Doubtnut Promotions Sticky

एक तत्व निम्नलिखित अभिक्रिया देता है।
X+2eX2, मुक्त ऊर्जा = 30.87ev/परमाणु मुक्त होने वाली ऊर्जा का प्रयोग 4 ग्राम H2 अणुओं को H+ 'तथा H* में वियोजित करने में प्रयोग की जाती है। यहाँ H* हाइड्रोजन परमाणु की उत्तेजित अवस्था है जिसमें इलेक्ट्रॉन उस कोश में गति करता है जिसकी परिधि उस इलेक्ट्रॉन की डी-ब्रोगली तरंगदैर्ध्य से चार गुनी है। X के आवश्यक न्यूनतम मोलों की संख्या है:
( H की I.E. = 13.6 V/परमाणु, H की बन्ध ऊर्जा = 4.526 ev/अणु)

A

1

B

2

C

3

D

4

Text Solution
Verified by Experts

The correct Answer is:B


2πr=4λ,n=4
कुल आवश्यक ऊर्जा + कुल मुक्त ऊर्जा = 0
2×4.526×NA+2×13.6×NA.+2×13.6
×(1116)×NA30.87×x×NA=0
x = 2 X के आवश्यक मोल = 2

|
Updated on:21/07/2023

Similar Questions


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    तृतीय बोर कक्षा में एक इलेक्ट्रॉन की डी-ब्रोग्ली तरंगदैर्ध्य है-

    A2πa0
    B4πa0
    C6πa0
    D8πa0
  • Question 2 - Select One

    हाइड्रोजन परमाणु में यदि इलेक्ट्रॉन n = 3 से n = 2 में गिरता है, तो उत्सर्जित ऊर्जा की मात्रा है -

    A0.65 eV
    B1.9 eV
    C10.2 eV
    D12.09 eV
  • Question 3 - Select One

    कक्षक में इलेक्ट्रॉन के उपस्थित होने की प्रायिकता है:

    A1
    B90-95%
    C70-80%
    D50-60%