Doubtnut Promotions Sticky

(i) निम्नलिखित काव्यांश में कौन - सा स्थायी भाव है ?
बाहर तैं तब नन्द बुलाएं देखौं धौं सुन्दर सुखदाई।
तनक - तनक सी दोष दंतुलिया देखौं, नैन सफल करौं आई।
(ii) हास्य रस का स्थायी भाव लिखिए।

Text Solution
Verified by Experts

(i) वात्सल्य रस
(ii) हास

|
Updated on:21/07/2023

Topper's Solved these Questions


Similar Questions


Knowledge Check

  • Question 1 - Select One

    हमें स्वतंत्र हुए 15 वर्ष ही हुए थे कि पड़ोसी चीन ने हमारी पीठ में छुरा भोंक दिया। उत्तरी सीमा की सफेद बर्फीली चोटियाँ शहीदों के खून से सनकर लाल हो गई। हज़ारों माँओं की गोदें सूनी हुई. हज़ारों की माँग का सिंदूर पुंछ गया और लाखों अभागे बच्चे पिता के प्यार से वंचित हो गए।
    गणतंत्र दिवस निकट आ रहा था। देश का हौसला पस्त था। कोई उमग नहीं रह गई थी पर्व मनाने की। तब यह सोचा गया कि जानी-मानी फिल्मी हस्तियाँ आयोजन में शामिल हों तो भीड़ उमड़ेगी। वहाँ कोई ऐसा गीत प्रस्तुत हो जो लोगों के दिलों को छूकर उन्हें झकझोर सके। चुनौती फिल्म जगत तक पहुँची। एक नौजवान गीतकार प्रदीप ने चुनौती स्वीकारने का मन बनाया और गीत लिखना शुरू किया। लेकिन सुर और स्वर के बिना गीत का क्या! प्रदीप संगीत निर्देशक सी. रामचंद्र के पास पहुंचे। उन्हें गीत पंसद आया और रक्षा मंत्रालय को सूचना दे दी गई।
    26 जनवरी का शुभ दिन आया। लाखों की भीड़ बड़ी उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही थी। तब तक जो धुन बज रही थी वह हटी और थोड़ी देर शाति रही। तभी उस शांति को चीरता हुआ लता मंगेशकर का वेदना और चुनौती भरा स्वर सुनाई पड़ा -"ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आँख में भर लो पानी।" समय जैसे थम गया। सभी के मन एक ही भाव, एक ही रस में डूब गए। गीत समाप्त हुआ तो लगभग दो लाख लोग सिसक रहे थे। आँसू थे कि थमते ही न थे।
    'उमड़ना' क्रिया का कौन-सा प्रयोग ठीक नहीं है?

    Aनदी उमड़ आई
    Bदूध उमड़ने लगा
    Cआँसू उमड़ चले
    Dभीड़ उमड़ पड़ी
  • Question 2 - Select One

    कल्पना' और 'व्यक्तित्व' की, पाश्चात्य समीक्षा-क्षेत्र में, इतनी अधिक मुनादी हुई कि काव्य के और सब पक्षों से दृष्टि हटकर इन्हीं दो पर जा जमी। 'कल्पना' काव्य का बोधपक्ष है। कल्पना में आई रूप-व्यापार-योजना का कवि या श्रोता को अन्त:साक्षात्कार का बोध होता है। पर इस बोध पक्ष के अतिरिक्त काव्य का भावपक्ष भी है। कल्पना को रूप योजना के लिए प्रेरित करने वाले और कल्पना में आई हुई वस्तुओं में श्रोता या पाठक को रमाने वाले रति, करुणा, क्रोध, उत्साह आश्चर्य इत्यादि भाव व मनोविकार होते हैं। इसी से भारतीय दृष्टि ने भावपक्ष को प्रधानता दी और रस के सिद्धान्त की प्रतिष्ठा की। पर पश्चिम में 'कल्पना'-'कल्पना' का पुकार के सामने धीरे-धीरे समीक्षकों का ध्यान भावपक्ष से हट गया और बोधपक्ष पर ही भिड़ गया। काव्य की रमणीयता पर हल्के आनन्द के रूप में ही मानी जाने लगी जिस आनन्द के लिए नई-नई सुन्दर भड़कीली और विलक्षण वस्तुओं को देखने जाते हैं। इस प्रकार कवि तमाशा दिखाने वाले के रूप में और श्रोता या पाठक तटस्थ तमाशबीन के रूप में समझे जाने लगे। केवल देखने का आनन्द कुछ विलक्षण को देखने का कौतुहल मात्र होता है।
    'कल्पना' काव्य का कौन-सा पक्ष है?

    Aभाव पक्ष
    Bबोध पक्ष
    Cरमणीय पक्ष
    Dअलंकार पक्ष
  • Question 3 - Select One

    हमें स्वतन्त्र हुए 15 वर्ष ही हुए थे कि पड़ोसी चीन ने हमारी पीठ में छुरा भोंक दिया। उत्तरी सीमा की सफेद बर्फीली चोटियाँ शहीदों के खून से सनकर लाल हो गई। हजारों माँओं की गोदें सूनी हुई, हजारों की माँग का सिन्दूर पुंछ गया और लाखों अभागे बच्चे पिता के प्यार से वंचित हो गए। गणतन्त्र दिवस निकट आ रहा था। देश का हौसला पस्त था। कोई उमंग नहीं रह गई थी पर्व मनाने की। तब यह सोचा गया कि जानी-मानी फिल्मी हस्तियाँ आयोजन में शामिल हों तो भीड़ उमड़ेगी। वहाँ कोई ऐसा गीत प्रस्तुत हो, जो लोगों के दिलों को छूकर उन्हें झकझौर सके। चुनौती फिल्म जगत् तक पहुँची। एक नौजवान गीतकार प्रदीप ने चुनौती स्वीकारने का मन बनाया और गीत लिखना शुरू किया। लेकिन सुर और स्वर के बिना गीत का क्या। प्रदीप संगीत निर्देशक सी. रामचन्द्र के पास पहुँचे। उन्हें गीत पसन्द आया और रक्षा मन्त्रालय को सूचना दे दी गई। 26 जनवरी का शुभ दिन आया। लाखों की भीड़ बड़ी उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही थी। तब तक जो धुन बज रही थी, वह हटी और थोड़ी देर शान्ति रही। तभी उस शान्ति को चीरता हुआ लता मंगेशकर का वेदना और चनौती भरा स्वर सनाई पडा-"ऐ मेरे वेतन के लोगों, जरा आँख में भर लो पानी।" समय जैसे थम गया। सभी के मन एक ही भाव, एक ही रस में डूब गए। गीत समाप्त हुआ तो लगभग दो लाख लोग सिसक रहे थे। आँसू थे कि थमते ही न थे।
    'उमड़ना' क्रिया का कौन-सा प्रयोग ठीक नहीं है?

    Aदूध उमड़ने लगा
    Bआँसू उमड़ चले
    Cभीड़ उमड़ पड़ी
    Dनदी उमड़ आई