logo
search
search
user
login
Login

Home

>

Hindi

>

कक्षा 11

>

Chemistry

>

Chapter

>

तत्वों का वर्गीकरण और गुणों में आवर्तिता

>

निम्न को बढ़ते हुए इलेक्ट्रॉन ल...

निम्न को बढ़ते हुए इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी के क्रम में व्यवस्थित करें। <br> (1) Be (2) B (3) C (4) N (5) O (6) F (7) Ne

check-circle

उत्तर

Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

Updated On: 13-12-2020

Apne doubts clear karein ab Whatsapp par bhi. Try it now.
CLICK HERE

Loading DoubtNut Solution for you

Watch 1000+ concepts & tricky questions explained!

3.7 K+

100+

check-circle

लिखित उत्तर

Solution :
`NeltBeltNltBltCltOltF` <br> (D) विघुतऋणता (Electronegativity) <br> `1.` किसी यौगिक में परमाणु की बन्धित इलेक्ट्रॉनों को अपनी ओर आकर्षित करने की आपेक्षिक क्षमता को उस परमाणु की विघुतऋणता कहते है। <br> `A to B` <br> `2.` विघुतऋणता को मापने के कई मापक्रम हैं जो विभित्र वैज्ञानिकों द्वारा दिये गये हैं - <br> (a) पॉलिंग मापक्रम (b) मुलीकन मापक्रम (c ) आलेड रोशों मापक्रम <br> (a) पॉलिंग मापक्रम ( Paulling scale )- यह सर्वाधिक प्रयुक्त स्केल है तथा बन्ध ऊर्जा आंकड़ों पर आधारित है। बन्ध A-B की वास्तविक बंध ऊर्जा `=(E_(A-A)xxE_(B-B))]^(1//2)` बन्ध ऊर्जा के प्रायोगिक मान से सदैव कम होती है। यह आधिक्य बन्ध ऊर्जा `(DeltaE)` कहलाती है। यह सह - संयोजी बन्ध में ध्रुवणता के कारण उतपत्र (arise) होती है तथा दोनों तत्वों की विघुतऋणताओं पर निर्भर करती है। <br> `DeltaE` = आधिक्य बन्ध ऊर्जा <br> `=E_(A-B)[E_(A-A)xxE_(B-B)]^(1//2)` <br> यदि बन्ध ऊर्जा किलो कैलोरी प्रति मोल में ली जाये तो तत्वों A तथा B की विघुतऋणता निम्न सम्बन्ध से दी जाती है -<br> `xx_(A)-xx_(B)=0.208(DeltaE)^(1//2` <br> S.I. इकाइयों में अर्थात् बन्ध ऊर्जा का मान k joule//mole में लेने पर उपरोक्त सम्बन्ध का रूप निम्नवत् हो जाता है - <br> `xx_(A)-xx_(B)=0.088(DeltaE)^(1//2)` <br> मुलीकन मापक्रम (Mulliken scale)- मुलीकन के अनुसार किसी तत्व की विघुतऋणता उसके आयनन एन्थैल्पी तथा इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी का ओसत होती है। <br> अर्थात् तत्व की विघुतऋणता <br> `=("इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी +आयनन एन्थैल्पी")/(2)` <br> पॉलिंग ने फ्लोरीन की विघुतऋणीयता `4.0` ( आवर्त सारणी में अधिकतम ) मानकर अन्य तत्वों के I.E. का मान होने पर उनकी विघुतऋणीयता की गणना की। <br> आयनन एन्थैल्पी तथा इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी का मान अधिक होने पर विघुतऋणीयता का मान अधिक होगा। <br> पॉलिंग तथा मुलीकन के स्केलों में परस्पर सम्बन्ध है -<br> `x_("पॉलिंग ")=(x_("मुलीकन"))/(2.8)` <br> (c ) आलरेड रोशो मापक्रम (Allred and Rochow scale ) सन `1958` में आलरेड रोशो ने विघुत ऋणता को प्रभावी नाभिकीय आवेश (Effective Nuclear Charge) `Z_(eff)` से परिकलित किया, उनके अनुसार, <br> विघुत ऋणता = `=0.744+(0.359Z_(eff))/(r^(2))` <br> r=सहसंयोजक त्रिज्या <br> `Z_(eff)=Z-sigma(sigma="परिरक्षण स्थिरांक है" )` इस विधि से प्राप्त विघुत ऋणता के मान पॉलिंग के द्वारा ज्ञात मानों से काफी मेल खाते हैं। <br> विघुत ऋणता को प्रभावी करने वाले कारक <br> (a) परमाण्वीय आकार - परमाण्वीय बढ़ने के साथ बाह्मतम इलेक्ट्रॉनों के प्रति नाभिकीय आकर्षण घटता जाता है अतः इनके विघुत ऋणता के मान भी घटते जाते हैं। <br> विघुतऋणता `prop(1)/("आकार ")` <br> `{:(Li,Be,B,C,N,O,F):}` <br> किसी