logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 12

>

Biology

>

Chapter

>

जैव प्रोद्यौगिकी -सिद्धांत व प्रक्रम

>

प्लाज्मिड वेक्टर पर टिप्पणी लि...

Question : प्लाज्मिड वेक्टर पर टिप्पणी लिखिए। <br> अथवा <br> प्लाज्मिडस कहाँ पाए जाते है? इनके क्या उपयोग है। <br> अथवा <br> प्लाज्मिडस की व्याख्या कीजिए। इसका उपयोग बताइए।

check-circle

उत्तर

Updated On: 9-11-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

18.4 K+

900+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
प्लाज्मिड वेक्टर (Plasmid Vector)- प्लाज्मिड जमीवाणु कोशिका में प्रकृतिक रूप से पाया जाने वाला दोहरे स्ट्रेण्ड वाला `D.N.A` अनु है जो केन्द्रकाभ (nucleoid) के गुणसूत्रीय `D.N.A` से बहार स्थित होता है। इसमें द्विगुणन प्ररम्भ स्थल (site for origin of replication) होता है तथा इनका विभाजन कोशिका विभाजन से अलग, स्वतंत्र रूप से होता है। प्लाज्मिड जीवाणु कोशिका में एक से लेकर सैकड़ो तक हो सकते है। डी०एन०ए० अनु जिसमे पोषक कोशिका में गुणन करनेव की क्षमते होती है तथा जिसमे क्लोन किए जाने वाले विजातीय `D.N.A` खण्ड को जोड़ा जा सकता है , (vector) वाहक कहलाता है। एक अच्छे वाहक में प्रतिकृतिकरण की उत्तपत्ति स्थल (ori), व्रणयोग चिहक (एन्टीबायोटिक प्रतिरोधी जीव) तथा क्लोनिंग स्थल उपस्थित होते है। <br> प्रकृतिक रूप से पाए जाने वाले प्लाज्मिड में सफल वेक्टर सभी गन नहीं होते। अतः अनुवांशिक इंजीनियरिंग द्वारा बदल लिया जाता है। अधिकतर प्लाज्मिडस में प्रतिजैविकरोधी जीन (antibiotic resistent gene) होते है। <br> सर्वाधिक प्रयोग में लाए जाने वाले प्लाज्मिड वेक्टर pBR 322 , पबर 327 तथा pUC है। उच्च पौधी में `T_(1)` प्लाज्मिड तथा `R_(1)` प्लाज्मिड का प्रयोग अधिक होता है। प्लाज्मिड का प्रयोग अनुवांशिक इंजीनियरिंग में किया जाता है। इसका उपयोग मानव इन्सुलिन, हेपेटाइटिस - B वैक्सीन आदिन के निर्माण में भी किया जाता है। <br> pBR 322 संवाहक (pBR 322 Vector) इस कृत्रिम संवाहक को ईरस्केरीकिया कोलोई के प्लाज्मिड से बनाया गया है। इनमे p का अर्थ है प्लाज्मिड तथा BR उन वैज्ञानिकों के नाम के प्रथमाक्षर है। pBR को बोलिवर व रोड्रीगेज (bolivar and rodrigej) ने तैयार किया था। इस प्लाज्मिड में 40 से भी अधिक पहचान ( अभिज्ञान ) स्थल है। इस संवाहक में दो प्रमुख प्रतिजैविको टेट्रासाइक्लिन तथा एमईसीलिन के लिए पररोधक क्षमता पायी जाती है। यह सर्वाधिक उपयोग किए जाने वाला प्लाज्मिड संवाहक है।

check-circle

चित्र समाधान

Find answer in image to clear your doubt instantly:

Question Details till 16/09/2021

Question
Chapter Nameजैव प्रोद्यौगिकी -सिद्धांत व प्रक्रम
SubjectBiology (more Questions)
Class12th
Type of AnswerVideo, Text & Image
Question Language
In Video - Hindi
In Text - Hindi
Students Watched18.4 K+
Students Liked900+
Question Video Duration3m47s

संबंधित Biology वीडियो

play
128453739

6.2 K+

126.8 K+

2:48
play
96578075

31.6 K+

72.1 K+

3:44
play
320057988

6.8 K+

141.5 K+

4:01
play
234320524

12.8 K+

26.1 K+

6:27
play
110476438

4.2 K+

85.9 K+

3:26
play
58125152

3.8 K+

78.9 K+

7:45

महत्वपूर्ण Biology प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details