण की समस्या पैदा हो गई है।"
    पर्यावरण असन्तुलन का दुष्परिणाम क्या नहीं है?

    Aपर्यावरण प्रदूषण के चलते घातक बीमारियों का बढ़ना
    Bपेड़-पौधे की कमी के कारण बाढ़, अनावृष्टि, सूखा और भूमि-क्षरण की समस्याएँ पैदा होना
    Cऑक्सीजन की कमी के कारण कार्बन डाइ-ऑक्साइड में बढ़ोतरी
    Dछायादार वृक्षों में फल नहीं लग पाना
  • Question 2 - Select One

    दिए गए अनुच्छेद को ध्यानपूर्वक पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों के सही विकल्प छाँटिए। “प्रारम्भ से ही प्रकृति और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है। प्रकृति और मनुष्य का सम्बन्ध अन्योन्याश्रित और परस्पर सह-अस्तित्व पर निर्भर है। प्रकृति ने मानव के लिए जीवनदायक तत्त्वों को उत्पन्न किया। मनुष्य ने वृक्षों के फल, बीज, जड़ें आदि खाकर अपनी भूख मिटाई। पेड़-पौधे हमें केवल भोजन ही प्रदान नहीं करते अपितु जीवनदायिनी वायु, ऑक्सीजन भी प्रदान करते हैं। ये वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते हैं और ऑक्सीजन बाहर निकालते हैं। पृथ्वी पर हरियाली के स्रोत पेड-पौधे ही हैं। वर्षा के कारक यही पेड़ पौधे ही हैं। मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए वन-सम्पदा का अन्धाधुन्ध दोहन किया है, जिसके कारण प्राकृतिक असन्तुलन उत्पन्न हो गया है। पर्यावरण में ऑक्सीजन की कमी और कार्बन डाइ-ऑक्साइड की बढ़ोतरी तथा पर्यावरण प्रदूषण के कारण अनेक प्रकार की घातक बीमारियाँ फैल रही हैं। पेड-पौधों की कमी के चलते अनावृष्टि, सूखा और भूमि-क्षरण की समस्या पैदा हो गई है।"
    पेड़-पौधे हमें क्या नहीं देते है?

    Aऑक्सीजन
    Bहरियाली
    Cभोजन
    Dजल