logo
search
search
user
login
Login
HomeHindiकक्षा 12PhysicsChapterविद्युत चुंबकीय प्रेरण

सिद्ध कीजिए कि स्वप्रेरकत्व L ...

सिद्ध कीजिए कि स्वप्रेरकत्व L में धारा I_(0) स्थापित करने के लिए आवश्यक चुंबकीय ऊर्जा 1/2LI_(0)^(2) से दी जाती है।

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 31-3-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

7.1 K+

2.0 K+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
जब किसी कुडंली में बैटरी से धारा प्रवाहित की जाती है तो धारा को स्थायी मान `I_(0)` प्राप्त करने में कुछ समय लगता है। अत: कुंडली में प्रेरित विद्युत वाहक बल उत्पन्न हो जाता है, जो कुडंली में धारा के मान में वृद्धि का विरोध करता है। बैटरी द्वारा धारा के मान को 0 से स्थायी मान `I_(0)` तक बढ़ाने के लिए प्रेरित विद्युत वाहक बल के विरुद्ध कार्य किया जाता है । यह कार्य कुंडली में स्थितिज ऊर्जा के रूप में संचित हो जाता है । <br> मानलो किसी क्षण सूक्ष्म आवेश dq को परिपथ में चलाने के लिए बैटरी द्वारा किया गया कार्य dw है। <br> तब <br> `dW=(-epsilon)dq` <br> जहाँ `epsilon` प्रेरित विद्युत वाहक बल है। <br> या `dW=-(-L(dI)/(dt)).dq,` `[becauseepsilon=-L(dI)/(dt)]` <br> `=L.dI.(dq)/(dt)` <br> `=L.IdI,` `[becauseI=(dq)/(dt)]` <br> अत: कुंडली में धारा के मान को 0 से `I_(0)` तक बढ़ाने में किया गया कार्य <br> `W=underset(0)overset(I_(0))intdW=underset(0)overset(I_(0))intLIdI=Lunderset(0)overset(I_(0))intIdI` <br> `=L[(I^(2))/2]_(0)^(I_(0)=1/2LI_(0)^(2)` <br> यही कार्य कुंडली में स्थितिज ऊर्जा के रूप में संचित हो जाता है। अतः कुंडली में संचित ऊर्जा <br> `U=1/2LI_(0)^(2)`

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details