Doubtnut Promotions Sticky

500 K पर निम्नलिखित अभिक्रिया के लिए Kp का मान 0.497 है।
PCl5(g)PCl3(g)+Cl2(g)
यदि तीनों गैसों को एक दृढ बर्तन में इस प्रकार मिलाया जाये कि प्रत्येक गैस का आंशिक दाब आरम्भ में 1 वायुमण्डल हो तो सही प्रेक्षण है।

A

अधिक PCI5 प्राप्त होता है।

B

अधिक PCl3 प्राप्त होता है

C

50% अभिक्रिया पूर्ण होने पर साम्य स्थापित हो जाता है।

D

इनमें से कोई नहीं

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:A


अधिक PCI5 प्राप्त होता है।

|
Updated on:21/07/2023

Similar Questions


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    निम्नलिखित अभिक्रियाओं पर विचार कीजिए
    (i) PCl5(g)<PCl3(g)+Cl2(g)
    (ii) N2O4(g)<2NO2(g)
    उपरोक्त अभिक्रियाओं में नियत आयतन पर एक अक्रिय गैस का योग करने पर क्या होगा?

    APCl5 के साथ-साथ N2O4 के वियोजन में भी वृद्धि होगी
    BPCl5 के साथ-साथ N2O4 के वियोजन में भी कमी होगी
    CPCl5 के वियोजन में वृद्धि होगी और NO2 के निर्माण में वृद्धि होगी
    Dअभिक्रियाओं की साम्यावस्था बाधित नहीं होगी
  • Question 2 - Select One

    एक निश्चित ताप पर अभिक्रिया के लिए साम्यावस्था स्थिरांक, KC का मान 0.25 है,
    A(g)+B(g)C(g)+D(g)
    यदि हम 10 लीटर के पात्र में चार गैसों में से प्रत्येक का 1 मोल लेते हैं, तो A(g) की साम्यावस्था सांद्रता क्या होगी?

    A0.331 M
    B0.033 M
    C0.133 M
    D1.33 M
  • Question 3 - Select One

    अभिक्रियाPCl5(g)PCl3(g)+Cl2(g) के लिए: स्थिर ताप पर अग्र अभिक्रिया किस स्थिति में अनुकूलित होती है?

    Aस्थिर आयतन पर अक्रिय गैस का योजन
    Bस्थिर आयतन पर क्लोरीन गैस का योजन
    Cस्थिर दाब पर अक्रिय गैस का योजन
    Dइनमे से कोई नहीं