आवर्त में बायें से दाये चलने पर <br> आकार घटता जाता हैं। <br> अतः बन्धित es पर नाभिकीय आकर्षण बल बढ़ता है। <br> अतः विघुत ऋणता बढ़ती है। <br> Li किसी वर्ग में ऊपर से नीचे की चलने पर <br> Na आकार क्रमश : बढ़ता जाता है। <br> K अतः बन्धित es पर नाभिकीय आकर्षण बल घटता जाता है। <br> Rb अतः विघुत ऋणता घटती है। <br> Cs <br> (b) प्रभावी नाभिकीय आवेश - किसी परमाणु के नाभिकीय आवेश में वृद्धि से बाह्मतम इलेक्ट्रॉनों के प्रति आकर्षण बढ़ता है, अतः विघुत ऋणता बढ़ती है। <br> विघुत ऋणता `prop` प्रभावी नाभिकीय आवेश <br> `{:(Li,Be,B,C,N,O,F):}` <br> किसी आवर्त में बायें से दाये चलने पर <br> प्रभावी नाभिकीय आवेश का मान क्रमश : बढ़ता है। <br> `:.` बन्धित es पर नाभिकीय आकर्षण बल बढ़ता है। <br> `:.` वैघुत ऋणता का मान बढ़ता है। <br> (c ) ऑक्सीकरण अवस्था ( oxidation state ) <br> विघुत ऋणता `prop` ऑक्सीकरण अवस्था <br> अतः ऑक्सीकरण अवस्था बढ़ने पर विघुत ऋणता बढ़ती है। <br> `O^(-)ltOltO^(+)` ( विघुत ऋणता का क्रम ) <br> `C^(-)ltCltC^(+)` ( विघुत ऋणता का क्रम ) <br> `Mn^(2+)ltMn^(+3)ltMn^(+4)ltMn^(+6)ltMn^(+7)` ( विघुत ऋणता का क्रम ) <br> उपरोक्त सदस्यों में बायें से दाये चलने पर <br> ऑक्सीकरण अवस्था क्रमश : बढ़ती है। <br> अतः आकार घटता जाता है। अतः विघुत ऋणता बढ़ती है। <br> (d) संकरण अवस्था (Hybridisation State) <br> यदि किसी तत्व की अपने विभित्र यौगिकों में संक्रमण अवस्था भिन्न - भिन्न हो तो उस तत्व की विघुतऋणता भी भिन्न होगी। जैसे - कार्बन तीन प्रकार की संक्रमण अवस्थायें प्रदर्शित करता है। <br> जैसे `BeH_(2),BH_(3)` व `CH_(4)` में उपस्थित केन्द्रीय परमाणु ( Be, B व C ) पर संकरण अवस्था क्रमश : sp, `sp^(2)` व `sp^(3)` है। <br> `{:(sp,sp^(2),sp^(3)):}` <br> नए कक्षक `{:(2,3,4):}` <br> `%s` गुण `{:(50%,33.33%,25%):}` <br> `%p` गुण `{:(50%,66.67%,75%):}` <br> अतः जिस संकरित कक्षक में `%s` गुण अधिक होगा वह आकार में छोटा होगा। [ क्योंकि s केन्द्र के अधिक निकट होता है। ] अतः वैघुत ऋणता अधिक होगी। अतः <br> `spltsp^(2)ltsp^(3)` (आकार क्रम ) <br> `spgtsp^(2)gtsp^(3)` `( %s गुण)` <br> `spltsp^(2)ltsp^(3)` `( %p गुण)` <br> `spgtsp^(2)gtsp^(3)` ( वैघुत ऋणता क्रम ) <br> अतः sp संकरण वाले तत्व की वैघुत ऋणता `sp^(2)` व `sp^(3)` संकरण वाले तत्वों से अधिक होगी। <br> कार्बन परमाणु अपने यौगिकों में तीन प्रकार की संकरण अवस्था प्रदर्शित करता है। <br> sp, `sp^(2)` व `sp^(3)` अतः sp संकरित C परमाणु की वैघुत ऋणता `sp^(2)` व `sp^(3)` संकरित C से अधिक होगी।

check-circle

चित्र समाधान

Find answer in image to clear your doubt instantly:

संबंधित वीडियो

play
313771201

4.7 K+

10.3 K+

2:31
play
226115266

12.1 K+

60.6 K+

4:50
play
320055367

800+

16.5 K+

4:55
play
226116917

4.2 K+

21.2 K+

3:15
play
320055366

2.0 K+

40.7 K+

3:25
play
226115269

4.7 K+

23.3 K+

5:07
play
226118531

3.0 K+

62.2 K+

2:52
play
306954900

8.0 K+

168.6 K+

3:22
play
320055370

2.4 K+

23.6 K+

6:56
play
306956730

4.5 K+

98.0 K+

3:22
play
127304480

1.7 K+

36.5 K+

4:20
play
223425037

6.5 K+

17.2 K+

3:05
play
306956731

200+

5.3 K+

2:30
play
334964847

1.1 K+

22.3 K+

8:48
play
306954901

200+

5.3 K+

2:30

बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न

bottom open in app
By using this site you agree to the use of cookies. Check our Cookie Policy for more details