Doubtnut Promotions Sticky

अभिक्रिया N2(g)+O2(g)2NO(g) के लिए 200 K पर साम्य स्थिराँक 4×104 है। उत्प्रेरक की उपस्थिति में साम्य 10 गुना तेजी से स्थापित हो जाता है। अतः उत्प्रेरक की उपस्थिति में 200 K पर साम्य स्थिराँक का मान है:

A

40×104

B

4×104

C

4×103

D

अन्य आँकडों की आवश्यकता है।

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B


4×104

|
Updated on:21/07/2023

Similar Questions


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    2000 K पर अभिक्रिया N2(g)+O2(g)2NO(g) के लिए साम्यावस्था स्थिरांक 4×104 है। एक उत्प्रेरक की उपस्थिति में, साम्यावस्था दस गुना तेजी से प्राप्त होती है। इसलिए, 2000 K पर उत्प्रेरक की उपस्थिति में साम्यावस्था स्थिरांक है

    A40×104
    B4×104
    C4×103
    Dअधिक आँकड़ों के बिना गणना करना कठिन है
  • Question 2 - Select One

    अभिक्रिया P4(s)+5O2(g)P4O10(s) के लिए साम्य व्यंजक क्या है?

    AKC=[P4O10][5[P4][O2])
    BKC=1[O2]5
    CKC=[P4O10][P4][O2]
    DKC=[O2]5
  • Question 3 - Select One

    अभिक्रिया N2(g)+O2(g)2NO(g) के लिए, 800C पर KC का मान 0.1 है। इसी ताप पर KP का मान क्या है ?

    A0.5
    B0.01
    C0.05
    D0.1