logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Chemistry

>

Chapter

>

तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धांत एव प्रक्रम

>

सिलिका को परावर्तनी भट्टी में ...

सिलिका को परावर्तनी भट्टी में कॉपर के सल्फाइड अयस्क में मिलाया जाता है क्योंकि -

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 28-2-2021

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

300+

200+

check-circle

लिखित उत्तर

कॉपर के सल्फाइड अयस्क में अशुद्धि के रूप में आयरन होता है जिसे आयरन धातुमल के रूप में निकाला जाता है।सिलिका `Cu_(2)O` से क्रिया करके धातुमल बनाता है।सिलिका `Cu_(2)O` से Cu के अपचयन में सहायक होता है।कॉपर का सल्फाइड अयस्क सिलिका से क्रिया करके आयरन से पृथक हो जाता है।

Answer :
A
Solution :
कॉपर के साथ उपस्थित आयरन की अशुद्धियाँ आयरन सिलिकेट के रूप में निकल जाती हैं। <br> `FeO + SiO_(2) to underset("धातुमल ")(FeSiO_(3))`

संबंधित वीडियो

play
320058831

50.0 K+

1 M+

6:14
play
226112695

7.3 K+

151.1 K+

8:56
play
226112785

93.7 K+

205.7 K+

8:27
play
306954900

8.0 K+

169.0 K+

3:22
play
22544522

7.3 K+

146.9 K+

3:18
play
226112789

5.9 K+

125.9 K+

8:27
play
226112787

1.0 K+

22.4 K+

8:27
play
306956730

4.5 K+

98.3 K+

3:22
play
22544658

6.4 K+

132.0 K+

2:05
play
306954898

2.0 K+

45.2 K+

2:41
play
306956724

5.3 K+

112.1 K+

2:41
play
334964374

6.3 K+

134.2 K+

5:41
play
22546099

17.9 K+

362.5 K+

4:23
play
234320298

4.3 K+

88.3 K+

7:15
play
334963513

700+

16.4 K+

4:24

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details